डाक में कुछ चिट्ठियां आई पड़ी हैं। निर्मल एकबार उन्हें उलट-पलटकर देखती है, पर पढ़ने को उसका मन नहीं कर रहा। वह जानती है कि ये सभी चिट्ठियां  पाठकों की तरफ से ही आई हैं, जो नि:संदेह अभी हाल ही में एक पत्रिका में छपे उसके आत्मकथा-अंश को लेकर ही होंगी। अधिकांश में उसकी तारीफ होगी, कुछ में उसके साथ सहानुभूति दिखाने की कोशिश की गई होगी और हो सकता है, एक-आध चिट्ठी में आलोचना भी हो। पता नहीं क्यों, आजकल पाठकों के आए खतों को वह उतनी बेसब्री से नहीं पढ़ती जितनी बेसब्री से पहले पढ़ा करती थी। उसकी रचना पर यदि कोई खत आता था तो वह सारे काम छोड़कर उसे पढ़ने बैठ जाया करती थी। कई-कई बार पढ़ती थी, खुश होती थी। दिनभर एक नशा-सा तारी रहता था उस पर। वह उन चिट्ठियों का जवाब भी देती थी। पर अब उस तरह की उमंग उसके अंदर जैसे शेष ही नहीं रही थी।

निर्मल उठकर खिड़की के पास जा खड़ी होती है। खिड़की के पार एक टुकड़ा नीला आकाश कैनवस की तरह फैला हुआ है। कहीं-कहीं उड़ान भरते परिन्दे इस आकाश में एक लकीर-सी खींचते प्रतीत होते हैं। करीब बीस वर्ष हो गए निर्मल को भी कागज के आकाश पर शब्दों के परिन्दे उड़ाते हुए। कई कहानी संग्रह, कविता संग्रह, कितने ही उपन्यास और अब वह अपनी जि़ंदगी के सफे खंगाल रही है। उम्र के इस पड़ाव पर वह अपनी आत्मकथा लिख रही है जिसका एक अंश हिंदी की एक प्रसिद्ध पत्रिका में अभी हाल में प्रकाशित हुआ है। उसकी नज़र फिर से मेज़ पर पड़ी चिट्ठियों पर पड़ती है। उसको लगता है, मानो मेज़ पर पड़ी चिट्ठियां उसको अपनी ओर खींच रही हों। वह छोटे-छोटे पैर उठाती मेज़ के पास आ खड़ी होती है। चिट्ठियों  के ढेर को एकबार फिर उलट-पलटकर देखती है। अचानक एक लिफाफे पर उसकी दृष्टि स्थिर हो जाती है। लिफाफे के बाहर भेजने वाले का नाम पढ़कर वह सोच में पड़ जाती है। उसके हाथ तेज़़ी से लिफाफा खोलते हैं। इतना लम्बा खत! यह तो उसकी कालेज की सखी रंजना का खत है। वह कुर्सी पर बैठ जाती है। कांपती उंगलियों में पकड़ा हुआ खत वह बेसब्री से पढ़ना शुरू करती है-

