googlenews
bhootnath-novel-by-devkinandan-khatri-2
bhootnath by devkinandan khatri

दूसरे रोज दोपहर दिन चढ़ने के बाद वह औरत पुन: उसी जंगल में उसी ठिकाने पहुँची और उन दोनों आदमियों को अपने पहुँचने के पहिले ही से वहाँ एक चट्टान पर बैठे पाया। उसे देखने के साथ ही एक ने कहा, “हम लोग बहुत देर से आपका इंतजार कर रहे हैं।”

औरत : मेरे आने में कुछ देर तो हुई नहीं।

एक : ज्यादा नहीं मगर कुछ देर जरूर हुई।

औरत : (एक पत्थर पर बैठती हुई) शायद ऐसा ही हो।

दूसरा : खैर, सुनाइए क्या हाल है?

औरत : बस वही, जो कुछ कल मैं तुम लोगों को कह चुकी हूँ उससे ज्यादा कोई काम की बात मालूम न हुई, सिर्फ उतने ही से काम चलाना होगा।

पहिला : क्या आप निश्चित रूप से कह सकती हैं कि दयाराम फलानी जगह और फलाने की कैद में है?

औरत : जो कुछ मैंने कहा है उसमें किसी तरह का शक मत करो और विश्वास रखो कि दयाराम दारोगा साहब के कब्जे में है। चाहे दारोगा साहब ने उन्हें अपने घर में कैद रख छोड़ा हो या अपने किसी दोस्त के घर में, मगर वे हैं निश्चित रूप से दारोगा ही के कब्जे में।

एक : खैर, कोई चिंता नहीं, समझ लिया जाएगा, अच्छा इस विषय में कुछ कह सकती हो कि राजसिंह के यहाँ से निकल कर दारोगा के कब्जे में दयाराम क्यों कर जा फँसे?

औरत : इसका हाल मुझे कुछ भी नहीं मालूम है। राजसिंह के लड़के ध्यानसिंह ने जो चिट्ठी भूतनाथ को लिखी थी उसमें कैदखाने की तस्वीर दिखाने के अतिरिक्त केवल इतना ही लिखा है कि-‘बेशक् मेरे बाप ने दयाराम को पकड़ा था मगर वह अपनी सजा को पहुँच गया। भूतनाथ और दलीपशाह ने धोखा खाया। असल में दयाराम को जमानिया के दारोगा ने गिरफ्तार कर लिया। दयाराम अभी तक जीते हैं और जीते रहेंगे। दयाराम को अपने कब्जे में रख कर दारोगा अपना मतलब भूतनाथ से निकालने की इच्छा रखता है। भूतनाथ, सम्हलो और इस भेद को जानो। इस खबर के बदले में मैं तुमसे मित्रता की भिक्षा माँगता हूँ। बस इतना ही मजमून लिखा था।

पहिला : (मुसकुराता हुआ) मानो अक्षर-अक्षर तुमने याद कर रखा है!

औरत : बेशक् ऐसा ही है, मैंने कोई शब्द कम या ज्यादा नहीं कहा है।

दूसरा : (मुसकुराता हुआ) ध्यानसिंह अब गदाधरसिंह से दोस्ती करना चाहता है।

औरत : भूतनाथ का आजकल पता नहीं लगता, अगर ठिकाना मालूम होता तो वह चिट्ठी भूतनाथ के पास पहुँच गई होती और भूतनाथ ध्यानसिंह से मिलकर न मालूम क्या कर चुका होता।

पहिला : अब इस समय वह चिट्ठी किसके पास है?

औरत : सो तो मैं नहीं कह सकती क्योंकि मैं अपनी जान बचाकर सब काम किया चाहती हूँ। अच्छा अब तो रही-सही बात भी मैंने तुमसे कह दी अस्तु जिस तरह बन पड़े तुम दयाराम का पता लगाओ और टोह लेते हुए बीच-बीच में बराबर मुझसे मिलते भी रहो।

