googlenews
Skin Aging: बेस्ट एंटी-एजिंग टिप्स

Skin Aging: एक समय के बाद चेहरे की त्वचा अपनी रंगत खोने लगती है और रेखाएं नजर आने लगती हैं जिसे हम एजिंग कहते हैं। इस बारे में मुंबई के क्यूटिस स्किन स्टूडियो के डर्मेटोलॉजिस्ट डॉ. अप्रतिम गोयल का कहना है कि बढ़ते वक्त के साथ हमारे शरीर में भी कई तरह के बदलाव आते हैं। हमारी त्वचा को बाहरी और भीतरी कारक रोज प्रभावित करते हैं जैसे कि हार्मोन, तनाव, पोषण, धूम्रपान, प्रदूषण और मौसम में बदलाव आदि। बढ़ती उम्र को तो रोका नहीं जा सकता है लेकिन हम अपने दिनचर्या में कुछ ऐसी चीजें शामिल कर सकते हैं जो खूबसूरती को बनाए रखने में मददगार हों।

तनाव :– 

तनाव केवल हमारे स्वास्थ्य को ही नहीं बल्कि हमारे सौंदर्य को भी प्रभावित करता है। तनाव से चेहरे पर बढ़ती उम्र के साथ पडऩे वाली रेखाएं यानी झुर्रिया जल्दी उत्पन्न हो जाती हैं। एंटी एजिंग की समस्या से बचने के लिए जरूरी है कि आप तनाव से दूर रहें। महिलाओं को सबसे अधिक काम को लेकर चिंता रहती हैं। अधिक तनाव से महिलाओं के हार्मोंस अंसतुलित होने लगते हैं अंसतुलित हार्मोंस के कारण से भी आपका सौंदर्य प्रभावित हो सकता है। तनाव को दूर करने के लिए आप मेडिटेशन भी कर सकती हैं।

व्यायाम :-  

एंटी एजिंग के लिए व्यायाम बहुत जरूरी है। त्वचा को जवां बनाए रखने में भी योग की महत्वपूर्ण भूमिका है। व्यायाम को अपने दिनचर्या में नियमित रूप से शामिल करें। टहलने के साथ साइकलिंग को अपने व्यायाम में शामिल करें। सूर्य नमस्कार भी एक अच्छा विकल्प है। इसमें पूरे शरीर की टोनिंग हो जाती है। व्यायाम से शरीर में रक्तसंचार सुचारु रूप से बना रहता है और त्वचा में आंतरिक रूप से निखार आता है।

सकारात्मक सोच :-

 कहते हैं कि जैसी आपकी सोच होती है उसका असर आपके चेहरे पर भी आता है। इसलिए हमेशा अपनी सोच को सकारात्मक रखें, क्योंकि जिस मस्तिष्क में सकारात्मक सोच होती है उनका दिमाग हमेशा खुला रहता है और वे ज्यादा खुश रहते हैं। उनके अंदर शांति बनी रहती है। सकारात्मक सोच एक ऐसी दवा है जो हर इंसान को किसी भी तरह की दुर्घटना से उबरने का मौका देती है। वैज्ञानिक मानते हैं कि जब इंसान सकारात्मक दृष्टिकोण अपनाता है तो उसके अंदर एक अलग ऊर्जा आती है, जो उसे हर मुसीबत से बचने का साहस देती है। सकारात्मक सोच रखने से आपका दिमाग तनाव से मुक्त रहेगा, जिसका असर चेहरे पर साफ नजर आएगा।

भरपूर नींद :-

कहते हैं कि अच्छी सेहत की पहली निशानी नींद होती है। अच्छी नींद ना सिर्फ केवल आपकी शारीरिक, बल्कि मानसिक सेहत को भी दुरुस्त रखती है। यदि यह ठीक नहीं तो कई समस्याएं जैसे- तनाव और ब्लड प्रेशर आदि पैदा होती हैं। भरपूर नींद से सुबह आप अपने को ऊर्जावान महसूस करते हैं। शोधकर्ताओं के अनुसार कम सोने वालों को मोटापा और अधिक वजन की शिकायत होती है। उनका मानना है कि कम सोने से हॉर्मोन प्रभावित होते हैं और हार्मोन का असंतुलन भूख को प्रभावित करता है। नींद की पांच स्टेज होती हैं- पहली नींद आना, दूसरा ब्रेन स्लो होना, तीसरा और चौथा गहरी नींद और पांचवा रेपिड आई मूवमेंट। हर सौ मिनट में ये स्टेज परिवर्तित होती रहती हैं।