प्रिय निर्मल,

अरे, तू तो बहुत बड़ी लेखिका बन गई। तेरी एक दो कहानियां मैंने पहले भी पढ़ी थीं, न जाने किस पत्रिका में, पर मुझे नहीं पता था कि उन कहानियों की लेखिका मेरी सखी निर्मल ही है। यह तो मुझे उस पत्रिका से पता चला जिसमें तेरी आत्मकथा तेरे परिचय और चित्र के साथ छपी हुई है। सच पूछो तो मैं तो यूं ही व$क्तकटी के लिए इस पत्रिका के पन्ने पलट रही थी कि तेरी फोटो पर मेरी निगाहें रुक गईं। फिर तेरी आत्मकथा को पढ़े ब$गैर रह न सकी। पढ़ लेने के बाद मैं पूरी रात बेचैन रही। नींद पता नहीं कहां रास्ता भूल गई थी। मुझे तेरे संग बिताये वे दिन याद आते रहे। वो कालेज के दिन मेरी आंखों के सामने जैसे पुनर्जीवित हो उठे हों। तूने अपनी आत्मकथा में कालेज के दिनों को स्मरण किया है, मुझे और रवीन्द्र को याद किया है। रवीन्द्र और मुझे तूने जिस प्रकार पेश किया है, वह तेरा सच है। पाठकों को भी वह सच ही लगेगा। परंतु क्या तू सचमुच नहीं जानती कि तेरे साथ क्या हुआ था? या तू जान बूझकर उस सच को आंखों से ओझल किए रखना चाहती है। रवीन्द्र और मेरी तस्वीर तूने अपनी आत्मकथा में जिस प्रकार प्रस्तुत की है, क्या वह तस्वीर सच के बहुत करीब है? निर्मल… हमने एम.ए.(हिंदी) एक साथ ही की थी। हम दोनों ने दो वर्ष कालेज के हॉस्टल के एक ही कमरे में इक_ा ही बिताये थे। हम अच्छी सहेलियां थीं, एक-दूजे को प्यार करती थीं। हमारे बीच लड़ाई-झगड़ा भी होता था। पर जितना मैंने तुझे समझा है, तू शुरू से ही एक चुप और गुमसुम-सी रहने वाली लड़की रही है। तूने कभी प्रतिवाद करना सीखा ही नहीं। जो तुझे मिल गया तो ठीक, नहीं तो सब्र कर लिया। अपना दर्द, अपना दु:ख, अपनी पीर, तू अपने अंदर ही जज़्ब करती रहने वाली स्त्री है। शायद, इसी जज़्ब किए दर्द ने तेरे हाथों में कलम दे दी और तू मुंह से न बोलकर अपने शब्दों से उन्हें जुबान देती रही। मुझे लगता है, तू आज भी वैसी ही है, जैसे पहले थी। पर मैं बचपन से ही ऐसी लड़की नहीं थी। मैंने चुप रहना कभी सीखा ही नहीं। अपनी बात चीख-चीखकर कहना, अपनी हर बात को लोगों से मनवाना मेरी आदत का एक अहम हिस्सा रहा है। जो चीज़ मुझे पसंद आ जाती, उसको हासिल करना मेरी मज़बूरी बन जाता। यदि मेरी पसंदीदा वस्तु मुझे आसानी से नहीं मिलती तो मैं उसे छीन लेने की हद तक पहुंच जाती और छीन भी लेती। बचपन में बहन-भाइयों से छीन लिया करती थी। बड़ी हुई तो सहेलियों से छीन लेना मेरी आदत थी। मैं यह कभी बर्दाश्त नहीं कर पाती थी कि जिसको मैं पसंद करती हूं, जो मैं चाहती हूं, वह चीज़ कोई दूसरा ले जाए। मेरी इस आदत से तू भलीभांति वाकि$फ है। तेरी कोई भी चीज जो मुझे अच्छी लग जाती थी, पसंद आ जाती थी, मैं तेरे से मांगती नहीं थी, छीन लेती थी। चाहे वह तेरा पेन हो, तेरा हेयर-क्लिप हो, सूट हो या फिर जूती। तू कईबार एक दो दिनों के लिए मुंह फुला लिया करती थी, परंतु मुंह से कोई प्रतिवाद नहीं करती थी। कभी लड़कर अपनी चीज़ वापस नहीं ली। तेरे मुंह में जैसे जुबान ही न हो। निर्मल…मैं कईबार सोचती थी कि तू कैसी लड़की है। इसी बीच, हमारी जि़ंदगी में रवीन्द्र आ गया। एक सुंदर, खूबसूरत नौजवान। मेरी बड़ी बहन की एक सहेली का छोटा भाई। पता नहीं, उसकी देह में कैसी खुशबू थी कि मैं पहली ही नज़र में उसकी हो गई। सोते-जागते उसका नशा मेरे पर तारी रहता। हर व$क्त उसकी सूरत मेरी आंखों के सामने रहती। वो जब भी मेरे साथ बात करता, मैं किसी दूसरी ही स्वप्नमयी दुनिया में पहुंच जाती। वह मेरे संग इतना खुल गया था कि हम आपस में हर प्रकार की बातें कर लेते थे। वो बातें भी जो समाज में वर्जित कही जाती हैं। फिल्म और साहित्य को लेकर वह अक्सर बातें करता था। विशेषकर वे बातें जो स्त्री-पुरुष के बीच की अंतरंग बातों को व्याख्यायित करती थीं। मेरे भीतर एक औरत भूखी रहने लगी थी। मैं उसकी भूख को कुचलने की कोशिश करती, तो वह और अधिक भड़क उठती। मैं सोचती कि वह भूख रवीन्द्र के सानिध्य में कम हो जाएगी, उसके स्पर्श से वह शांत हो उठेगी, पर ऐसा न होता। वह और अधिक तेज़ हो जाती। फिर सोचती, रवीन्द्र्र की अनुपस्थिति में यह भूख शांत हो जाएगी, पर जब वह मेरे करीब न होता तो इस भूख को जैसे दौरा-सा पड़ जाता। मुझे वह रवीन्द्र के पास दौड़ा ले जाना चाहती। अभी मैं अपने भीतर की औरत की इस भूख से दो-चार हो ही रही थी कि मुझे यह अहसास होने लगा कि रवीन्द्र की दिलचस्पी मुझमें खत्म होती जा रही है, वह अब तेरी तर$फ झुक रहा है। जब वह मुझसे मिलने आता था, मुझे लगने लगता कि वह मुझे नहीं, मेरे बहाने तुझे मिलने आता है। उसकी नज़रें अब मुझे नहीं तलाशती थीं। वह अब तेरे में दिलचस्पी लेने लग पड़ा था। यह बात अलग है कि वह अभी भी मुझसे उसी प्रकार खुल कर बातें किया करता था। यह मेरे लिए असहनीय था, कतई असहनीय निर्मल… मुझे यह बिल्कुल मंजूर नहीं था कि वह मुझे इग्नोर करके तेरे संग बातें करें। फिर, मुझे ऐसा प्रतीत हुआ जैसे तू भी उससे प्रेम करने लग पड़ी थी। वह आता तो तेरा चेहरा खिल उठता। तू अधिक से अधिक उसके संग रहना चाहती थी। मुझे लगा मानो तू मेरे से मेरी प्यारी चीज़ को छीन लेना चाहती है। मैं रवीन्द्र को पूरा का पूरा हासिल करना चाहती थी। मेरे भीतर की औरत पागल हुई बैठी थी। मैंने तेरे बारे में रवीन्द्र से क्या-क्या झूठ नहीं बोला। तेरे चरित्र को दागी बताया। तेरी बुराइयां की। कालेज के कितने ही लड़कों के संग तेरे संबंध है, रवीन्द्र को मैं बताती रही। मैं चाहती थी कि रवीन्द्र तेरे साथ कोई रिश्ता न रखे। तेरे साथ बात न करे। परंतु, आहिस्ता-आहिस्ता मुझे पता चला कि मैं जो बात रवीन्द्र को तेरे बारे में बताती थी, वह सब की सब तुझे बता देता था। पर तूने कभी इस बारे में मेरे साथ बात नहीं की। न ही कोई झगड़ा किया, न रूठी, न रोई, न कलपी।

