Posted inउपन्यास

सेक्सी आशिक – राजेन्द्र पाण्डेय

उन दिनों मैं बी.ए. फाइनल इयर में थी। मम्मी, पापा को छोड़कर वेदांत अंकल के साथ ही रहने लगी थी। महीने-दो-महीने में वह इधर का एक चक्कर लगाती और मुझसे मिलकर चली जाती। जहां तक मैं जानती थी, मम्मी-पापा में अलगाव का कारण सेक्स ही था। पापा से रवीना उम्र में बहुत ही छोटी थी। […]