googlenews
मानष भक्षी-21 श्रेष्ठ लोक कथाएं हिमाचल प्रदेश
Manas Bakshi

भारत कथा माला

उन अनाम वैरागी-मिरासी व भांड नाम से जाने जाने वाले लोक गायकों, घुमक्कड़  साधुओं  और हमारे समाज परिवार के अनेक पुरखों को जिनकी बदौलत ये अनमोल कथाएँ पीढ़ी दर पीढ़ी होती हुई हम तक पहुँची हैं

पुराने समय की बात है। किसी राज्य में जालिम सेन नाम का राजा राज्य करता था। अपने नाम के अनुरूप ही वह जालिम था। और तो और उसे आदमी का मांस खाने की भी आदत थी। उसके जुल्मों से लोग तंग थे किन्तु राजा के खिलाफ कौन मुंह खोले।

एक बार वह राजा अपने सिपाहियों के साथ शिकार खेलने के लिए जंगल चला गया। वे सारा दिन शिकार की तलाश में रहे किन्तु उन्हें शिकार नहीं मिला। रात भी उन्होनें वन में ही काटी। दूसरे दिन भी उनकी वही स्थिति बनी रही। चलते रहने और भूख से सभी के बुरे हाल थे। अब तो राजा जालिम सेन को मांस खाने की तलब भी हो आई थी। उसने सभी को बता दिया कि अब तो किसी आदमी का मांस ही खाना पड़ेगा। सभी सिपाही जानते थे कि जालिम सेन उन्ही में से किसी का मांस खाएगा। शिकार मिले या ना मिले राजा तो आदमी का मांस खाएगा ही। राजा किसी का नाम ले इससे पहले ही एक पहाड़ी सिपाही ने कहा- “महाराज, जिसके सिर पर चीड़ वृक्ष की कस्टी गिरे उसे ही काट लिया जाए। राजा झट मान गया और उसने यही आदेश सुनाया। चीड़ के पेड़ पर लगी कस्टियां बहुत सुन्दर दिखाई दे रही थी। सब जन पेड के नीचे खडे हो गए। अचानक एक कस्टी राजा जालिम सेन के सिर पर पड़ी। उस पहाड़ी सिपाही ने तुरन्त कहा- “राजा जी का आदेश मानों और तुरन्त इनका ही सिर काट लो।

एक सिपाही ने अपना दिल कड़ा किया और आव देखा ना ताव तुरन्त ढांखरू मार कर राजा का सिर धड़ से अलग का दिया। इस तरह मानष भक्षी राजा का अन्त हुआ और वे सिपाही राजधानी लौट आए। तो जी वे वहां और हम यहां।

भारत की आजादी के 75 वर्ष (अमृत महोत्सव) पूर्ण होने पर डायमंड बुक्स द्वारा ‘भारत कथा मालाभारत की आजादी के 75 वर्ष (अमृत महोत्सव) पूर्ण होने पर डायमंड बुक्स द्वारा ‘भारत कथा माला’ का अद्भुत प्रकाशन।’

Leave a comment