पतले होने के लिए कितनी रोटी खानी चाहिए

रनिंग ज्यादातर लोग खानपान में बदलाव को लेकर अक्सर लोग इस परेशानी में रहते हैं कि क्या खाएं और क्या न खाएं? जैसे कि कुछ लोगों का मानना है कि रोजाना चावल खाते से आप जल्दी मोटे हो जाते हैं और इसीलिए वे चावल की बजाय फिर दोनों टाइम सिर्फ रोटियां ही खाने लगते हैं अब कितना सही है और ये आपके शरीर के लिए कितना इफेक्टिव है ये आपको जानना बेहद जरुर है। 

वेट लॉस के लिए रोटी-

रोटी खाने के फायदे ये है कि रोटी में फाइबर की मात्रा ज्यादा होती है जिससे आपका पेट देर तक भरा हुआ रहता है और आप ओवरइटिंग से बचजाते हैं। जबकि चावल खाने से आपको जल्दी भूख लग जाती है। इस वजह से आप उटपटांग खाते रहते हैं औऱ वजन बढ़ता है।  चावल सीमित मात्रा में खाने से वजन नहीं बढ़ता।

चावल सही तरह से खाएं

चावल से वजन ना बढे इसके लिए चावल का इस्तेमाल ठीक प्रकार से करें। सबसे पहले स्टीम्ड राइस खाएं। मांड निकालकर चावल पकाएं। चावल पकाते वक्त थोड़ी मेथी डाल दें। चावल और गेंहू में फैट बराबर है ऐसे मे अगर आप चावल आपका फेवरेट है और वजन घटाना चाहते हैं तो इसे सही तरीके से खाएं 

दोनो में होती है बराबर कैलोरी

जी हां आपको जानकर हैरानी होगी कि चावल और आटे में बराबर मात्रा में कैलोरीज़ पाई जाती है। तो ऐसे में आप रोटियां खाएं या चावल कोई फर्क नहीं पड़ता बस ध्यान रहे कि इसकी मात्रा कितनी होगा। खाना कम खाएं दिन में कई बार खाएं। रोटियां भी आपको कम खानी होंगी अगर आप वेट लॉस कर रहे हैं। 

चावल को ऐसे बनाएं हेल्दी

चावल को हेल्दी बनाने के लिए इसमें आप हाइ प्रोटीन वाली चीज़ के साथ ले सकते हैं जैसे दाल चावल हेल्दी होता है। तो वहीं दही चावल भी बढ़िया भोजन है।ध्यान रहे हमेशा चावल के साथ प्रोटीन ज़रुर ले। आप चाहें तो राजमा चावल भी ले सकते हैं।

जल्दी पचता है चावल

चावल को सिर्फ इसलिए मोटापे का कारण माना गया है क्योंकि ये बहुत जल्दी पचता है और इससे जल्दी भूख लगती है और आप ओवरइटिंग कर लेते हैँ। इसका एक बढ़िया पक्ष ये है कि चावल फटाफट पच जाता है जो आपके शरीर के लिए अच्छा है। चावल में प्रचूर मात्रा में कैलोरी होती है और इसमें स्टार्च भी अधिक होता है, इसीलिए यह जल्दी पच जाते हैं. इसी वजह से चावल खाने के बाद आपको जल्दी भूख लगती है. 

सोडियम से दूरी के लिए रोटियां हटाएं

ज्यादातर सोडियम की मात्रा शरीर को नुकसान पहुंचाती है। हालांकि रोटी में ज्यादा पोषण होता है साथ ही भरपूर मात्रा में पोषण पाया जाता है। लेकिन सोडियम को खत्म करने के लिए रोटिया अपने आहार से हटाएं।

फाइबर से भरपूर है चावल

चावल भी पोषक तत्वों से भरपूर है लेकि डायटरी फाइबर्स कम होता है जबकि रोटी में प्रोटीन और फाइबर भरपूर मात्रा में पाई जाती है। इसका सेवन सीमित मात्रा में करें। कोशिश करें तो मांड निकला हुआ चावल खाएं।

क्रेविंग दूर करती है रोटी

रोटी में फाइबर भरपूर होता है ऐसे में वो आपके पेट को भरा रखता है जिसकी वजह से आप ओवरइटिंग नहीं करते। ये मोटापे से आपको बचाता है। रोटी में पोटेशियम, आइरन, फॉस्फोरस कैल्शियम, पाया जाता है जो आपकी सेहत के लिए अच्छा है।  

कितना खाएं रोटी चावल

अगर आप 150 ग्राम  सूखे चावल एक समय में खाते हैं तो आपको 600 कैलोरीज मिलती हैं. इस प्रकार से अगर आप 150 ग्राम आटा एक समय में खाते हैं तो आपको 600 कैलोरीज मिलती है। सफेद और पॉलिश चावल में फाइबर जोकि चावल की भूसी और चोकर में होता है उसे उसमें से निकाल दिया जाता है जिसके कारण चावल में मौजूद ज्यादातर माइक्रोन्यूट्रीयेंट्स जैसे विटामिन और मिनरल्स बाहर निकल जाते हैं.। रोटियों में बहुत अधिक मात्रा में फाइबर, प्रोटीन और मिनरल्स होते हैं जिसके कारण यह चावल के मुकाबले ज्यादा फायदेमंद होती हैं.

दोनो के बीच अंतर

रोटी में न्यूट्रिनीशियस वैल्यू अधिक होती है। जबकि चावल में बहत कम होती है। रोटियों को पतली-पतली सेंके और हल्की सा घी लगकर दाल या सब्जी के साथ खाएं।

कैल्शियम से भरपूर है रोटी

चावल से आपको कैल्शियम प्राप्त नहीं होता जबकि रोटी से आपको कैल्शियम के अलावा फॉस्फोरस, आयरन और पोटैशियम जैसे मिनरल्स तक मिलते हैं.

बल्ड शुगर वालों के लिए नो चावल

वैसे तो चावल में भी पोषक तत्व पाएं जैते हैं लेकिन डायबिटीज़ के मरीजों को इसे अवॉयड करना चाहिए क्योंकि यह बहुत तेजी से वजन बढ़ता है।

कुलमिलाकर रोटिया ही बेहतर

जी हां अगर आप चाहते हैं परफेक्ट डायट तो यकीनन रोटियां ही सही होंगी आपके रोजमर्रा के खाने में। चावल की थोड़ी मात्रा आप ले सकते हैं लेकिन मिनरल्स से भरपूर चावल ही होंगे आपके लिए सही।

चावल और रोटी को ऐसे खाएं  

  • चावल को मांड निकालकर पकाएं
  • स्टीम्ड राइस बनाएं।
  • रात को चावल ना खाएं
  • चावल को फैट में ना पकाएं
  • पतली दो रोटियां खाएं ये रोटियां मल्टीग्रेन हों तो और भी अच्छा है।
  • अगर आप चावल खा रहे हैं तो ब्राउन राइस खाएं.

यह भी पढ़ें –समर में अपने स्टाइल को ऐसे रखें कूल

स्वास्थ्य संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें-editor@grehlakshmi.com