गृहलक्ष्मी कहानियां

बुआजी ने अनु को प्यार से गले लगाते हुए कहा – “वैसे तो मेरी बिटिया रानी बहुत होशियार है, फ़िर भी मेरे नसीहतों की पोटली में से तुम्हारे लिए तोहफ़ा यह है कि अपने सास-ससुर को अपने माँ -बाउजी की तरह ही मानना और हमेशा उनके साथ वही बर्ताव करना जैसा तुम अपनी भाभी से अपने माँ-बाउजी के लिए उम्मीद करती हो. इससे रिश्तों में प्रेम और अपनापन हमेशा बना रहेगा.” 

बुआजी की बात सुनकर अनु के चेहरे पर चमक आ गई. वाकई बुआ जी का तोहफा सबसे अनमोल था. इस नसीहत के रूप में बुआ जी ने उसे नए रिश्तों को निभाने के जादुई मंत्र जो दिया था.

यह भी पढ़ें –नासमझ – गृहलक्ष्मी लघुकथा

-आपको यह लघुकथा कैसी लगी? अपनी प्रतिक्रियाएं जरुर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही आप अपनी लघुकथा भी हमें ई-मेल कर सकते हैं-Editor@grehlakshmi.com

-डायमंड पॉकेट बुक्स की अन्य रोचक कहानियों और प्रसिद्ध साहित्यकारों की रचनाओं को खरीदने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें-https://bit.ly/39Vn1ji