वाणी में भी मधुरता और एक दूसरे के प्रति आदर के भाव, यह देख अडोसी-पड़ोसी, मोहल्ले वाले आश्चर्चचकित थे कथित दम्पत्ति में आये इस अभूतपूर्व परिवर्तन को जानने की जिज्ञासा हर किसी को थी अंतत: रत्ना की सहेली लक्ष्मी ने पूछ ही लिया-

‘क्या बात है रत्ना! जब से तू मायके से आई है तब से राजेश जीजाजी बिल्कुल बदल गये हैं एकदम सीधे ही नही चलते, बल्कि तेरी पूछ-परख भी बहुत कर रहे हैं। तू मायके से ऐसा कौन सा जादुई चिराग लेकर आई है। मुझे भी बता, मै भी दिन भर इनकी खींच-तान और टोका-टाकी से बहुत परेशान हूँ।’

 रत्ना ने हंसते हुए कहा-

‘वो जादुई चिराग तुझे मिलने में अभी समय लगेगा’

आश्चर्य मिश्रित मुद्रा में लक्ष्मी के नयन पसर गये। मुंहसे बरबस ही निकल पड़ा-

 ‘क्यों?’

‘क्योकि! अकेले घर में क्या करते, आनन-फानन में वे भी चले गये अपने चिराग के घर रहने और चिराग तले अंधेरा, तेरा चिराग अभी कुवांरा है।’

यह भी पढ़ें –तोहफा – गृहलक्ष्मी लघुकथा

-आपको यह लघुकथा कैसी लगी? अपनी प्रतिक्रियाएं जरुर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही आप अपनी लघुकथा भी हमें ई-मेल कर सकते हैं-Editor@grehlakshmi.com

-डायमंड पॉकेट बुक्स की अन्य रोचक कहानियों और प्रसिद्ध साहित्यकारों की रचनाओं को खरीदने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें-https://bit.ly/39Vn1ji