Posted inकविता-शायरी

पत्र लिखा है तुम्हें-गृहलक्ष्मी की कविता

पत्र नहीं मेरे मन की भड़ास है।अब तो भइया संदेश ही देनाअब क्यों उदास है।।फोटो भी नहीं भेजी तुमनेमन नहीं लग पाता है।वीडियो कॉल में देख लो जीसभी कुछ तो दिख जाता है।।पत्र लिखा है तुम्हेपत्र नहीं मेरे मन की भड़ास है।अब तो भइया संदेश ही देनाअब क्यों उदास है।।सभी कुछ पास होताफिर भी मानव […]