googlenews
डब्ल्यूबीसी ज्यादा होने से क्या होता है?: WBC
WBC Meaning

WBC यानी व्हाइट ब्लड सेल्स हमारे शरीर की रक्षा करते हैं। लेकिन जब ये कम या ज्यादा हो जाते हैं, तो इसके अपने साइड इफेक्ट्स होते हैं। फरीदाबाद स्थित एशियन हॉस्पिटल के ओनकोलॉजी, हेमैटोलॉजी के सीनियर कन्सल्टेन्ट और बोने मैरो ट्रांसप्लांट के हेड डॉ प्रशांत मेहता आज इस लेख में डब्ल्यूबीसी के बारे में हर तरह की जानकारी दे रहे हैं। 

WBC कम होने से क्या होता है?

सामान्य से कम डब्ल्यूबीसी कुछ खास तरह की दवाइयों, वायरल इनफेक्शन जैसे इंफेक्शन और बीमारी के कारण बढ़ी हुई गतिविधि और प्लीहा के आकार के साथ कभी-कभी बिना डायग्नोस किए गए क्रॉनिक लिवर डिजीज ब्लड कैंसर, अप्लास्टिक एनीमिया और मायलोयोड्सप्लास्टिक सिंड्रोम (बोने मैरो से पहले कैंसर की स्थिति) जैसे कारण से व्हाइट ब्लड सेल्स कम हो सकते हैं। इसके कारण किसी व्यक्ति को ल्युकोपिनीया नाम की बीमारी हो जाती हैं।

डब्ल्यूबीसी ज्यादा होने से क्या होता है?

सामान्य से ज्यादा व्हाइट ब्लड सेल्स कुछ खास तरह की बीमारियों का लक्षण होते हैं जैसे बैक्टीरियल इंफेक्शन और कई बार ब्लड कैंसर के लक्षण भी। ब्लड कैंसर में ज्यादा डब्ल्यूबीसी अकाउंट के साथ कम या बहुत ज्यादा प्लेटलेट काउंट और एनीमिया भी होता है। ब्लड कैंसर को बहुत ही आसान और कम कीमत वाले टेस्ट पेरीफेरल ब्लड फिल्म के जरिए डायग्नोस किया जा सकता है। आपका डॉक्टर ब्लड कैंसर के प्रकार का पता लगाने के लिए बोन मैरो एग्जामिनेशन, फ्लो साइटोमेट्री और म्यूटेशन एनालिसिस जैसे टेस्ट कराने का भी सलाह दे सकते हैं। यदि समय पर ब्लड कैंसर की डायग्नोसिस हो जाए तो यह ठीक हो जाता है। 

सामान्य तौर पर डब्ल्यूबीसी कितना होना चाहिए?

सामान्य डब्ल्यूबीसी काउन्ट 4000-11000 /mm3 होना चाहिए। 

डब्ल्यूबीसी के प्रकार 

1- न्यूट्रोफिल – ये बैक्टीरियल और फंगल हैं, जो सीधे इंफेक्शन से लड़ते हैं। 

2- ईसिनोफिल और बेसोफिल – ये हाइपरसेन्सिटिविटी में अपनी भूमिका निभाते हैं और कुछ पैरासाइट (परजीवियों) के खिलाफ इम्यूनिटी भी प्रदान करते हैं। 

3- लिम्फोसाइट – ये मोटे तौर पर 2 प्रकार के होते हैं – टी सेल्स, जो पैथोजेन्स (रोगजनकों) और वायरस के लिए लंबे समय के लिए इम्यूनिटी में हस्तक्षेप करते हैं। बी सेल्स, जो पैथोजेन्स के प्रति एंटीबॉडी प्रतिक्रिया में बीचबचाव करते हैं।

4- मोनोसाइट्स- ये जन्मजात (सभी विदेशी पैथोजेन्स के लिए शुरुआती रक्षा) और अनुकूली इम्यूनिटी दोनों के घटक हैं। 

डब्ल्यूबीसी क्यों बढ़ता है?

श्वेत रक्त कोशिकाएं प्रतिरक्षा प्रणाली का हिस्सा हैं। वे आपके शरीर को संक्रमण और अन्य बीमारियों से लड़ने में मदद करते हैं। जब आप बीमार होते हैं, तो आपका शरीर बैक्टीरिया, वायरस, या अन्य बाहरी पदार्थों से लड़ने के लिए अधिक श्वेत रक्त कोशिकाओं का निर्माण करता है जो आपकी बीमारी का कारण बनते हैं। इससे आपका व्हाइट ब्लड काउंट बढ़ता है।

WBC ज्यादा होने पर क्या करें?

विटामिन-सी न सिर्फ सफेद रक्त कोशिकाओं को बढ़ाता है, बल्कि यह इम्यूनिटी को बढ़ाकर कई तरह के बैक्टीरिया और वायरस से लड़ने में शरीर की मदद भी करता है। नींबू और संतरे में विटामिन-सी की भरपूर मात्रा पाई जाती है। आप इन्हें नियमित आहार में शामिल कर सकते हैं।

डब्ल्यूबीसी बढ़ जाने पर क्या खाना चाहिए?

अगर आप भी बढ़ाना चाहते हैं शरीर के अंदर व्हाइट ब्लड सेल्स तो आइए जानते हैं कुछ खास तरह के आहार के बारे में। अपने रोज के खाने में लहसुन और अदरक को शामिल करें। यह आपके शरीर को कई तरह की बीमारियों से बचाता है साथ ही आपके शरीर के अंदर व्हाइट ब्लड सेल्स का निर्माण भी करता है, जिससे आप हेल्दी रहते हैं।

उच्च डब्ल्यूबीसी किसे माना जाता है?

सामान्य तौर पर, वयस्कों के लिए एक माइक्रोलिटर रक्त में 11,000 से अधिक सफेद रक्त कोशिकाओं (ल्यूकोसाइट्स) की गिनती को उच्च सफेद रक्त कोशिका गिनती माना जाता है।

क्या आपको सामान्य डब्ल्यूबीसी से संक्रमण हो सकता है?

सत्रह प्रतिशत संक्रमित रोगियों में सामान्य सफेद गिनती और बुखार नहीं था । संक्रमण वाले रोगी में तापमान और सफेद गिनती सामान्य होने के कई कारण हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, जब ये बाद में एक संक्रमण में प्रकट नहीं हो सकते हैं, खासकर बुजुर्ग आबादी में।

Leave a comment