googlenews
Hindi kahani - माँ को मिली नई पहचान
Laut Aao Maa

 लौट आओ माँ-हमारी शादी की आठवीं सालगिरह थी मेरे पति “आकाश” ने इस अवसर पर अपने कुछ खास दोस्तों और परिवार के लोगों को हमारी खुशी में शामिल होने के लिए घर पर आमंत्रित किया था ।

शाम ढलते ही मेहमान घर पर आने लगें,हम दोनों बहुत खुश थें, पर इस खुशी के अवसर पर भी मेरा मन उदास सा था,क्योंकि शादी के आठ साल बाद भी मेरी कोई संतान नहीं थी,जाने कितनी मन्नतें मांगी मैंने भगवान से कि वो मेरी गोद भर दें, कई डॉक्टर को भी दिखाया पर सब कुछ ठीक होते हुए भी आज तक मेरी गोद खाली ही थी। मैं अपनी उदासी को अपनी मुस्कुराहट के पीछे छिपाए मेहमानों के स्वागत में लगी हुई थी।

खाने का समय हो चला था मैं खाना सर्व कर रही थी कि तभी अचानक ही मुझे चक्कर आया और मैं बेहोश हो गई;आकाश ने तुरंत ही डॉक्टर को फोन करके घर पर बुलाया, डॉक्टर ने मेरी जांच की और फिर उन्होंने जो कहा उसे सुनकर  ऐसा लगा जैसे “सालों से बंजर पड़ी जमीन पर मानो अचानक ही फसल लहलहा उठी हो,डॉक्टर ने कहा कि मैं “माँ” बनने वाली हूँ !जिस खबर को सुनने के लिए मैं रात दिन तड़पती थी आज उस खबर को सुनते ही मैं अनायास ही रोने लगी,!आज मुझे पहली बार ये एहसास हुआ कि आंसू सिर्फ  तकलीफ में ही आंखों से नहीं बहते, बल्कि कई बार हद से ज्यादा खुशी भी आंखों से आंसू बन बहने लगती है, क्योंकि अक्सर सुख या दुख को व्यक्त करने के लिए शब्द मौन हो जाते हैं, लेकिन आंखों नेे कहां मौन होना सीखा है!

मेरी शादी की ये सालगिरह मेरे जीवन की एक यादगार सालगिरह बन गई,सभी हमें बधाइयां देने लगें।आकाश जो हमेशा अपने पिता बनने की चाहत को मुझसे छिपाए रखते थें वो इस वक्त बहुत खुश थें ।

आखिर वो दिन भी आया जब मेरी खुशी मेरी गोद में थी; भगवान ने मुझे एक बहुत ही प्यारा सा बेटा दिया, मैं अपने बेटे को अपनी गोद में देख खुशी से रोते हुए उसे चूमने लगी,

तभी आकाश कमरे में आए, उनके साथ डॉक्टर भी थें,डॉक्टर ने मुझसे मेरे बच्चे को लिया और उसको चेक करने लगे, मैंने देखा कि आकाश परेशान से लग रहे थें, मैं कुछ समझ नहीं पा रही थी कि बात क्या है!तभी डॉक्टर ने मुझे मेरे बच्चे को वापस पकड़ाते हुए कहा कि;मैं श्योर हूं “आपका बच्चा देख नहीं सकता है”!ये सुनकर मैं एकदम सुन्न हो गई! मेरी कुछ समझ ही नहीं आया कि डॉक्टर ये क्या कह रहे हैं? मेरा बच्चा तो बिल्कुल ठीक ठाक है,डॉक्टर की बात सुनकर आकाश भी उदास से चुप खड़े थें, थोड़ी ही देर में डॉक्टर वहां से चले गए ।