तेज धूप से बचें :-

सूर्य की रोशनी विटामिन डी का सबसे मुख्य स्रोत है। लेकिन सिर्फ सुबह 7 से 9 बजे तक की धूप त्वचा के लिए अच्छी होती है इसके बाद की धूप से बचना चाहिए। क्योंकि यूवी रेज बहुत शक्तिशाली होती हैं ये न सिर्फ त्वचा की सतह को नुकसान पहुंचाती है बल्कि अत्यधिक तेज धूप लेने की वजह से त्वचा का कैंसर होने का खतरा भी रहता है। इसलिए त्वचा चाहे सामान्य ही क्यों न हो 10 से लेकर 2 बजे तक की धूप से जरूर बचना चाहिए। सूर्य की हानिकारक किरणें न केवल आपकी त्वचा को झुलसा देती है, बल्कि सूर्य की यू.वी. किरणों से त्वचा में झुर्रियां, ब्राउन स्पॉट्स आदि एजिंग की निशानियां दिखाई देने लग जाते हैं। इसलिए धूप में निकलने से पहले सनस्क्रीन लगाकर त्वचा को सूर्य की तेज किरणों से बचाएं।

विटामिन सी का सेवन :-

फलों में विटामिन सी सबसे अधिक मात्रा में होता है। खासकर जो फल स्वाद में खट्टे होते हैं जैसे- आम, अनार, स्ट्रॉबेरी, संतरा, पपीता मौसमी, अनानास, अमरूद व अन्य फल उनमें विटामिन सी की प्रचूर मात्रा होती है। इन फलों को खाने से त्वचा को कोलाजन मिलता है, कोलाजन त्वचा की खराब कोशिकाओं को पुन: निर्मित करके शुष्कता को दूर करता है और चमक को बनाए रखता है। फल खाने से त्वचा में अंदर से निखार आता है। विटामिन सी झुर्रियों को रोकने में भी काफी फायदेमंद साबित होता है।

                             

पर्याप्त पानी का सेवन :-

जैसा कि सभी जानते हैं कि पानी पीने से कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं, उनमें से एक है त्वचा के सभी विकार का शोधन करके शुद्ध करना इसलिए त्वचा तैलीय हो या रूखी, पानी प्रर्याप्त मात्रा में पीना चाहिए क्योंकि पानी शरीर से सभी विषैले पदार्थों को निकालकर शरीर की सफाई करता है। पानी से बॉडी हाइड्रेट होती है और त्वचा से अतिरिक्त तेल व गंदगी बाहर निकल जाती है। दिन भर में कम से 2 लीटर पानी पीने से आप हफ्ते भर में अपनी त्वचा में निखार देखेंगी।

सेक्स करें :-

यह सुनने में आपको थोड़ा अजीब लग रहा होगा। लेकिन आपको पता नहीं कि अगर आपकी सेक्सुअल लाइफ अच्छी होगी तो इसका असर आपकी स्किन पर भी पड़ेगा। वैज्ञानिक अध्ययन में यह बात साबित हुई है कि सेक्स सर्वोतम दवा का भी काम करता है। सेक्स तनाव दूर करने में सहायक होता है। सेक्स के दौरान डिहाइड्रोएपिऐंड्रोस्टीरॉन (डीएचईए) नामक हॉर्मोन रिलीज होता है। यह हार्मोन तनाव कम करता है और आपको जवां बनाए रखता है। वैज्ञानिकों के अनुसार जो लोग ज्यादा सेक्स करते है। वे दूसरों से 7 से 13 साल तक जवां नजर आते हैं।

ग्रीन टी :- 

एक ऐसी चाय जो आपको बढ़ती उम्र के प्रभाव को कम करने में आपकी पूरी मदद करता है। दिन में बगैर चीनी तीन कप ग्रीन टी जरूर पिएं। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट एंटी एजिंग के लिए लिए बेहतरीन काम करता है। बाजार में अलग-अलग फ्लेवर के ग्रीन टी मौजूद हैं जिसे आप अपने स्वाद के अनुसार खरीद सकते हैं।

