googlenews
Over Nutrients
Causes of Over Nutrients in Child

Over Nutrients: मां होना कोई छोटी जिम्मेदारी तो है नहीं, हर मां को अपने बच्चे की चिन्ता सताती है, इसीलिए वो अपने बच्चे की हर छोटी बड़ी जरूरतों का पूरा ख्याल रखती है। कुछ माताएं हर वक्त अपनें बच्चों के पीछे खाना लेकर ही घूमती रहती हैं। गौर करने वाली बात यह है कहीं आप आप अपनें बच्चों को पोषण आहार देने के चक्कर में उन्हें ओवर न्यूट्रीशन का शिकार तो नहीं बना रही हैं। आइए जानते हैं क्या है ओवर न्यूट्रीशन? आप इसे किस तरह रोक सकती हैं?

आपको बता दें ये एक तरह का मैलनूट्रिशन यानी असंतुलित पोषण है जो अत्यधिक पोषण को लेने से होता है। जिससे बॉडी में बहुत ज़्यादा फ़ैट जमा हो जाता है , यानी मोटापा शुरु हो जाता है। जब आप हद से ज्यादा पोषक तत्व व पोषक आहार खाने लगते हैं, तो एक सीमा के बाद वो आपके स्वास्थ्य में बाधा डालने लगता है। इतना ही नहीं कई गंभीर बीमारियों को भी जन्म देता है।

बात करते हैं ओवर नूट्रिशन के साइड इफ़ेक्ट्स की:

1.पोषण देने के चक्कर में ओवर न्यूट्रीशन का शिकार हुए बच्चे के लिए सबसे बड़ा और ख़तरनाक साइड इफ़ेक्ट है, वज़न बढ़ना, मोटापा। इसके कारण कार्डीओवैस्क्युलर यानी ह्रदय संबंधी बीमारी, हाई बीपी, कैन्सर और टाइप 2 डायबिटीज़ की आशंका बढ़ जाती है।इसके अलावा बच्चे हाइपरएक्टिव भी हो जाते हैं।

2. आपको बता दें मोटापे के बढ़ते खतरे के कारण बच्चों में उच्च रक्तचाप, खून में कॉलेस्टरॉल व फैट्स का अत्यधिक जम जाना, जैसी घातक बीमारियां उत्पन्न होती हैं।

3. ओवर न्यूट्रीशन से आपके बच्चे में डायबिटीज़, नींद की समस्या, सांस लेने में दिक़्क़त आदि समस्याएं नज़र आने लगती हैं।

कैसे काम करें ओवर न्यूट्रीशन के खतरे को:

1.आप चाहती है की आपका बच्चा ओवर न्यूट्रीशन का शिकार न हो तो जंक फूड बिल्कुल कम दें। बेहतर होगा घर पर ही उनकी मनपसंद चीज़ें बनाकर दें।

2. बच्चों को अधिकतर मार्केट से रेडीमेड चीज़ें व पैक्ड फूड ही पसन्द आता है तो उसे बंद करें।

3. बच्चों के टिफ़िन में हेल्दी रेसिपी दें, जैसे- सैंडविच में वाइट ब्रेड की बजाय अगर ब्राउन ब्रेड यूज़ करें तो फूड और हेल्दी हो जाएगा।

4.अपने बच्चों को मोबाइल गेम व लैप्टॉप की आदत की जगह खुले मैदानों में खेलने का महत्व बताएं व गार्डन में घूमने ले जाएं। इससे वे हमेशा स्वस्थ रहेंगे।

5., अपने बच्चों को सिर्फ़ खान पान से हेल्दी बनाने के बजाय उनकी लाइफ़स्टाइल को और ज़्यादा एक्टिव बनाएं। शुरू से ही उन्हें लाइट एक्सरसाइज़ की आदत डालें।

6. बच्चों की ज़िद मानकर आप टीवी या फ़ोन देखते हुए खाना खाने की आदत न पड़ने दें। उन्हें एकाग्र मन से खाना खाने की आदत डालें।

आप अपनें बच्चों को सिर्फ़ जरूरत भर ही पोषण दे और उनकी खेल कूद , एक्सरसाइज में भी रूचि लाएं। उम्मीद है आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा।


Leave a comment