पहिला : तुम्हारा ठिकाना कहाँ रहेगा और हम लोग कहाँ पर तुमसे मिला करें।

इस बात का जवाब उस औरत ने कुछ भी दिया बल्कि किसी गौर में पड़ कर आश्चर्य से उस आदमी का मुँह देखने लगी। सबब इसका यह था कि कल जिन दो आदमियों से इस औरत ने बातचीत की थी वे इसका पता अच्छी तरह जानते थे मगर इस समय इससे बातें करने वाले असल में वे दोनों नहीं है बल्कि आज वह भूतनाथ और उसके शागिर्द से बातचीत कर रही है। भूतनाथ को उसका ठिकाना मालूम न था इसलिए वह भूल कर ऐसा सवाल कर बैठा जिससे वह औरत तुरंत समझ गई कि यह कोई दूसरा ऐयार है। वह इस भेद को खोला और कुछ कहा ही चाहती थी कि उसे एक खयाल ने ऐसा करने से रोक दिया। उसके दिल में यह बात पैदा हो गई कि अगर वास्तव में कोई दूसरा ऐयार है तो मेरे चौंकने और जाहिर कर देने से मेरा दुश्मन बन जाएगा और शायद मुझे गिरफ्तार भी कर ले, मैं औरत की जात इस समय बिलकुल बेबस और अकेली हूँ और ये दो आदमी हैं। यह सोच कर वह चुप हो रही और अपना चेहरा इस ढंग का बना लिया मानों कुछ गौर कर रही है। कुछ देर बाद उसने उस आदमी से कहा, “अभी तक मेरा ठिकाना कोई निश्चित नहीं हुआ मगर हाँ कल तक यह बात भी तै हो जाएगी। तुम एक दफे और तकलीफ करो और परसों पुन: मुझसे इसी जगह मिलो, मैं अपने ठिकाने का हाल तुमसे कह दूँगी तथा और भी जो कुछ भेद इस बीच में मालूम होगा वह भी बयान करूँगी।” इतना कह वह औरत जाने के लिए तैयार हो गई और उसे मुस्तैद देख कर वे दोनों आदमी भी उठ खड़े हुए तथा अपने-अपने घोड़ों की तरफ बढ़े।

हमारे पाठक जरूर ही समझ गये होंगे कि उस औरत से बातें करने वाले दोनों आदमियों में से एक भूतनाथ और दूसरा उसका शागिर्द था। वहाँ से रवाना होने और कुछ दूर निकल जाने के बाद भूतनाथ और उसके शागिर्द से इस तरह दो-चार बातें हुईं-

भूतनाथ : मेरे लिए इतना ही मालूम हो जाना काफी है कि दयाराम जीते-जागते और दारोगा के कब्जे में है तथा ध्यानसिंह मुझे खोजता और मुझसे दोस्ती किया चाहता

शागिर्द : बेशक् इतना काफी है। बातें तो कुछ और भी जरूरी मालूम होती मगर आखिर में एक सवाल जरा भुंडा पड़ जाने से वह समझ गई कि हम दोनों कोई दूसरे ही हैं।

भूतनाथ : बेशक् उस सवाल में मुझसे भूल हो गई और उसे शक पड़ गया। मैंने सिर्फ इस खयाल से वह सवाल किया था कि उसका पता मालूम हो जाय तो मैं और भी कोई काम निकाल सकूँ और मगर खैर जितना मालूम हुआ उतना ही बहुत है। पहिले तो मेरे जी में आया कि उसे पकड़ लूँ परन्तु कई बातों को सोच कर रह गया।

शागिर्द : नहीं, उसका गिरफ्तार कर लेना ठीक न होता।

इसके बाद चलते-चलते उन दोनों में जो कुछ बातें हुईं वे ऐसी न थीं कि लिखी जायें।

वह औरत जब वहाँ से रवाना हुई तो उसका चेहरा बहुत उदास और सुस्त था। उसे इस बात का बड़ा ही दु:ख था कि उसका भेद किसी दूसरे ऐयार को मालूम हो गया। उसे भूतनाथ का डर बहुत ही ज्यादा लगा रहता था। क्योंकि उसको विश्वास था कि अगर यह भेद भूतनाथ को मालूम हो जाएगा तो दयाराम की जान किसी तरह न बचेगी अस्तु वह तरह-तरह की बातें विचारती हुई जमना और सरस्वती से मिलने की नीयत करके इन्द्रदेव के मकान की तरफ तेजी के साथ रवाना हुई। उसे यह बात मालूम थी कि इन्द्रदेव आजकल ‘कैलाश-भवन’ में रहते हैं और जमना तथा सरस्वती से उसी मकान में मुलाकात होगी।

रात दो घंटे से ज्यादा बीत गई होगी जब वह औरत कैलाश-भवन के दरवाजे पर पहुँची। पहरेदार की जबानी इत्तिला कराने पर वह अन्दर बुला ली गई और मामूली जाँच के बाद उस जगह पहुँचाई गई जहाँ जमना, सरस्वती और इन्दुमति रहती थीं। देखने के साथ ही जमना, सरस्वती ने उसे बड़े प्यार से अपने पास बैठाया और पूछा, “कुछ पढ़ती है?” जिसके जवाब में उसने कहा, “हाँ, महाभारत पढ़ने लगी हूँ!”