नाइट रेजीम :- 

जितना जरूरी दिन में सी.टी.एम.पी. यानी क्लींजिंग, टोनिंग, मॉयश्चराइजिंग एंड प्रोटेक्शन है, उतना ही जरूरी रात में सी.टी.एम.एन. यानी नॉरिशमेंट है। अपनी त्वचा को रोज रात में क्लीन करने के बाद नॉरिश करने के लिए ए.एच.ए. सीरम या ऑल्मण्ड ऑयल का इस्तेमाल करें। ए.एच.ए. यानी अल्फा हाईड्रॉक्सीएसिड फलों से निकाले गए एसिड होते हैं, जो त्वचा में कोलाजन तेजी से बनाकर उस पर झुर्रियां पडऩे से बचाते हैं और आंखों के नीचे का कालापन दूर करने में भी मदद करते हैं। इस सीरम के रोजाना इस्तेमाल से साइन ऑफ एजिंग कम होंगे, साथ ही त्वचा निखरी व जवां नजर आएगी। फिर चेहरे पर बादाम तेल से मसाज करें। मसाज से ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है। नतीजतन त्वचा नमीयुक्त खिली-खिली बनती है।

Skin Aging
Night Regiment

                         

संपूर्ण पोषणयुक्त आहार :-

स्वस्थ त्वचा के लिए स्वास्थ्यवर्धक भोजन सबसे अधिक महत्वपूर्ण है। खूबसूरत त्वचा के लिए प्राकृतिक पौष्टिक तत्व युक्त भोजन है, मेवे, मछली, सफेद मीट, कुट्टू का आटा, ब्राउन राइस, हरी फूलगोभी, चुकंदर, टमाटर आदि। इसके अतिरिक्त भरपूर मात्रा में फल व सब्जियों के सेवन से त्वचा विकार रहित होती है।

एंटी-एजिंग रुटीन :- 

40 साल के बाद त्वचा ड्राय हो जाती है। ऐसे में क्लींजिंग के लिए नॉरीशिंग क्लींजिंग मिल्क या फिर क्लींजिंग क्रीम का इस्तेमाल करना चाहिए। यह त्वचा को रूखा किए बिना डीप क्लीन करता है। बढ़ती उम्र की निशानियों में आम समस्या ओपन पोर्स यानी खुले रोम छिद्रों की है। समय के साथ पोर्स बढ़ जाते हैं जिसके चलते स्किन पर एजिंग दिखती है। इन पोर्स को कम करने के लिए क्लींजिंग के बाद टोनिंग जरूर करें। एल्कोहल युक्त टोनिंग प्रोडक्ट त्वचा से नमी चुरा लेता है। इससे बचने के लिए लाइकोपीन युक्त टोनर्स का इस्तेमाल करें। नमी की कमी से चेहरे पर झुर्रियां दिखती हैं। इसकी रोकथाम के लिए त्वचा पर मॉयश्चराइजर की परत जरूर लगाएं।

बैलेंस डाइट और सब्जियां :-

 बढ़ती उम्र के प्रभाव को कम करने के लिए आपको रोजमर्रा हेल्दी और पौष्टिकता से भरपूर डाइट का इस्तेमाल बेहद जरूरी है। खाने हरी सब्जियां जैसे कि ब्रोकली, पालक और सलाद में एंटी ऑक्सीडेंट और विटामिन सी भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जो शरीर के लिए बेहद ही लाभदायक है। हरी सब्जियों से आप ना केवल अपने उम्र के बढ़ते प्रभाव से बच सकते हैं बल्कि इससे उम्र के साथ बढ़ते मोटापे से भी बच सकते हैं।

                              

सूखे मेवे घटाए उम्र :- 

सूखे मेवे भी आपकी बढ़ती उम्र पर लगाम लगाते हैं। यूं तो हर उम्र के लिए सूखे मेवे फायदेमंद होते हैं लेकिन 30 के बाद आप विटामिन इ और ओमेगा-3 फैडी एसिड में बादाम, अखरोट, फ्लैक्स सीड्स, फिश को जरूर खाएं। इनका नियमित इस्तेमाल उम्र के बढ़ते प्रभाव को कम करके आपको हमेशा जवां रखता है। 

Skin Aging
Dry fruits reduce age

सुपरफूड्स :-

 आपके फूड हैबिट्स का आपकी खूबसूरती से गहरा संबंध है। सेहतमंद त्वचा के लिए डायट में सुपर फूड्स जैसे- गाजर, टमाटर, संतरा, एवोकैडो, सॉल्मन फिश, चिया सीड्स आदि को शामिल करें। इन फूड्स में मौजूद एंटी ऑक्सीडेंट्स से आपको डि-टॉक्सीफाई करके एजिंग से दूर रखते हैं।

11 आदतें जिनसे त्वचा रहे खिलीखिली…

कैसा हो आपका एंटी एजिंग रिजीम

चेहरे को दिलाएं उम्रदराजी से मुक्ति…

त्वचा संबंधी छह आम समस्याएं और…