निर्मल… तूने अपनी कहानियों, अपनी रचनाओं के माध्यम से अपने दु:ख लोगों से साझे करने की राह खोज ली। तुझे प्रारंभ से ही साहित्य में रुचि रही थी। हिंदी साहित्य ही नहीं, दूसरी भारतीय भाषाओं का साहित्य भी तू लाइब्रेरी से इशु करवाकर पढ़ती रहती थी। तेरे पास आज एक भाषा है, एक शैली है, एक ढंग है अपनी बात अपनी कलम के माध्यम से कहने का। पर, मेरे पास तेरे जैसी न भाषा है, न शैली है, न मुझे लिखने का कोई ढंग आता है, पर मैं इस खत के जरिये तेरे साथ अपना दु:ख ही नहीं, एक सच…कड़वा सच भी साझा करना चाहती हूं। निर्मल…मैंने तुझे ही नहीं, रवीन्द्र को भी धोखा दिया। पर आज लगता है, धोखा तो मैंने अपने आप को भी दिया था। मैं रवीन्द्र को हर हाल में अपना बनाना चाहती थी, उसकी हो जाना चाहती थी। मैं चाहती थी कि वह मेरा रहे, पूरा का पूरा। मैं बाजी हारना नहीं चाहती थी। हमारे एम.ए. फाइनल के पेपर हो चुके थे। एक दिन मैंने रवीन्द्र से कहा कि मेरी कोख में उसका अंश पल रहा है। उसके पैरों तले से जैसे धरती खिसक गई हो। वह घबरा गया। मैंने उससे कहा कि यदि वह महीने के अंदर-अंदर मेरे साथ विवाह नहीं करेगा तो मैं यह बात अपने परिवार में बता दूंगी और खुद ज़हर खा लूंगी। रवीन्द्र मेरी धमकी से डर गया। जो तीर मैंने चलाया था, वह ठीक निशाने पर लगा था। उसने चुपचाप मेरी बात मान ली। मेरे माता-पिता और भाइयों ने रवीन्द्र को लेकर कोई एतराज़ नहीं किया। शायद इसके पीछे रवीन्द्र का एक अच्छे परिवार से होना रहा हो या फिर उसके परिवार के सफल कारोबार का होना एक कारण रहा हो। मैं खुश थी। हवा में उड़ रही थी। मेरे पैर धरती पर नहीं पड़ रहे थे। मेरे सपने सच होने जा रहे थे। यह वो खुशी थी जिसे मैं तब तुझसे शेयर करना चाहकर भी शेयर नहीं कर पा रही थी।