यह एक गुप्त इशारा था जो इसके पहिले वाली मुलाकात में जमना और सरस्वती ने इसे सिखाया था और कहा था कि ‘मुलाकात होने पर मेरे सवाल के जवाब में जब तू ऐसा कहेगी तब मैं समझूगी कि यह वास्तव में ‘छन्नो’ है। ऊपर के बयान में यह अपने दोनो साथियों से कह चुकी हैं कि जमना और सरस्वती से उसी मुलाकात हो चुकी हैं।

छन्नो : (जमना और सरस्वती से) कहो मिज़ाज तो अच्छा है?

सरस्वती : मेरा मिज़ाज अच्छा है या बुरा सो क्या तुमसे छिपा है!

छन्नो : छिपा तो नहीं है और मैं सब कुछ जानती भी हूँ परन्तु फिर और कुछ नहीं तो शारीरिक अवस्था का कुशल तो पूछना ही पड़ता है।

सरस्वती : मनुष्य की शारीरिक अवस्था भी आंतरिक अवस्था के ही अधसीन है। जिसकी अन्तरात्मा प्रसन्न है उसका शरीर भी सबल और पुष्ट रहता है और जिसकी अन्तरात्मा दुखी है उसका शरीर बिना रोग के भी सदैव रोगी रहता है। मेरी अंतरात्मा का हाल तुझसे छिपा नहीं है और जो कुछ छिपा था सो भी उस दिन मुलाकात होने पर मैंने तुझसे दिल खोल कर कह दिया। अब तो मेरी प्रसन्नता का कारण भी मेरे पास नहीं रह गया है जिससे इस बात की आशा हो कि मुझे भी किसी दिन प्रसन्न होने और दिल खोलकर हँसने का मौका मिलेगा सिवाय इसके कि दुश्मन पर फतह पाऊँ और उसे अत्यन्त दुखी देख कुछ काल के लिए अपने को सुखी मानूँ।

छन्नो : नहीं-नहीं, ऐसा नहीं सोचना चाहिए, उस महामाया की माया का अन्त नहीं है, और न कोई बात उसके लिए कठिन है। अगर इतने दिन तक तुम दोनों को विधवा रख के वह आज सधवा बना दे तो यह भी उसके लिए कुछ दूर नहीं।

जमना : क्यों छन्नो, क्या तू हम लोगों से दिल्लगी करती है, या हम लोगों के पाप की कोई बात तूने सुनी है!

छन्नो : (दाँत तले जबान को दबाकर) राम राम राम! भला ऐसी भी कोई बात है कि मैं तुम दोनों को व्यभिचारिणी समझूँ सो इस तरह की गंदी दिल्लगी करूँ। ऐसा कभी खयाल भी न करना। बात यह है कि मैं तुम दोनों को तुम्हारे पति के अभी तक जीते रहने की मुबारकबाद देती हुई खुशखबरी सुनाने के लिए तैयार हूँ और इसीलिए इस ढंग से बातें कर रही हूँ।

दोनों : यह दूसरी दिल्लगी है!

छन्नो : मैं तुम्हारी ही कसम खाकर कहती हूँ कि तुमसे झूठ नहीं बोलती ओर यही सच्ची खबर सुनाने के लिए मैं तुम्हारे पास इस समय आई हूँ।

जमना : क्या तू ईश्वर और धर्म की ही कसम खाकर ऐसा कह सकती है?

