googlenews
आज की लाइफस्टाइल में तमाम तरह के बदलाव और तनाव के चलते इंसान खुद पर ध्यान नहीं देता जोकि सही नहीं है। खुद के लिए तो थोड़ा-सा वक्त निकाला ही जा सकता है। सेल्फ केयर बहुत जरूरी है क्योंकि ये दिमाग और सेहत दोनों को खुश रखने में मदद करती है। आजकल की भागदौड़ भरी जि़ंदगी में आपको बहुत सी बातों का ख्याल रखना पड़ता है और बहुत सी चीज़ें प्राप्त करनी होती है, जिनकी लालसा से ही आप अपने जीवन में सफलता प्राप्त कर पाते हैं और इसी से समाज का विकास भी हो पाता है। पर इन्ही सब बातों के बीच हमें कुछ चीज़ों का चुनाव करना पड़ता है, जिनके लिए हमें बहुत से समझौते करने पड़ते हैं। जी हां, यहां मैं आपकी सेल्फ केयर के बारे में बात कर रहा हूं, जिसके बारे में चर्चा अक्सर होती रहती है, फिर भी लोग अपनी खुद की देखभाल करना भूल जाते हैं। 

सेल्फ केयर के महत्व को समझें

 वैसे आप सभी को यह पहले से ही पता होगा, लेकिन फिर भी हम आपको यह बताना चाहेंगे कि अपनी खुद की देखभाल करना बहुत आवश्यक होता है। हम सभी को अपने लिए थोड़ा समय अवश्य निकालना चाहिए। जैसे जीवित रहने के लिए पानी और खाने की ज़रूरत होती है, उसी तरह हमारे दिमाग और शरीर को भी आराम की आवश्यकता के लिए सेल्फ केयर की जरूरत होती है। लेकिन दुख की बात यह है कि लोगों को सेल्फ केयर की महत्ता तभी समझ में आती है जब उनकी खुद की सेहत को हानि पहुंचने लगती है। इसलिए बहुत जरूरी है कि हमें खुद से यह सवाल करना चाहिए कि अगर हमारा शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य अच्छा ना होगा तो हम अपने लक्ष्यों को कैसे पूरा करेंगे? अच्छे स्वास्थ्य का मतलब यह नहीं होता कि हमारा शरीर बीमारियों से मुक्त हो बल्कि इसके साथ-साथ आपको शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य का भी ख्याल भी रखना चाहिए। 

सपोर्ट सिस्टम को खोते जा रहे हैं

आज की भागती दौड़ती जि़ंदगी में हम अपना खुद का ध्यान रखना भूल जाते हैं। पारिवारिक रूप से बदलाव आना और दिन पर दिन टेक्नोलॉजी व मीडिया पर निर्भर रहने से हम अपने पर्याप्त सपोर्ट सिस्टम को खोते जा रहे हैं, जिसकी वजह से हमें अकेलापन महसूस होने लगता है। यह सभी कारण हैं, जिनके कारण जीवन में तनाव पैदा होने लगता है। इसके अलावा सभी व्यक्तिगत, सामाजिक, आर्थिक, कामकाजी, भावुक व आसपास के वातावरण से संबंधित कारणों के एक साथ काम करने से भी जीवन में तनाव बढ़ता है। एक साथ इतने सारे काम करना अपने आप में बहुत भारी काम दिखता है। हालांकि एक साथ दो या दो से अधिक काम करने से आपका काम कम तो हो ही जाता है लेकिन, एकसाथ इतने सारे काम करने से और वो भी कम समय व संसाधनों के साथ, आप अपने ऊपर काम का बोझ बढ़ा लेते हैं। 

ऐसे रखें ख्याल

  •  इन सभी चीज़ों को ध्यान में रखते हुए हमें इस बात का ख्याल रखना चाहिए कि हम अपने सभी प्लांस को इम्प्लीमेंट करने से पहले अच्छे से सोच समझकर प्लान करना चाहिए ताकि हम खुद का ध्यान भी रख सकें। 
  • रोज़ अपने लिए थोड़ा समय निकालना चाहिए, जिसमे हमे व्यायाम कर सकें क्योंकि शारीरिक व्यायाम से ही हमारा शरीर व मानसिक स्वास्थ्य अच्छा बना रहता है। 
  •  दस मिनट के भीतर आप कोई भी ऐसा व्यायाम कर सकती हैं, जो आपको पसंद है। अगर व्यायाम पसंद नहीं है तो सामने वाले पार्क में जाइए और 10 मिनट दौड़ ही लीजिए।
  • अपने फोन पर अपना पसंदीदा गाना लगाएं और दस मिनट तक किसी की परवाह किए बिना डांस करें। 
  • मन की बातों को एक डायरी में लिखती जाएं। खुद को मानसिक रूप से सेहतमंद रखने के लिए यह सबसे अच्छा तरीका है। इस बहाने वो भावनाएं भी बाहर निकल आती हैं, जो हम किसी और के साथ साझा नहीं कर पाते।
  • अपना फोन घर में रखें और अकेले टहलने निकल जाएं। खुद से जुडऩे का इससे बेहतर तरीका कुछ और नहीं। कभी-कभी खाली पैर घास पर भी चलकर देखें। 
सेल्फ केयर है बहुत ज़रूरी 4