महीने भर बाद हमारा विवाह हो गया। मुझे वो दिन अभी भी याद हैं जब मैंने आ$िखरी बार तेरा चेहरा देखा था, तूने कोई रोष व्यक्त नहीं किया था, कोई प्रतिवाद नहीं किया था। तूने हम दोनों को मुबारकबाद दी थी और तेरे चेहरे पर खुशी के रंग थे। पर क्या तू वाकई भीतर से खुश थी? नहीं, तुझे बहुत दु:ख हुआ था रवीन्द्र की बेवफाई पर, पर जैसा कि तेरा स्वभाव रहा है, तूने उफ्फ तक नहीं की। अपना दु:ख, अपनी पीर अपने अंदर ही जज़्ब कर ली।

विवाह के बाद हम मुम्बई आ गए। पहले रवीन्द्र अपने पिता और भाइयों के संग मिलकर कारोबार करता रहा, फिर उसने अपना बिजनेस अलग कर लिया। अपने बिजनेस को लेकर वह पागल हुआ फिरता था। वह मुझे प्यार करता था, या फिर अपने काम को। पर निर्मल… मैं अपना झूठ कब तक छिपा सकती थी? विवाह के तीन महीनों बाद भी जब मैं उम्मीद पर न हुई तो मेरी परेशानी बढ़ने लग पड़ी। मैं अपने झूठ को कैसे छिपाती। मैंने एक दिन रवीन्द्र से सबकुछ सच सच बता दिया। मैंने यह झूठ सिफ़र् रवीन्द्र को हासिल करने के लिए बोला था। मैं उससे बेइंतहा मुहब्बत करती थी। पर रवीन्द्र इस सच को जानने के बाद मेरे साथ कभी हंसकर नहीं बोला। वह जैसे $खामोशी के गहरे कुओं में गुम होता चला गया था। वह बहुत कम मतलब की बात ही मेरे साथ करता। उसने अपने आप को और अधिक अपने काम और बिजनेस में झोंक दिया। एक वर्ष बीता, दूसरा बीता और फिर तीसरा… चौथा और मैं मां बनने को तरस गई। डॉक्टरों को दिखलाया तो उन्होंने जो जवाब दिया, वह मेरे लिए ऐसे था जैसे मेरे कानों में किसी ने गरम पिघलता हुआ शीशा डाल दिया हो। मैं जि़ंदगी में कभी मां नहीं बन सकती थी।

दु:ख का एक विशाल पहाड़ जैसे मेरी ख्वाहिशों पर अचानक आ गिरा था। सारी चाहतें, सारे सपने उसके नीचे दबकर, कुचलकर दम तोड़ रहे थे और मैं बेबस देख रही थी। मुझे कुछ भी अच्छा नहीं लगता था। न खाने को, न पीने को, न पहनने को। रात रातभर मैं जागती रहती। मुझे अपनी जि़ंदगी में अंधेरा ही अंधेरा दिखाई देता था। काला… स्याह अंधेरा… रोशनी की हर किरण को लीलता हुआ। 