छन्नो : कहती हूँ कि इसका पूरा-पूरा सबूत पाकर ही मैं तुम्हें खबर देने के लिए आई हूँ, परन्तु वह खबर सुना देने के बाद मैं नहीं कह सकती कि दुश्मनों के हाथ से जीती बचूँगी या नहीं क्योंकि जब मेरे दुश्मनों और उनके साथियों को यह बात मालूम हो जाएगी कि मैंने उनसे अलग होकर यह भेद तुमसे कह दिया है तब वे मुझे जान से मार डालने के लिए कोई बात उठा न रखेंगे। खैर मुझे अपने मरने की भी चिंता नहीं, अगर चिंता है तो केवल इतनी ही कि मैं अपनी जिंदगी में तुम दोनों को प्रसन्नता के साथ तुम्हारे पति के पास बैठी हुई देख लूँ।

READ MORE

छन्नो की बातों ने जमना और सरस्वती के दिल में प्रसन्नता के साथ-ही-साथ एक अजीब तरह की खलबली पैदा कर दी। मारे खुशी के रोमांच होकर उनका कंठ रुद्ध हो गया और बड़ी मुश्किल से अपने को सम्हाल कर उन्होंने छन्नो की बात का जवाब दिया-

जमना : अगर वे जीते हैं तो कहाँ और किस अवस्था में हैं?

छन्नो : जमानिया के दारोगा ने उन्हें कैद कर रखा है मगर किस अवस्था में हैं सो नहीं कह सकती।

जमना : यह तुझे कैसे मालूम हुआ?

छन्नो : खुद मेरी मौसेरी बहिन निरंजनी ने इस बात का पता लगाया है। इस काम में भी उसके साथ थी और साथ देना चाहती थी मगर जब मैंने देखा कि निरंजनी का दिल बेईमान हो गया और वह दयाराम जी को खोज निकालने के साथ-ही-साथ स्वयं जमना या सरस्वती बनकर उनके साथ सुख किया चाहती है तब मैंने उसका साथ छोड़ दिया और तुम्हें यह बताने के लिए आई हूँ कि तुम अपनी रक्षा करने के साथ-ही-साथ स्वयं उन्हें निरंजनी के पहिले ही कैद से छुड़ा लो और इस तरह निरंजनी को अपने ऊपर अहसान जताने का भी मौका मत दो। इन्द्रदेव जी की मदद पाकर तुम दोनों जो कुछ कर सकती हो वह निरंजनी को कदापि नसीब नहीं हो सकता। तुम इन्द्रदेव जी को यहाँ बुलाओ या अपने साथ मुझे उनके पास ले चलो। मैं सब हाल उनके सामने ही बयान कर दूँगी जिसमें दोहराने की नौबत न आवे और काम में देर न हो।

इतना सुनते ही जमना और सरस्वती उठ खड़ी हुईं और छन्नों का हाथ थामे हुए इन्द्रदेव के पास रवाना हुईं जो इस समय संध्योपासना से निवृत्त होकर अपने एकांत में कमरे में बैठे हुए कुछ लिख रहे थे।

इन्द्रदेव इन तीनों को देखकर प्रसन्न हुए और बैठने का इशारा करके बोले, “मैं इस समय तुम तीनों को बुलाने वाला ही था। (छन्नों की तरफ देख कर) यह क्या दयाराम के अभी तक जीते रहने की खबर लेकर आई है?”

जमना : (बड़े ही आश्चर्य के साथ) जी हाँ, ऐसा ही है, आपको यह बात कैसे मालूम हुई?

इन्द्रदेव : अभी तुरंत ही मुझे इस बात की खबर लगी है और मालूम हुआ है कि वे अभी तक दारोगा की कैद में पड़े हुए हैं, परन्तु मैं यह नहीं कह सकता कि यह खबर कहाँ तक सच है!

छन्नो : बेशक् यह खबर सच है और मैं इसका पूरा-पूरा सबूत आपको दूंगी।

इन्द्रदेव : अगर यह खबर सच है तो इससे बढ़ कर कोई खुशी मेरे लिए नहीं हो सकती, बैठो और खुलासा हाल बयान करो।

जमना : क्या आपको आपके किसी शागिर्द ने यह खबर दी है?

इन्द्रदेव : हाँ, कल छन्नों एक जंगल में बैठी हुई दो ऐयारों से इसी विषय में बातचीत कर रही थी और मेरा एक शागिर्द उसी जगह छिपा सब बातें सुन रहा था। एक तरफ भूतनाथ भी छिपा हुआ वह सब बातें सुन रहा था…

छन्नो : (बात काट कर) क्या भूतनाथ ने वे सब बातें सुन ली और उसे भी दयाराम जी के जीते रहने की खबर लग गई?

