15 essential precautions you need to know about when banking and paying online

फाइनेन्शियल ट्रान्जैक्शन करने के दौरान कई तरह की गड़बड़ी हो जाती है। कभी हम गलत डिवाइस पर पासवर्ड इंटर कर देते हैं तो कभी अनजाने ईमेल में दी गई लिंक पर क्लिक कर देते हैं। इससे बचने के लिए हमें कुछ खास सावधानियों को बरतने की जरूरत है जो इस प्रकार हैं-

सामान्य

संदिग्ध दिखने वाले पॉप अप से सावधान रहें, जो आपके ब्राउजिंग सेशन के दौरान दिख जाते हैं।

ऑनलाइन भुगतान करने से पहले हमेशा सुरक्षित भुगतान गेटवे को चेक करें (पैड लॉक चिन्ह के साथ https:// – URL)।

अपना पिन (पर्सनल आइडेंटिफिकेशन नंबर), पासवर्ड और क्रेडिट या डेबिट कार्ड नंबर, सीवीवी को अपने तक ही रखें।

वेबसाइट या डिवाइस या पब्लिक लैपटॉप या डेस्कटॉप पर कार्ड का विवरण सेव करने से परहेज करें।

जहां भी सुविधा उपलब्ध हो, वहां टू- फैक्टर प्रामाणिकता को ऑन करके रखें।

संदेहस्पद अटैचमेंट या फिशिंग लिंक वाले अज्ञात स्रोतों से आए ईमेल को कभी भी न खोलें।

चेक बुक, केवाईसी डॉक्यूमेंट की कॉपी को कभी भी अनजाने लोगों के साथ शेयर न करें।

डिवाइस या कंप्यूटर सुरक्षा के लिए

नियमित अंतराल पर पासवर्ड बदलते रहें।

डिवाइस पर एंटी वायरस इंस्टॉल करके रखें और जब भी अपडेट उपलब्ध रहे उसे जरूर इंस्टॉल करें।

अनजाने यूएसबी ड्राइव या डिवाइस को इस्तेमाल करने से पहले हमेशा स्कैन करें।

अपने डिवाइस को अनलॉक करके न छोड़ें।

एक निश्चित समय के बाद डिवाइस के ऑटो लॉक को कॉन्फिगर करें।

अनजाने एप्लिकेशन या सॉफ्टवेयर को बिल्कुल भी इंस्टॉल न करें।

अनजाने डिवाइस पर पासवर्ड या कॉन्फिडेंशियल जानकारी को स्टोर करके न रखें।

सुरक्षित इंटरनेट ब्राउजिंग के लिए

असुरक्षित वेबसाइट पर जाने से परहेज करें।

अनजाने ब्राउजर के इस्तेमाल से परहेज करें।

पब्लिक डिवाइस पर पासवर्ड सेव करने से बचें।

अनजाने वेबसाइट पर सुरक्षित क्रेडेंशियल को इंटर करने से परहेज करें।

सोशल मीडिया पर अनजाने लोगों से अपनी व्यक्तिगत जानकारी बिल्कुल भी शेयर न करें।

यदि कोई पेज आपको किसी ईमेल या एसएमएस पर आपको ली जाए तो, उस पेज की सिक्योरिटी को हमेशा वेरिफाई करें।

सुरक्षित इंटरनेट बैंकिंग के लिए

पब्लिक डिवाइस पर हमेशा वर्चुअल कीबोर्ड का इस्तेमाल करें, चूंकि कीस्ट्रोक को भी कॉम्प्रोमाइज (समझौता किए गए) डिवाइस कीबोर्ड आदि से कैप्चर किया जा सकता है।

इस्तेमाल के तुरंत बाद इंटरनेट बैंकिंग सेशन से लॉग आउट कर लें।

समय- समय पर पासवर्ड को बदलते रहें।

ईमेल और इंटरनेट बैंकिंग के लिए एक समान पासवर्ड का इस्तेमाल न करें।

फाइनेंशियल ट्रांजेक्शन के लिए पब्लिक टर्मिनल (जैसे साइबर कैफे आदि) का इस्तेमाल करने से बचें।  

ईमेल अकाउंट सुरक्षा के लिए

अनजाने एड्रेस से आए हुए ईमेल को बिल्कुल भी क्लिक न करें।

पब्लिक या फ्री नेटवर्क पर ईमेल का इस्तेमाल करने से परहेज करें।

सुरक्षित क्रेडेंशियल या बैंक पासवर्ड आदि को ईमेल में स्टोर न करें।

पासवर्ड सुरक्षा के लिए

अल्फान्यूमेरिक और विशेष कैरेक्टर के कॉम्बिनेशन को अपने पासवर्ड में इस्तेमाल करें।

यदि सुविधा उपलब्ध हो, तो अपने सभी अकाउंट के लिए टू फैक्टर वैरीफिकेशन को रखें।

समय- समय पर पासवर्ड बदलते रहें।  

ये भी पढ़ें – 

RBI Alert : नकली विज्ञापन, एसएमएस, ईमेल, इन्स्टेन्ट मैसेजिंग, वेबसाइट या एप से मिलने वाली लोन धोखेधड़ी से रहें सावधान

RBI Alert : एटीएम कार्ड स्किमिंग, स्क्रीन शेयरिंग एप, सिम स्वैप, सर्च इंजन के जरिए क्रेडेंशियल, क्यूआर कोड और सोशल मीडिया से होने वाली धोखेधड़ी से रहें सावधान

मनी अलर्ट सम्बन्धी यह आलेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही टेक्नॉलजी से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें- editor@grehlakshmi.com