नवरात्रि के आंरभ होते ही त्योहारों का आगमन हो जाता है. नवरात्रों के खास मौके पर मां दुर्गा के नौ स्वरूपों की पूजा अर्चना की जाती है. इन नौ दिनों में मां को अलग-अलग भोग और प्रसाद चढ़ाए जाते हैं. ऐसे में घर में मुख्तलिफ व्यजंनों का तैयार होना भी लाजमी है. अब घर के सभी सदस्य इन व्यंजनों का स्वाद चखते भी हैं. लेकिन, अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं, तो अपनी सेहत का विशेष ख्याल रखें और इन टिप्स पर जरूर ध्यान दें.

अधिक चाय नुकसानदायक

नवरात्रि के मौक पर अधिकतर लोग व्रत करते हैं. अगर आप भी व्रतधारक है और डायबिटीजज के मरीज भी हैं, तो बार बार चाय पीने से बचें. इससे आपको एसिडिटी की समस्या हो सकती है. चाय के स्थान पर आप दूध या फिर कोई जूस ले सकते हैं, जिससे आपको ताकत मले.

यह भी पढ़ें- घर पर बनाएं ये 5 हेल्दी सलाद रेसिपी, टेस्ट में भी हैं दमदार

ज्यादा देर तक भूखे रहना नुकसानदायक

अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं तो अधिक समय तक बिना खाए रहना बेहद नुकसानदायक साबित हो सकता है. दरअसल, ज्यादा देर तक खाली पेट रहने से आपका शुगर लेवल बढ़ सकता है, जिससे आपको घबराहट महसूस हो सकती है. इसके चलते आपको व्रत के दौरान भारी-भरकम मील लेने की बजाय दो-दो घंटे के अंतराल में हल्का-फुल्का खाना बेहद जरूरी है।

मीठा खाने से परहेज करें

व्रत के दौरान लोग बिना परहेज किए प्रसाद और मिठाइयां ग्रहण कर लेते हैं. मगर इन सब चीजों का सेवन करने से आपका शुगर लेवल बढ़ सकता है, जिससे आपको व्रत में भी कई प्रकार की कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है और शरीर में कमजोरी भी महसूस हो सकती है.

पानी की मात्रा बढाएं

व्रत के दौरान पानी भरपूर मात्रा में पियें. दिन भर में आप आठ से दस गिलास पानी अवश्य पियें. इसके अलावा आप अगर अधिक मात्रा में पानी नहीं पी पाते हैं, तो इसकी जगह लस्सी, शरबत या फिर नारियल का पानी भी पी सकते हैं. इससे आपके शरीर में पानी की कमी महसूस नहीं होगी और आप नवरात्रि में पूरी तरह से फिट भी रहेगीं.

फलों का करें सेवन

डायबिटीज के मरीज व्रत के दौरान अपनी सेहत का खास ख्याल रखें. जी हां, नियमित अंतराल पर मखाने और भुने चनों के अलावा आप फलों या फिर ड्रायफ्रूट्स का भी सेवन करें ताकि आपका शरीर हाइड्ररेटेड रहे और आपको कमजोरी या फिर लो बीपी की समस्या से दो चार न होना पड़े. 

नियमित तौर पर शुगर लेवल करें चैक

अगर आप अपने शुगर लेवल को बैलेंस्ड रखना चाहते हैं तो शुगर लेवल का नियमित चैकअप बेहद जरूरी है ताकि आपको अपने शरीर में आने वाले उतार-चढ़ाव का अंदाजा हो सके. इसके अलावा आपको अपनी डाईट का भी पूरा ख्याल रखना चाहिए. कुछ लोग शुगर लेवल को बैलेंस्ड रखने के लिए इन्स्युलिन के इंजेक्शन भी लेते हैं.

Leave a comment