इन्द्रदेव : हाँ, उसे सब बातें मालूम हो गईं मगर कोई चिंता नहीं, अब तुम्हारे कहने से मुझे विश्वास हो गया और मैं होशियार हो गया हूँ। मेरे सामने उसकी कोई कार्रवाई चल न सकेगी चाहे वह नेकनीयती के साथ करे या बदनीयती के साथ। भैया राजा का कथन तो यही है कि अब भूतनाथ किसी प्रकार की बुराई न करेगा, उसकी नीयत साफ हो गई, परन्तु मुझे उस पर अभी तक विश्वास नहीं होता। (छन्नो से) तुम्हें यह सुनकर आश्चर्य मालूम होगा कि उस एकांत जंगल में तुम लोगों की बात सुनने के लिए मेरा शागिर्द क्यों कर जा पहुँचा!

छन्नो : बेशक् यह आश्चर्य की बात है।

इन्द्रदेव : तो मैं यह कहकर तुम्हारा आश्चर्य दूर करे देता हूँ कि मेरा शागिर्द आज महीने-भर से तुम्हारे और निरंजनी के पीछे लगा हुआ है। इसका सबब यह है कि जमना और सरस्वती ने राजसिंह के कुल का अपने हाथ से सत्यानाश करने का प्रण किया है जो दयाराम को गिरफ्तार कर ले गया था। यद्यपि यह बात मुझे पसन्द नहीं है तथापि इन दोनों की खातिर मुझे सब कुछ करना ही पड़ता है और इसीलिए आजकल मेरे दो शागिर्द राजसिंह के इलाके में और उसके घर के इर्द-गिर्द कई बातों की टोह लगाने के लिए घूमा करते हैं। किसी कारणवश राजसिंह के लड़के ध्यानसिंह को इस बात की खबर लग गई कि आजकल कई ऐयार उसके इलाके में घूम रहे हैं जिससे वह चैतन्य हो गया और डर के मारे उसने घर से निकलना तक भी बंद कर दिया। साथ ही इसके वह गदाधरिंसह को दोस्त बनाने की फिक्र करने लगा यह सोच कर कि वह जमना और सरस्वती का दुश्मन है। इसी बीच में तुम्हारी बहिन निरंजनी ने अपने ऐयारों के साथ वहाँ पहुँचकर उसकी लड़की को हर लिया और उसे कैद करके अपने घर ले गई। मेरे शागिर्द ने मुझे इस बात की इत्तिला दी और मैं स्वयं इस बात की जाँच में ले गया मगर जमना और सरस्वती को मैंने इस बात की खबर नहीं दी और उसके आगे का भेद मालूम करने लगा। काशी के जिस मकान में आजकल तुम और निरंजनी रहती हो वह मकान मेरा ही है। मेरे शागिर्द ने निरंजनी के एक ऐयार को गिरफ्तार कर लिया और खुद उसकी सूरत बन निरंजनी के साथ रहने लगा। उसी ने बातें बना कर और बहुत-कुछ ऊँच-नीच समझाकर मेरा मकान जिसमें मेरे नौकर-चाकर रहा करते थे और निरंजनी को इस बात की कुछ भी खबर न थी, खाली करा कर थोड़े किराये में निरंजनी को दिलवा दिया और तुम लोगों ने उसी मकान में आकर डेरा उला, तथा ध्यानसिंह की लड़की को भी निरंजनी ने उसी मकान में ले जाकर कैद किया। इसके बाद निरंजनी ने अपने ऐयारों की मदद से जिनमें मेरा शागिर्द भी शामिल था ध्यानसिंह के उस आदमी को मार डाला जो ध्यानसिंह की चिट्ठी लेकर भूतनाथ की खेज में जा रहा था। उस चिट्ठी के साथ दयाराम के कैद के विषय में एक नक्शा भी था। मेरे शागिर्द ने उस नक्शे और चिट्ठी को अच्छी तरह देखा और पढ़ा था। जब मेरे शागिर्द ने इस सब बातों की मुझे खबर दी तब मैंने गुप्त राह से वहाँ पहुँचकर उस लड़की को कैद से छुड़ाया। आज ही वह लड़की यहाँ लाई गई है। इस समय मैं जमना और सरस्वती से उसकी मुलाकात कराने वाला था, पर खैर इससे अब तुम समझ गई होवेगी कि मेरा वह शागिर्द अभी तक तुम लोगों के पीछे लगा हुआ है और इसी सबब से उसने उस जंगल में पहुँच कर तुम्हारी सब बातें सुन ली थीं।

