प्रोटीन से भरा सत्‍तू चुटकियों में कर सकता है आपके वेट को मैनेज, जानें कैसे: Sattu for Weight Loss
Sattu Manage Weight

Sattu for Weight Loss:  वजन घटाने और मसल्‍स बनाने के लिए लोग व्‍हे प्रोटीन का सेवन करते हैं। व्‍हे प्रोटीन आपके शरीर को एनर्जी देता है साथ ही प्रोटीन की कमी को पूरा करने में भी मदद करता है। व्‍हे प्रोटीन के लिए अधिकतर लोग मार्केट में मिलने वाले प्रोटीन पाउडर का इस्‍तेमाल करते हैं। आपको बता दें ये पाउडर काफी महंगे तो होते ही हैं साथ ही इनकी शुद्धता की गारंटी नहीं होती। व्‍हे प्रोटीन के लिए यदि घर पर बने सत्‍तू का प्रयोग किया जाए तो कई हेल्‍थ प्रॉब्‍लम्‍स से छुटकारा मिल सकता है। काले चने से बना सत्‍तू गर्मियों के मौसम में किसी अमृत से कम नहीं है। बस एक गिलास सत्‍तू पीने से बॉडी को क्विक एनर्जी मिल सकती है। ये पेट को साफ रखता है और वेट लॉस में भी मदद करता है। अधिकतर लोग वेट लॉस में सत्‍तू की भूमिका से अंजान हैं। तो चलिए जानते हैं सत्‍तू कैसे वेट मैनेज करने में सहायक हो सकता है। 

क्‍या है सत्‍तू

Sattu for Weight Loss
what is sattu

सत्‍तू कई दालों और अनाजों का पाउडर है जिसका भारत में व्‍यापक रूप से सेवन किया जाता है। अक्‍सर लोग सत्‍तू की काबलियत को कम आंकते हैं लेकिन बता दें कि ये पोषक तत्‍वों का पावरहाउस है। कुछ वर्षों से वजन कम करने के लिए सत्‍तू का प्रयोग किया जाने लगा है। ये शरीर को एनर्जी देने के साथ तंदरुस्‍त बनाए रखने में मदद करता है।

कैसे करता है सत्‍तू वेट को मैनेज

हाई प्रोटीन डाइट

सत्‍तू में दूध की अपेक्षा अधिक प्रोटीन होता है। लगभग 30 ग्राम सत्‍तू में 6 ग्राम प्रोटीन पाया जाता है। सत्‍तू में फाइबर होते हैं जो पेट संबंधित समस्‍याओं को दूर कर देते हैं। ये वजन भी कम करने में मदद करता है।

मेटाबॉलिज्‍म बढ़ता है

सत्‍तू मेटाबॉलिज्‍म को बढ़ाने का काम करता है। ये हमारे मसल्‍स को भी मजबूत बनाता है। ये बड़ों के अलावा बच्‍चों के लिए फायदेमंद होता है। गर्मी के दिनों में बच्‍चों को स्‍कूल जाने से पहले दूध की बजाय 1 गिलास सत्‍तू ड्रिंक दिया जाए उन्‍हें अधिक फायदेमंद होगा। मेटाबॉलिज्‍म बढ़ने से वजन भी तेजी से घटता है।

यह भी पढ़ें | Weight Loss tips at home: वर्क फ्रॉम होम के दौरान करना है वेट लॉस तो अपनाएं यह टिप्स

पेट रहता है फुल

सत्‍तू कई तरह की दालों और अनाज से बनता है, इसलिए इसमें कार्बोहाइड्रेड की मात्रा काफी अधिक होती है। एक गिलास सत्‍तू पीने से पेट अधिक देर तक भरा रहता है। इसलिए लोग इसे अधिकतर ब्रेकफास्‍ट में लेना पसंद करते हैं। इसे पीने के बाद घंटों तक भूख नहीं लगती। भूख न लगने से एक्‍स्‍ट्रा कैलोरी खाने और मंचिंग से बचा जा सकता है।

पेट को ठंडा रखता है

प्रोटीन से भरपूर सत्‍तू
keeps stomach cool

सत्‍तू को छाछ के साथ मिलाकर पीने से पेट संबंधी विकारों से छुटकारा मिल सकता है। गर्मी के दिनों में पेट को ठंडा रखने के लिए सत्‍तू ड्रिंक का नियमित सेवन करना चाहिए। ये लू लगने से भी बचाता है। आपको बता दें कि सत्‍तू लिवर को हेल्‍दी बनाने में भी मदद करता है। ये फाइबर का भी मुख्‍य स्‍त्रोत होता है इसलिए गैस व कब्‍ज जैसी समस्‍याओं में भी आराम देता है।

सत्‍तू का सेवन कैसे करें

– सत्‍तू शरबत

– सत्‍तू परांठा

– सत्‍तू दलिया

– स्‍टफ्ड लिट्टी

– सत्‍तू छाछ