googlenews
करवाचौथ व्रत में इस तरह अपना रखें ध्यान:
Karva Chauth Vrat

Karva Chauth Vrat : भारतीय परंपरा के अनुसार करवाचौथ का व्रत शादीशुदा महिलाओं के लिए सबसे खास दिन होता है जो हर साल पूरे रीति-रिवाजों के साथ मनाया जाता है। पति के अच्छे स्वास्थ्य और लंबी आयु के लिए महिलाएं इस दिन निर्जल और निराहार व्रत रखती हैं। लेकिन कई महिलाओं को व्रत के दौरान स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को भी झेलना पड़ता हैं जैसे-डिहाइड्रेशन, सिर दर्द, घबराहट, थकान, चिड़चिड़ाहट, एसिडिटी। लेकिन अगर महिलाएं कुछ बातों का ध्यान रखें तो वे ऐसी समस्याओं से बच सकती हैं।

सर्गी के समय लें हैल्दी डाइट

सूर्योदय से पहले सरगी के समय स्लो-कार्बोहाइड्रेट ( फेनिया, नारियल, ताजी फल-सब्जियां, दाल, स्प्राउट्स, दूध-दही जैसी हाई प्रोटीन डाइट, मिनरल्स और विटामिनों से भरपूर ड्राई फ्रूट्स) खानी चाहिए क्योंकि फाइबरयुक्त स्लो-कार्ब लेने से वे धीमी गति से पचते हैं, देर तक एनर्जी प्रदान करते हैं। बादाम, अखरोट जैसे ड्राई फ्रूट्स खाने से शरीर की इम्यूनिटी मजबूत होती है जो दिन भर एनर्जी प्रदान करने में मदद करती है। सुबह उठकर ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थ या संभव हो तो नारियल पानी पीना चाहिए ताकि डिहाइड्रेशन न हो।  

करवाचौथ व्रत में इस तरह अपना रखें ध्यान: Karva Chauth Vrat
Take healthy diet at the time of Sargi

जहां तक हो सके सरगी के समय महिलाओं को फास्ट-कार्ब (बेकरी आइटम, मिठाइयां, फ्रूट जूस) से परहेज करना चाहिए। फास्ट-कार्ब शरीर में शूगर लेवल को बढ़ा देते हैं जिससे जल्दी प्यास और भूख लगने लगती है। इस समय गरिष्ठ भोजन न करना चाहिए क्योंकि तला-भुना भोजन करने से महिलाओं को प्यास लगने या एसिडिटी की समस्या हो सकती है।    

बाहर जाना करें अवायड

करवाचौथ के दिन बाहर या ऑफिस जाना अवायड करना चाहिए। व्रत के लिए जरूरी सामान एक दिन पहले ही ले आना चाहिए। मेंहदी लगाने, फैशियल, हेयर कटिंग-कलरिंग वगैरह के लिए करवाचौथ वाले दिन ब्यूटी पार्लर जाने से बचना चाहिए। ये काम यथासंभव एकाध दिन पहले ही करवा लेने चाहिए। धूप में जाने से घबराहट हो सकती है, प्यास लग सकती है। व्रत में पानी न पी पाने के कारण डिहाइड्रेशन का खतरा हो सकता है। कोशिश करनी चाहिए कि दिन में घर पर रहें और ज्यादा से ज्यादा आराम करना चाहिए।

घर के काम में लगाएं शार्ट कट

अगर महिलाएं घर के काम खुद करती हैं तो करवाचौथ के दिन कोशिश करनी चाहिए कि ज्यादा मेहनत वाले काम न करें। खाना बनाने में भी शोर्ट कट पाॅलिसी अपनानी चाहिए। इससे प्यास नहीं लगेगी, घबराहट और थकान कम महसूस होगी।

दिन में पहने कंफर्टेबल आउटफिट

शाम के समय होने वाली करवाचौथ की पूजा में महिलाएं सजती-संवरती हैं और हैवी ड्रेस पहनती हैं। उन्हें कोशिश करनी चाहिए कि दिन में हल्के और बिना फिटिंग वाले कपड़े पहनें ताकि कंफर्टेबल रह पाएंगी और घबराहट जैसी समस्याओं से बच सकती हैं।

करवाचौथ व्रत में इस तरह अपना रखें ध्यान: Karva Chauth Vrat
Comfortable outfits worn during the day

रखें खुद को बिज़ी

समय व्यतीत करने के लिए महिलाएं हल्के-फुल्के काम में व्यस्त रख सकती हैं। शाम को अपने परिवार, दोस्तों के संग पूजा करने जाने की तैयारी कर सकती हैं या फिर अपनी पसंदीदा फिल्म या प्रोग्राम देख सकती हैं। कुछ न सही तो अपने लाइफ पार्टनर और बच्चों के संग बिताए अच्छे पलों को याद करने के लिए फोटो एलबम या वीडियो देख सकती हैं या फिर शाम को अपने परिवार, दोस्तों के संग पूजा करने जाने की तैयारी कर सकती हैं। ध्यान बांटने से व्रत रखने में भूख-प्यास महसूस होने से बचेंगी।

रहें टेंशन फ्री

पूजा सामग्री और शृंगार के लिए जरूरी चीजें उन्हें एक दिन पहले ही तैयार कर लेनी चाहिए वरना उन्हें टेंशन हो सकती है और व्रत में तबीयत भी बिगड़ सकती है। पूजा के लिए घर पर ही तैयार होना चाहिए। किसी तरह की दिक्कत हो, तो परिवार के अन्य सदस्यों या फ्रेंड्स की मदद ले सकती हैं।

करवाचौथ व्रत में इस तरह अपना रखें ध्यान: Karva Chauth Vrat
stay tension free

पूजा के बाद यथासंभव लें लिक्विड डाइट

करवाचौथ की पूजा- कथा करने के बाद महिलाओं को दूध, नारियल पानी, पानी, रसेदार फल या घर का बना जूस जरूर पी लेना चाहिए। इससे उनमें डिहाइड्रेशन, एसिडिटी, सिर दर्द जैसी समस्याओं से बचाव तो होगा ही, ऊर्जा भी मिलेगी। चाय-काॅफी पीने से बचना चाहिए क्योंकि इससे प्यास ज्यादा लग सकती है और घबराहट हो सकती है।  

व्रत खोलने पर रखे ध्यान

रात को चंद्रमा को अर्घ देने यानी व्रत खोलने के बाद तुरंत एकसाथ ज्यादा खाना-पीना नहीं चाहिए। इससे एसिडिटी या डायजेशन की समस्या हो सकती है। पहले थोड़ा पानी, नारियल पानी या तरल पदार्थ लें, साथ में फल ले सकती हैं। चाय-काॅफी नहीं लेनी चाहिए। थोड़ी देर बाद रुककर खाना खाना चाहिए। व्रत के बाद गरिष्ठ भोजन या तला-भुना, ज्यादा मिर्च-मसालेदार भोजन अवायड करना चाहिए।

(डाॅ चारू गोयल, जनरल फिजीशियन, मणिपाल अस्पताल, दिल्ली से बातचीत के आधार पर)

Leave a comment