इन्द्रदेव की बातें सुनकर छन्नो हैरान हो गई और उसने हाथ जोड़ कर इन्द्रदेव से कहा, “आप धन्य हैं! आपकी बुद्धिमानी का कोई हद-हिसाब नहीं। मैं तो यही समझे हुई थी कि मैं यह खुशखबरी आपको सुनाऊँगी मगर अब मालूम हुआ कि आप इस विषय में मुझसे कहीं ज्यादा जानकार हैं जिससे मुझे अब अपनी कार्रवाई पर शर्म आती है।”

इन्द्रदेव : नहीं-नहीं, इसमें शर्म की कोई बात नहीं, मैं इस बात से बहुत प्रसन्न हूँ कि तुमने नेकनीयती के साथ यहाँ आकर इन सब बातों की जमना और सरस्वती को इत्तिला दी और इसे सुनकर मुझे अपने शागिर्द की बातों पर और भी विश्वास हो गया। अच्छा अब कहो कि तुमने यहाँ आकर जमना और सरस्वती को क्या बातें सुनाई?

इन्द्रदेव की बातें सुनकर जमना और सरस्वती बहुत ही प्रसन्न हुईं तथा छन्नो ने भी जो कुछ मालूम था सब हाल इन्द्रदेव से बयान किया और अब भविष्य में क्या करना चाहिए इस विषय में राय पूछी।

हमारे प्रेमी पाठक भी अब इस बात को समझ गये होंगे और न समझे हों तो अब समझ जाए कि निरंजनी ने जिस लड़की को उस लोहे वाले जंगल में कैद कर रख था वह ध्यानसिंह की ही लड़की थी और जो उस कैदखाने में उसका मददगार बनकर पहुंचा था (अथवा जमीन के अन्दर से निकला था) वह इन्द्रदेव थे। इसके बाद उन सभों में फिर इस तरह बातचीत होने लगी-

सरस्वती : (इन्द्रदेव से) तो क्या वास्तव में अभी तक वे जीते हैं।

इन्द्रदेव : मालूम तो ऐसा ही होता है, ईश्वर करे यह बात सच निकले और मैं उन्हें छुड़ाकर तुम लोगों के पास ला सकूँ। (छन्नों से) इस भेद को अब तुम बहुत गुप्त रखना जिससे दारोगा के कान तक यह बात पहुँचने न पावे।

छन्नो : जी नहीं, अब मैं इस विषय में किसी से भी बातचीत न करूँगी।

इन्द्रदेव : और तुम अब कुछ दिनों तक हमारे इस मकान से बाहर भी न जाना।

छन्नो : जो आज्ञा।

इन्द्रदेव : अभी तक मैंने ध्यानसिंह की लड़की से कुछ विशेष बातचीत नहीं की है अस्तु उसे बुलवाता हूँ। तुम उससे बातचीत करो और मैं भी उससे पूछकर देखता हूँ कि इस विषय में और क्या-क्या बातें बताती हैं।

छन्नो : जरूर बुलवाना चाहिए। अच्छा यह तो बताइए कि निरंजनी का वह ऐयार जिसे आपके शागिर्द ने पकड़ लिया था अब कहाँ है?

इन्द्रदेव : वह मेरे कब्जे में है, उसे अभी तक इस बात का ज्ञान नहीं हुआ है कि उसे किसने गिरफ्तार किया या वह किसके मकान में है और भविष्य में भी उसे इस बात की खबर न होगी क्योंकि वह बेहोश करके किसी जंगल-मैदान में छोड़ दिया जाएगा जहाँ से वह तुम्हारी बहिन निरंजनी के पास पहुँच जाएगा। आज ही उसे भी रिहाई देने की मेरी इच्छा है।

इतना कहकर इन्द्रदेव उठे और बाहर जाकर उन्होंने अपने किसी आदमी को हुक्म दिया कि ध्यानसिंह की लड़की को यहाँ ले आये। थोड़ी ही देर में वह लड़की वहाँ आ पहुँची जहाँ जमना, सरस्वती, छन्नो और इन्द्रदेव बैठे बातें कर रहे थे।