मैं आकाश की ओर देखते हुए उनसे पूछी,ये डॉक्टर क्या कह रहे थें?मेरा बच्चा देख नहीं सकता?लेकिन ये तो बिल्कुल ठीक है! आप इसकी आंखे देखिए आकाश कितनी सुंदर हैं ; फिर ये कैसे हो सकता है, कि मेरा बच्चा देख नहीं सकता?जरूर डॉक्टर को कोई गलतफहमी हुई होगी, तभी आकाश मेरे पास आएं और बच्चे को अपनी गोद में उठा कर रोने लगे; और बोले कि”अवनी डॉक्टर सही कह रहे हैं हमारा बच्चा कभी भी देख नहीं सकता”आकाश की बात सुनकर मुझे ऐसा लगा मानो मेरे कान में किसी ने पिघला शीशा डाल दिया हो!मेरी तो समझ ही नहीं आ रहा था कि जिस खुशी को पाने के लिए मैं सालों से दिन रात तड़प रही थी आज उस खुशी को पाकर मैं खुश होऊं या रोऊं! मैं स्तब्ध सी एकटक अपने बेटे को देखे जा रही थी, मेरा बेटा इस वक्त मुझे दुनिया का सबसे खूबसूरत बच्चा लग रहा था, उसके निश्छल मासूम चेहरे को देख कर मेरा कलेजा फटा जा रहा था, मैंने तुरंत ही उसे अपने सीने से लगा लिया और रोने लगी;आकाश मुझे चुप कराते हुए बोले कि “रो मत अवनी”कम से कम भगवान ने हमें औलाद का सुख तो दिया ना, हमारा बच्चा उन्हीं का आशीर्वाद है देखना सब ठीक हो जाएगा।

आकाश ने मुझे हिम्मत दिलाई और कुछ ही 

देर में मैं भी सामान्य हो गई, मुझे भी लगा कि सच ही तो है कि भगवान के आशीर्वाद से मुझे”माँ”बनने का सौभाग्य तो मिला; मेरा बच्चा उन्हीं का आशीर्वाद है और अब यही मेरी दुनिया है और मेरी जिंदगी भी…

मैंने अपने बच्चे का नाम “अंश” रखा”हमारा अंश”, मैंने अपने जिंदगी का लक्ष्य बनाया कि मैं अपने “अंश” को कभी भी किसी पर आश्रित नहीं होने दूंगी, और न ही उसकी कमी को उसकी कमजोरी बनने दूंगी।

मैं अंश की हर छोटी बड़ी जरूरत का पूरा ध्यान रखती, मेरी रात उसके सोने से और सुबह उसे जगाने के साथ होती।

अंश के चार साल के हो जाने पर हमने उसका दाखिला एक ब्लाइंड स्कूल में करवाया।लेकिन आगे का सफर हमारे और हमारे अंश के लिए आसान नहीं था।

कई बार अंश के पूछे सवाल मुझे अंदर तक तोड़ जाते थे पर मैं बड़ी हिम्मत से बिना टूटे बिना रोए उसके सारे सवालों का जवाब देती।जब भी वो मुझसे पूछता कि, माँ मुझे हर चीज काली ही क्यों दिखती है? आवाजें तो सुनता हूं पर कोई दिखता क्यों नहीं? आप भी मुझे नहीं दिखती पापा भी मुझे नहीं दिखते क्या आप लोगों को भी मैं नहीं दिखता हूं? क्या हर चीज काली ही है?ऐसे अनगिनत सवाल जिसका जवाब देते हुए मेरी आत्मा रो देती ।

समय निर्बाध गति से बढ़ता गया…

अंश अपनी कॉलेज की पढ़ाई पूरी कर चुका था और मेरे कहने पर उसने शिक्षक के पद पर आवेदन किया था; हालांकि अंश का मन नहीं था फॉर्म भरने का क्योंकि अंश जॉब नहीं करना चाहता था, वो कहता कि वो ऐसे किसी जगह नहीं जाएगा जहां मैं उसके साथ ना रहूं,पर मैं अंश को अब बिना मेरे सहारे के आगे बढ़ते हुए देखना चाहती थी, मैं उसे अक्सर समझाती कि अब उसे खुद को खुद से ही संभालना पड़ेगा,मैं हर वक़्त तो उसके साथ नहीं रह सकती ना,लेकिन वो बड़ी लापरवाही से मुझसे कहता क्यूं आप कहां जा रही हो?आपको पता है ना कि मैं आपके बिना कुछ नहीं कर सकता; उसके मुंह से ऐसी बातें सुनकर मैं परेशान हो जाती थी,,इस बारे में जब मैंने आकाश से बात की तो उन्होंने भी वही कहा जो अंश कहता, लेकिन मुझे ये सही नहीं लगता था क्योंकि मैं चाहती थी कि अब अंश बिना मेरे सहारे के अपनी मंजिल की ओर बढ़े,

