googlenews
benefits of conch
शंख के प्रकार एवं घर में शंख रखने और बजाने के लाभ

Benefits of using conch at home

हिन्दू धर्म में शंख का बहुत ज्यादा महत्व है शंख की आवाज में एक अलग ही ताकत होती है जो घर के अन्दर नकारात्मक ऊर्जा को आने से रोकती है साथ ही घर के मंदिर में रखा गया शंख घर में सुख शांति लाकर घर के लोगों के लिए सफलता के दरवाजे खोलता हैं| इंसान तो क्या देवता भी शंख के बिना खुद को अधूरा ही पाते है| विष्णु पुराण में लिखा है की शंख में माता लक्ष्मी का वास होता है इसलिए विष्णुजी इसको धारण करते है|

हिन्दू धर्म में शंख (conch) का बहुत ज्यादा महत्व है शंख की आवाज में एक अलग ही ताकत होती है जो घर के अन्दर नकारात्मक ऊर्जा को आने से रोकती है साथ ही घर के मंदिर में रखा गया शंख घर में सुख- शांति लाकर घर के लोगों के लिए सफलता के दरवाजे खोलता है| इंसान तो क्या देवता भी शंख के बिना खुद को अधूरा ही पाते है| विष्णु पुराण में लिखा है की शंख में माता लक्ष्मी का वास होता है इसलिए विष्णुजी इसको धारण करते है| भारत में भिन्न भिन्न शंख के प्रकार पाय जाते हैं |

घर में कोई भी शंख रखने से पहले ये जानना बहुत जरुरी है की शंख कितने तरह के होते है और किस शंख से क्या लाभ होता है| ये लेख एक छोटा सा प्रयास है शंख से जुड़ी जानकारी देने का|

शंख के प्रकार : हिन्दू धर्म में दस प्रकार के शंखो के बारे में बताया गया है जो कि ये है

Kaamdhenu Shankh

कामधेनु शंख

ये बहुत ही दुर्लभ होता है और आसानी से नहीं मिलता है| इसका आकार गाय के मुख जैसा होता है| इसलिए इसको कामधेनु शंख कहते है| इस शंख की पूजा करते समय जो भी आप कल्पना करेगे वो तुरंत ही पूरी होती है|

Ganesh Shankh
शंख के प्रकार एवं घर में शंख रखने और बजाने के लाभ 12

गणेश शंख

ये शंख भगवान गणेश के मुख के समान होता है ये काफ़ी आसानी से मिल जाता है और बहुत ही शुभ माना जाता है | और धन व बुद्धि देता है|

Annapurna Shankh
शंख के प्रकार एवं घर में शंख रखने और बजाने के लाभ 13

अन्नपूर्णा शंख

ये माता अन्नपूर्णा का प्रतीक माना जाता है इसको घर की रसोई में रखने से घर में हमेशा अन्न भंडार भरे रहते है इसमे दूध भरकर घर में चारों कोनों में डालने से वास्तु दोष दूर होता है|

Moti Shankh
शंख के प्रकार एवं घर में शंख रखने और बजाने के लाभ 14

मोती शंख

स्वास्थ्य व आयु को सुरक्षित रखने के लिए घर के मंदिर में सफ़ेद कपड़े पर मोती शंख रखे ये शंख मोती के तरह सफ़ेद तो होता ही है साथ ही उस पर कहीं—कहीं कुदरती मोती भी चिपके होते है|

Vishnu Shankh
शंख के प्रकार एवं घर में शंख रखने और बजाने के लाभ 15

विष्णु शंख

विष्णुजी के द्वारा धारण किया गया शंख विष्णु शंख कहलाता है इसको घर के मंदिर में रखने और पूजा करने से धन की बरकत होती है|

Aerawat Shankh
शंख के प्रकार एवं घर में शंख रखने और बजाने के लाभ 16

ऐरावत शंख

ये शंख वास्तु और स्वास्थ्य दोनों को सही करता है इसका आकार हाथी की उठी सुंड जैसा होता है इस शंख को घर के मुख्य दरवाजे पर लगाने से घर के सभी दोष दूर हो जाते है व नकारात्मक ऊर्जा घर में नही आती है।

Pondra Shankha
शंख के प्रकार एवं घर में शंख रखने और बजाने के लाभ 17

पौंड्र शंख

ये शंख मन और मष्तिस्क को शांत करता है और याददाश्‍त को बढाता है इस शंख को बच्चों की पढ़ने वाली मेज पर रखना चाहिए|