इस लड़की की सूरत-शक्ल के विषय में कुछ थोड़ा-सा हम निरंजनी के बयान में लिख आए हैं, यहाँ पुन लिखने की कोई जरूरत नहीं जान पड़ती। यहाँ केवल इतना ही लिख देना काफी होगा कि अभी त उसके चेहरे पर से उदासी और घबराहट दूर नहीं हुई। इसका विशेष कारण तो यह जान पड़ता है कि वह बेचारी वहाँ भी कैद थी और यहाँ भी अपने को कैदी ही समझती थी।

इन्द्रदेव की आज्ञा पाकर वह लड़की जिसका नाम ज्वाला था बैठ गई। तब इन्द्रदेव ने उससे कहा, “बेटी, मैं तुझे कई दफे कह चुका हूँ कि तू अपने दिल से डर और उदासी को दूर कर दे, मेरे यहाँ तुझे किसी तरह की भी तकलीफ न होगी, मगर फिर भी नमालूम क्यों तुझे मेरी बातों का विश्वास नहीं होता।”

ज्वाला : मुझे आपकी बातों का पूरा विश्वास है, मुझे आपका बहुत भरोसा है, आप मेरे बहुत आड़े वक्त में काम आए हैं और आपने मेरी रक्षा की है। मैंने निरंजनी के घर में जो-जो तकलीफें उठाई हैं वह मेरा ही जी जानता है। अगर आप मेरी सहायता न करते तो नमालूम मुझे और भी क्या-क्या तकलीफें झेलनी पड़तीं या मैं जीती भी रहती या नहीं, परन्तु अब मुझे सिवा अपने घर पहुँचने के और किसी बात की फिक्र नहीं है।

इन्द्रदेव : मैं तुझसे इस बात का भी वादा कर चुका हूँ कि तुझे बड़ी इज्जत के साथ तेरे घर पहुंचा दूंगा।

ज्वाला : नि:सन्देह आपने वादा किया है, आपकी बात कदापि झूठ नहीं हो सकती, (छन्नो की तरफ देख के) पर इनको देख के मैं इस समय पुन: डर गई हूँ क्योंकि इन्हें निरंजनी के साथ देख चुकी हूँ। यद्यपि इनके हाथ से मुझे किसी तरह की तकलीफ नहीं हुई बल्कि मार-पीट के समय इन्होंने मेरी सिफारिश ही की थी और मुझे बचाया भी था परन्तु फिर भी…

इन्द्रदेव : तेरा विचार ठीक है और डरने उचित ही है मगर मैं तुझे जोर देकर कहता हूँ कि इससे डरने की तुझे कोई जरूर नहीं। इसके और निरंजनी के मिजाज में उल्टे-सीधे का फर्क है। निरंजनी की बुरी नीयत देखकर इसने निरंजनी का साथ छोड़ दिया और अब मेरे घर में (जमना और सरस्वती की तरफ इशारा करके) इन दोनों के पास चली आई है क्योंकि वह लड़कपन ही से इन दोनों के साथ प्रेम और सच्चाई के साथ रहती आई है। तू इन दोनों को नहीं पहिचानती और अभी मैं बताऊँगा भी नहीं कि ये दोनों कौन हैं पर इस बात के लिए तुझे दु:ख न मानना चाहिए। इतना मैं तुझे जोर देकर कहूँगा कि इन दोनों से भी तुझे डरना न चाहिए और इससे तो जिसका नाम छन्नो है, कदाचित् तुझे मालूम हो, सिवाय भलाई के बुराई के उम्मीद ही मर कर। इसे मैं आज से नहीं बल्कि बहुत दिनों से जानता हूँ, अगर ऐसा न होता तो इस पर विश्वास करके आज मैं इसे अपने घर से कदापि न आने देता।

ज्वाला : आपके कहने से मैं बिलकुल बेफिक्र हो गई परन्तु यह जानने की इच्छा जरूर है कि (जमना और सरस्वती की तरफ इशारा करके) ये दोनों कौन हैं और ये छन्नो यहाँ क्यों आई हैं?

