Posted inकविता-शायरी

आपकी हिंदी-गृहलक्ष्मी की कविता

मैं भारत माँ की पुत्री हूँ , मैं आपकी अपनी हिंदी हूँहिन्द का सम्मान हूँ मैं , महासागर का मान  हूँ lअशोक महान के देश की हूँ मैं आपकी अपनी हिंदी हूँ lतुलसीदास की दोहावली हूँ मैं ,कबीरदास की साखी हूँ lभूषण की शिवा बावनी हूँ मैं , केशव की चन्द्रिका हूँमैं भारत माँ की […]