लेकिन अंश की सोच से मैं परेशान रहने लगी।  मेरी कुछ समझ नहीं आ रहा था कि मैं क्या करूं! कभी कभी मैं अंश की इस सोच के लिए स्वयं को जिम्मेदार मानती,मुझे ऐसा लगता कि शायद मैंने ही अंश को अपने सहारे की आदत डाल दी है, अंश की इस सोच की वजह शायद मैं खुद थी।

इसी बीच अंश को गवर्मेंट जॉब मिल गई, इस खबर को सुनकर मुझे ऐसा लगा मानो आज मेरे जीवन का लक्ष्य पूरा हो गया हो आखिर अंश अपने पैरों पर जो खड़ा हो गया था, उसे उसकी मेहनत का परिणाम मिल ही गया, पर न जाने क्यों अंश खुश नहीं लग रहा था! मैं अंश से पूूछी “कि क्या बात है बेटा तुम अपनी सफलता पर खुश नहीं हो? वो बोला कि “माँ”मैं ये सब आपके बिना कैसे कर पाऊंगा? ऐसा क्यों सोच रहे हो बेटा आखिर यहां तक भी तो तुम खुद अपनी मेहनत से पहुंचे हो ना,आगे भी तुम सब कर लोगे और फिर मैं भी तो हमेशा तुम्हारे साथ हूं।

आज अंश को कॉलेज में ज्वाइन करने जाना था,लेकिन वो मेरे बिना जाने को तैयार नहीं था और आराम से सो रहा था मैने कई बार उसे समझाया पर वो अपनी ही जिद पर अड़ा रहा और ज्वाइनिंग के लिए नहीं गया।

तीन दिन हो चुके थें लेकिन अंश आज भी ज्वॉइन करने नहीं गया,बस एक ही बात कहता कि ” माँ मुझे नहीं जाना है मैं घर पर ही ठीक हूं”मैं उसे समझा के थक गई लेकिन वो मेरी कोई बात सुनने को तैयार ही नहीं था, आखिर में थक कर मैंने अंश की बेहतरी के लिए एक निर्णय लिया अब मैं अपनी ममता को अंश की कमजोरी नहीं बनने देना चाहती थी,इसलिए आकाश को बता कर”मैं कुछ दिनों के लिए अपनी माँ के यहां रहने चली गई। मैंने आकाश से कहा कि वो अंश से कह देंगे कि मैं उससे नाराज होकर गई हूं, शायद वो कुछ दिन मेरे बिना रहे तो समझ जाए कि उसे अब बिना सहारे ही आगे बढ़ना होगा; मेरे इस फैसले में आकाश ने मेरा साथ दिया और मैं कुछ दिनों के लिए अपनी माँ के यहां चली गई, जाने से पहले मैंने आकाश को अंश की हर एक जरूरत के बारे में समझा दिया था।

मैं अंश को पहली बार ऐसे अकेले छोड़कर ‘कहीं जा रही थी मुझे बिल्कुल भी अच्छा नहीं लग रहा था, पर मैंने फैसला कर लिया था मेरा फैसला सख्त तो था लेकिन अंश की बेहतरी के लिए ये जरूरी भी था ।

मैं अंश से बिना मिले और बिना कुछ बताए ही अपनी माँ के यहां चली आई थी,मुझे अंश की बहुत याद आ रही थी,मैंने आकाश को फोन करके अंश के बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि”तुम्हारे जाने के बाद से अंश बहुत परेशान था और हर वक़्त सिर्फ तुम्हारे बारे में ही पूछ रहा था”जब मैंने उससे कहा कि तुम उससे नाराज होकर गई हो तो वो बहुत उदास हो गया,उसने तुम्हें फोन भी किया पर तुमने बात नहीं की, एक दो दिन तो वो बिल्कुल ही चुप था और अपने कमरे से बाहर भी नहीं आया ना ही उसने मुझसे ही कोई बात की, पर आज सुबह वो थोड़ा रिलैक्स लग रहा था, अभी तो मैं ऑफिस में हूं कहो तो शाम को तुम्हारी बात कराऊं?आकाश क्या वो अपनी जॉब पर जाने के लिए तैयार है? पता नहीं अवनी इस बारे में तो उसने कुछ नहीं कहा और मैंने पूछा भी नहीं; मुझे ये बात सुनकर दुःख हुआ कि अंश अभी भी अपनी जिद पर अड़ा हुआ है मेरा मन उदास हो गया, “तुम इतना क्यों परेशान हो अवनी हमारे एक ही तो बेटा है “सब कुछ उसी का तो है अगर वो नौकरी नहीं करना चाहता है तो उसकी मर्जी; लेकिन आकाश “अंश ने बहुत मेहनत की है यहां तक पहुंचने में”, और अब मैं उसे हारते हुए नहीं देखना चाहती बस वो थोड़ी सी कोशिश करेगा तो अपनी मंजिल पर पहुँच जाएगा, मैं बस यही देखना चाहती हूं; कि मेरा बच्चा बिना सहारे आगे बढ़े,वो भी सामान्य बच्चों की तरह अपनी लड़ाई खुद लड़े, और फिर हम हमेशा तो उसके साथ नहीं रहेंगे ना,आप देखिएगा आकाश वो मेरा सपना कभी नहीं तोड़ेगा, मैंने आकाश से अंश का ध्यान रखने को कह कर फोन रख दिया ।