एक दिन मुझे $खबर मिली कि पुत्र की चाह में मेरी बड़ी बहन के यहां तीसरी कन्या ने जन्म लिया था। एक दिन रवीन्द्र और मैंने आपस में सलाह-मशवरा किया और मैं अपनी बहन की छह महीने की बेटी अपने घर ले आई। रवीन्द्र ने उसका नाम रखा- श्वेता। श्वेता के आ जाने के बाद मेरे अंदर की मां जैसे जीवित हो उठी। हमने श्वेता को पाला, पोसा, पढ़ाया और योग्य बनाया। जब वह ब्याहने योग्य हुई तो रवीन्द्र ने कहा, ‘हम अपनी बेटी का विवाह उसके संग करेंगे जो घर-दामाद बनने को तैयार होगा।Ó हमें वर खोजने में कोई अधिक परेशानी नहीं हुई। रवीन्द्र्र का फलता-फूलता बिजनेस था, हमारी बेटी पढ़ी-लिखी और सुन्दर थी। हमने उसका विवाह कर दिया। लड़का हमारे घर पर ही रहने लगा। रवीन्द्र के साथ बिजनेस में हाथ भी बंटाने लग पड़ा। और फिर एक दिन मेरी जि़ंदगी में फिर से अंधेरा छा गया।

एक दिन काम करते समय रवीन्द्र की छाती में ऐसा दर्द उठा कि वह वहीं का वहीं ढेरी हो गया। उसको हार्ट-अटैक पड़ा था। फिर इसके बाद की कहानी मैं निर्मल तुम्हें क्या बताऊं… जिसे मैंने अपनी बेटी समझकर पाला, उसने मुझे मां कहना तो एक तरफ, मां समझना भी बंद कर दिया। मां जी, मां जी करते दामाद ने भी रंग बदल लिए। दोनों ने रवीन्द्र का सारा बिजनेस अपने हाथों में ले लिया। एक फ्लैट और थोड़ी-सी प्रॉपटी मेरे नाम छोड़कर उन्होंने सबकुछ बेच दिया और स्टेट्स चले गए। कई वर्ष हो गए हैं अब तो उन्हें गए हुए। कभी कोई फोन नहीं, कोई चि_ी नहीं। मैं हूं और बस, मेरा अकेलापन है। कभी-कभी मैं सोचती हूं कि दूसरों से चीज़ें छीन लेने वाली मैं आज अपना सबकुछ गवां चुकी हूं। निर्मल… जब मैंने रवीन्द्र को तेरे से छीना था तो सोचा था कि मैं जीत गई और तू हार गई। पर मुझे लगता है, मैं जीतकर भी जीती नहीं थी, और तू हारकर भी हारी नहीं थी। रवीन्द्र ने तुझे कभी अपने दिल से भुलाया नहीं था। वह बेशक मेरे साथ था, दुनियादारी के लिए मुझसे प्यार करता था, पर दिल से तेरे पास था, तुझे ही प्यार करता था। कई बार मुझे प्यार करते करते मेरा नाम भूल जाता था और ‘निर्मल… निर्मल…’ कहने लग पड़ता था। उन्हीं क्षणों में मुझे लगता था, वह मुझे नहीं, मेरे जरिये तुझे अपनी बांहों में कस रहा है… तुझे प्यार कर रहा है। सच, निर्मल, वह मेरा कभी हुआ ही नहीं। वह तो तेरा था जिसको मैंने झूठ का सहारा लेकर तुझसे छीन लिया था। अगर मुझे मा$फी के योग्य समझो तो मुझे मा$फ कर देना, निर्मल… तेरी सखी- रंजना।

निर्मल के हाथों में खत अभी भी झूल रहा है… उसके हाथ कांप रहे हैं… उसने खत को पहले अपने होंठों से लगाया और फिर छाती से चिपका लिया है। उसको ऐसा लगता है मानो उसने खत को नहीं, रंजना को अपनी छाती से लगा रखा है… उसकी आंखों से दो मोती गिरते हैं और खत के पन्ने उन मोतियों को अपने में जज़्ब कर लेते हैं। 

यह भी पढ़ें –पहल – गृहलक्ष्मी कहानियां

-आपको यह कहानी कैसी लगी? अपनी प्रतिक्रियाएं जरुर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही आप अपनी कहानियां भी हमें ई-मेल कर सकते हैं-Editor@grehlakshmi.com

-डायमंड पॉकेट बुक्स की अन्य रोचक कहानियों और प्रसिद्ध साहित्यकारों की रचनाओं को खरीदने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें-https://bit.ly/39Vn1ji