liquid fasting benefits

नवरात्रि के दिनों में लोग तरह-तरह के फूड आइटम्स बनाकर उसे खाना पसंद करते हैं। लेकिन अगर आप नवरात्रि व्रत पर मां की आराधना करते हुए खुद को लाभ पहुंचाना चाहती हैं, तो ऐसे में लिक्विड फास्टिंग करने पर विचार कर सकती हैं। लिक्विड फास्टिंग से न केवल आपको अपनी बॉडी की एनर्जी को रिस्टोर करने में मदद मिलती है, बल्कि यह उन लोगों के लिए भी एक फायदेमंद विकल्प है, जो वजन को कम करने की फिराक में हैं। इतना ही नहीं, चूंकि आप लिक्विड फास्टिंग के दौरान जूस, सूप, नारियल पानी व छाछ जैसे ऑप्शन को चुनते हैं, तो इस तरह व्रत रखने से आपकी बॉडी में पोषक तत्वों की कमी नहीं होती है।

लिक्विड फास्टिंग को यूं तो कभी भी किया जा सकता है, नवरात्रि व्रत में जब आप पूरियां व अन्य हैवी चीजें खाते हैं तो बीच-बीच में लिक्विड फास्टिंग करना अधिक बेहतर रहता है। लिक्विड फास्टिंग के दौरान विभिन्न तरह के फलों व सब्जियों के रस को ही बतौर आहार लिया जाता है। चूंकि, फल और सब्जियां आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करते हैं। जूस में कई सक्रिय घटक होते हैं, जो आपके स्वास्थ्य को बेहतर बना सकते हैं। मसलन, इसमें एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। साथ ही यह आपके इम्युन सिस्टम को भी बूस्टअप करता है। साथ ही साथ इस तरह फास्टिंग करने से आपको वजन कम करने में भी मदद मिलेगी। तो चलिए जानते हैं लिक्विड फास्टिंग के लिए कुछ बेहतरीन रेसिपीज और फायदे-

वाटरमेलन मिंट जूस

चूंकि तरबूज में पानी की मात्रा अधिक होती है, इसलिए इसे जूस के रूप में लेना एक अच्छा विचार है। साथ ही यह काफी मीठा होता है, तो आपको अतिरिक्त चीनी मिलाने की भी आवश्यकता नहीं होगी। आप इस जूस को बनाते समय इसमें मिंट मिला सकते हैं। यह आपके शरीर को ताजगी व ठंडक प्रदान करेगा। व्रत के दौरान इसे पीकर आप खुद को अधिक तरोताजा महसूस कर सकते हैं। इस पेय पदार्थ को बनाने के लिए आप सबसे पहले तरबूज को काट कर उसके बीज निकाल लें। अब तरबूज के कटे हुए टुकड़ों को ब्लेंडर में डालकर ब्लेंड कर लें। साथ ही, इसमें पुदीने के पत्ते, भुना जीरा पाउडर, काली मिर्च और सेंधा नमक डालें। अब आप इसमें थोड़ा सा नींबू का रस मिलाएं। इसे तब तक अच्छी तरह ब्लेंड करें जब तक यह एक स्मूद टेक्सचर न बन जाए। इस जूस को ठंडा-ठंडा ही पीएं।

बनाएं मैंगो लस्सी

नवरात्रि व्रत के दौरान दही खाना काफी अच्छा माना जाता है, लेकिन आप लिक्विड फास्टिंग के दौरान इसे बतौर छाछ नहीं पीना चाहते हैं तो मैंगो लस्सी बनाकर इसे पी सकती हैं। यह ना केवल आपको बार-बार लगने वाली भूख को नियंत्रित करेंगे, बल्कि आपके टेस्ट बड को भी शांत करेंगे। इसे बनाने के लिए सबसे पहले मीठे आम लेकर उसे धोकर छील लें और फिर उसे काटकर ब्लेंडर में ब्लेंड कर लें। अब इसमें दही और बर्फ के टुकड़े डालें। इसे एक बार फिर से ब्लेंड करें। अगर आप चाहें तो इसमें रोज एसेंस भी डाल सकती हैं।

अंगूर का रस

अंगूर का जूस पीने में बेहद ही लाजवाब होता है। अगर आपने इसे अभी तक ट्राई नहीं किया है, तो इसे एक बार जरूर बनाएं। इस फ्रूट जूस को बनाने का एक लाभ यह भी है कि इसके लिए आपको अलग से किसी सामग्री की जरूरत नहीं होगी। अगर आप चाहें तो केवल अंगूर का रस निकालकर उसे पी सकती हैं। चूंकि इनमें पानी की मात्रा बहुत अधिक होती है, इसलिए वे आपको अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रख सकते हैं।

इसे बनाने के लिए आप अपनी पसंद के अंगूर लें और उसे अच्छी तरह धो दें। अब, इन्हें एक बड़े कटोरे में डालें और पानी से भर दें। करीबन 4-5 मिनट तक इसे ऐसे ही भीगने दें। अब अंगूरों से अतिरिक्त पानी निकाल लें। अब आप अंगूर को एक ब्लेंडर में डालें। आप चाहें तो इसमें थोड़ा सा नीबू का रस भी डाल सकते हैं। इसके बाद, इसे अच्छे से ब्लेंड करें और सर्व करें। आप इसे बिना छाने ही पी सकती हैं, इससे आपको फाइबर कंटेंट भी मिलेगा।

पपीते का जूस

पपीते का सेवन करना पाचनतंत्र के लिए काफी अच्छा माना जाता है। अगर आप नवरात्रि व्रत के दौरान लिक्विड फास्टिंग पर हैं, तो पपीते का जूस बनाकर इसे पी सकती हैं। इसे बनाने के लिए पपीते को धोकर, छीलकर टुकड़ों में काट लें। अब, एक ब्लेंडर लें और उसमें पपीते के टुकड़े, ऑरेंज जूस, नींबू का रस, चीनी, काली मिर्च पाउडर, सेंधा नमक व थोड़ा ठंडा पानी डालकर अच्छी तरह ब्लेंड करें। इसे आप तब तक ब्लेंड करें, जब तक कि आपको एक स्मूद कंसिस्टेंसी ना मिल जाए।

Leave a comment