Posted inकथा-कहानी

‘‘ जीवन की वर्तनी ’’

वह रविवार की एक अलसाई सी सुबह थी। जब मेरी छोटी बुआ का लड़का केशव ने अचानक मुझे फोन किया कि वह पटना में ही है, और थोड़ी ही देर में मुझसे मिलने और अपनी बेटी नेहा की शादी का निमंत्रण पत्र देने मेरे घर आ रहा है। मुझे अपनी कानों पर विश्वास नहीं हुआ, […]