Manipushpak Shankh
शंख के प्रकार एवं घर में शंख रखने और बजाने के लाभ 18

मणिपुष्पक शंख

ये शंख रोजगार में उन्नति कराता है इसलिए इसको आफिस या दुकान यानि अपने कार्य स्थल पर साफ़ जगह पर पानी भरकर रखे और उस पानी को सुबह-सुबह  अपने कार्य स्थल पर चारों कोनों में डाल दे|

Devdatt Shankh
शंख के प्रकार एवं घर में शंख रखने और बजाने के लाभ 19

देवदत्त शंख

अगर आप जीवन में हर जगह हार रहे कोई भी काम आपका नहीं बन पा रहा है रूकावट आती ही जा रही है तो घर के मंदिर में शुभ महूर्त में देवदत्त शंख लाकर स्थापित करे व इसकी रोज सुबह पूजा करें। ये शंख दुर्भाग्य को दूर करता है महाभारत में महावीर अर्जुन ने इस शंख की पूजा करके कुरुक्षेत्र के मैदान में कौरवों से लडाई करने से पूर्व इसको बजाया था और अपने विजय पाई थी|

Dakshinavrati Shankh
शंख के प्रकार एवं घर में शंख रखने और बजाने के लाभ 20

दक्षिणावर्ती शंख

इस शंख को भगवान विष्णु का शंख कहते है, इसकी खास बात यही होती है की जहां सारे शंख बायीं ओर खुलते है वही दक्षिणावर्ती शंख दायी ओर खुलता है और इस शंख को घर में रखकर पूजा करने से सब तरह के सुख की प्राप्ति होती है|  

घर में शंख बजाने के लाभ

  • पूजा में शंख बजाने से वातावरण शुद्ध हो जाता है, इसको बजाने से नकरात्मक ऊर्जा दूर होती है, मन की उदासी दूर होती है और सकारात्मक भाव आते है जो की मन में जोश को बढ़ाते है|
  • विज्ञान भी इस बात को मानता है की अगर शंख को सही तरह से बजाया जाता है तो वातावरण में व्याप्त घातक जीवाणु और कीटाणु उस जगह से कोसों दूर चले जाते है जहां पर शंख बजाया जाता है कई शोध करने के बाद ही विज्ञान ने इस बात को माना है और कहा है की शंख की आवाज में इतनी ताकत होती है की उसके कंपन से धरती भी हिलने लग जाती है| पुराणों में बताया गया है की प्राचीन समय में जो भूमि बंजर होती थी उस भूमि के ऊपर विशेष पूजा-पाठ, जाप और कई दिनों तक लगातार शंखनाद करके उस सोई हुई बंजर भूमि को जगाया जाता था और इस तरह से एक बंजर भूमि को उपजाऊ बनाया जाता था|
  • शंख के अंदर पानी रखकर पीने से शरीर व दांत मजबूत होते है| क्योंकि शंख में कैल्शियम, फास्फोरस व गंधक के गुण पाये जाते है जिससे शरीर को ताकत मिलती हैं|
  • शंख बजाने से फेफड़े मजबूत होते है चरक सहिता में लिखा है की अस्थमा के रोगियों को रोज शंख बजाना चाहिए|
  • शंख को अगर घर के मुख्य दरवाजे पर रखा जाये तो उस घर का वास्तु दोष तो दूर होता ही है साथ ही उस घर के लोगों का जीवन भी हर तरह के सुखों से हरा-भरा होता है| ये बात एक नहीं बल्कि अनेक लोगों के अनुभवों ने बताई है|
  • शंख माता लक्ष्मी का भाई है इसलिए भाई की पूजा करने से माता लक्ष्मी खुश होती है और उस घर में अपने पति भगवान विष्णु के साथ चिर निवास करती है साथ ही भगवान विष्णु और लक्ष्मीजी दोनों ही अपने हाथो में शंख को हर समय धारण करते है|

जहां शंख बहुत सारे लाभ देता है वही इसके प्रयोग में कुछ बातों का ख्याल ना रखा जाये तो ये हानि भी देता है कुछ इस तरह से|

  • पूजा में शंख को बजाने से देवता जाग जाते है इसलिए सुबह ही इसको बजाना चाहिए क्योंकि रात को देवी- देवता आराम करते है इसलिए रात को बजाने से उनके आराम में बाधा आती है और वो नाराज हो जाते है|
  • बीमार लोगों को शंख डाक्टर से पूछकर ही बजाना चाहिए क्योंकि शंख बजाने में पूरी ताकत लगानी पड़ती है इसलिए बीमार लोगों को डाक्टरों से सलाह लेकर ही बजाना चाहिए|

Leave a comment