इन्द्रदेव : मैं पहिले ही कह चुका हूँ कि इन दोनों का भेद अभी मैं तुझसे न कहूँगा, हाँ यदि तू कुछ दिन यहाँ रह गई तो तुझसे कुछ छिपा भी न रहेगा। छन्नो यहाँ दयाराम का समाचार लेकर आई है जिसका भेद जानने के लिए ही निरंजनी ने तुझे गिरफ्तार किया था। तुझे यह बात अभी मालूम न हुई होगी कि निरंजनी ने तेरे बाप के एक सिपाही को मार कर एक चिट्ठी, जिसके साथ और भी कई चीजें थीं, ले ली जो कि तेरे बाप ने भूतनाथ के पा उससे दोस्ती करने के इरादे से भेजी थी और उसी से दयाराम का पूरा हाल निरंजनी को मालूम हो गया है।

ज्वाला : यह हाल मुझे मालूम नहीं है, हाँ, दयाराम जी के विषय में मैं बहुत-कुछ निरंजनी को बता चुकी हूँ। मेरे पिताजी को बहुत दिनों तक इस बात की कुछ खबर न लगी कि उनके घर में से दयाराम को कौन चुरा ले गया। अभी हाल ही में इस बात का पता लगा है कि यह काम जमानिया के दारोगा ने किया है और अभी तक दयाराम जी उसी के घर में है। (हाथ जोड़कर) मेरे दादा की तरह नि:सन्देह मेरा पिता भी इस मामले में दोषी है परन्तु मैं बिलकुल ही बेकसूर हूँ। यदि मैं किसी योग्य होती तो पिता के घर में कदापि न रहती और न उसके साथ ही अपनी भी बेइज्जती कराती।

इन्द्रदेव : बेशक् यही बात है और अब भी मुझे यही राय दूँगा कि पिता के घर का नाम छोड़ दे क्योंकि तेरा पिता ताज्जुब नहीं कि किसी दिन अपने कर्मों का फल इसी जीवन में पा जाय, ऐसी अवस्था मैं तुझे वहाँ बड़ी तकलीफ होगी।

ज्वाला : तकलीफ क्या मैं बिलकुल ही बेइज्जत हो जाऊँगी और किसी काम के लायक न रहूँगी। अब तो मैंने आप ही को अपना पिता और ईश्वर दोनों ही मान लिया है। आप जो आज्ञा देंगे वही करूँगी। मैं अपने घर का यदि कुछ खयाल करती हूँ तो केवल अपनी माँ की मुहब्बत से।

इन्द्रदेव : ठीक है और अगर ईश्वर चाहेगा तो तू अपनी माता से भी किसी अच्छे मौके पर मिला दी जाएगी। यदि तेरी माता को यह बात मालूम होगी कि तू इतने दिनों तक इन्द्रदेव के यहाँ रही है तो वह कदापि तुझसे असंतुष्ट न होगी और न तेरी इज्जत या चालचलन में किसी तरह का फर्क मानेगी।

ज्वाला : नि:सन्देह ऐसा ही है, आपके यहाँ रहने में मेरा किसी प्रकार का नुकसान नहीं।

इन्द्रदेव : (जमना, सरस्वती और छन्नो से) अब तुम लोग इस लड़की को अपने साथ ले जाओ और इसे अपनी लड़की समझकर खातिर के साथ अपने साथ रखो। (ज्वाला से) इन तीनों के साथ तू बेफिक्री के साथ रह कर ईश्वर से शुभ दिन की प्राप्ति की प्रार्थना कर, साथ ही दयाराम के विषय में जो कुछ ये तीनों पूछे उसके बयान में किसी प्रकार का संकोच मत कीजिये।

ज्वाला : जो आज्ञा।

इसके बाद जब वहाँ से उठने की तैयारी हुई तब छन्नो ने इन्द्रदेव की तरफ देखकर कहा, “एक बात मैं। आपसे कहना भूल गई।”

इन्द्रदेव : वह क्या?

छन्नो : आपको मालूम ही होगा कि भूतनाथ से और नागर से दोस्ती है।

इन्द्रदेव : हाँ, मैं इस बात को बखूबी जानता हूँ।

छन्नो : इसलिए भूतनाथ अपने हाल-चाल की चिट्ठी जिसमें बहुत-सी भेद की बातें रहती हैं बराबर नागर को लिखा करता है। निरंजनी भूतनाथ के हाथ की लिखी हुई बहुत-सी चिट्ठियाँ नागर से मँगनी माँग लाई है और उनसे भूतनाथ के भेद जान कर उस पर अपना रोआब जमाना चाहती है। अभी तक वे चिट्ठियाँ निरंजनी के पास ही मौजूद हैं।

इन्द्रदेव : अच्छा किया जो तूने यह हाल मुझे बता दिया, अगर हो सका तो इस विषय में भी कार्रवाई करूँगा। अच्छा अब तुम लोग जा कर आराम करो।

Leave a comment