माँ के यहां आए हुए मुझे आज सात दिन हो गए थें और ये सात दिन मुझे सात साल से लग रहे थें ।एक सुबह आकाश का फोन आया,इतनी सुबह आकाश का फोन देख मैं घबरा गई फोन उठाते ही मैं आकाश से पूछी सब ठीक है ना आकाश?इतनी सुबह आपका फोन! हां अवनी सब ठीक है बस तुम्हें एक खुशखबरी देनी थी; खुशखबरी कैसी खुशखबरी! आकाश ने बताया कि “आज सुबह अंश बिना किसी की मदद के अपनी ज्वाइनिंग के लिए अकेले ही कॉलेज गया है,ये बात सुनकर मुझे बहुत खुशी हुई शायद उतनी ही खुशी जितनी अंश को पहली बार अपनी गोद में लेकर हुई थी आखिर अंश ने मुझे हारने जो नहीं दिया….

मैं अंश से दूर जरूर थी पर हर वक़्त उसी के बारे में सोचती रहती, न जाने उसके जॉब का पहला दिन कैसा रहा होगा?वो कैसे हर चीज को अकेले संभाल रहा होगा, उसे परेशानी तो नहीं हो रही होगी?कई बार मन होता कि वापस अपने बेटे के पास चली जाऊं पर उसकी बेहतरी के लिए मैं अपनी भावनाओं को दबा देती,क्योंकि मेरा अभी जाना शायद ठीक नहीं रहता कुछ दिनों में जब अंश व्यवस्थित हो जाएगा मेरा तभी जाना ठीक होगा बस यही सोच कर मैं कुछ और दिन माँ के यहां ही रुकी थी।

एक शाम माँ ने मुझे एक चिट्ठी लाकर दी और बोलीं कि “अवनी ये अंश की चिठ्ठी है” मैंने तुरंत ही चिट्ठी खोली और अपनी आंखें बंद कर अंश की चिट्ठी को पढ़ने लगी…

माँ, मैं आपका अंश…

कैसी हैं माँ आप?,मुझे पता है कि आप मुझसे नाराज़ होकर गई हैं लेकिन माँ आपने जाने से पहले एक बार भी नहीं सोचा कि मैं आपके बिना कैसे रह पाऊंगा? मैं जानता हूं कि आप मुझसे बहुत ज्यादा प्यार करती हैं और मेरी बेहतरी के लिए ही मुझसे दूर गई हैं, पर आप ही बताइए माँ जबसे मैंने होश संभाला हैै हर वक्त सिर्फ आपको ही अपने पास पाया है।

 मुझे नहीं पता कि सुबह कैसी होती है!उगते सूरज के  प्रकाश से मेरी आँखे अनभिज्ञ हैं,लेकिन जब आप मेरे बालों को सहलाकर जगाती हैं तब मुझेे सुबह के होने का एहसास होता है, हर वक्त ही अंधेरे में रहता हूं पर  आपकी लोरी मुझे रात होने का एहसास कराती है,सिर्फ आपके स्पर्श की कोमलता को ही पहचानता हूं; बस एक आपकी ही खुशबूू को मैं महसूस कर पाता हूं। सामान्य बच्चे भी ठोकर लगने से गिर पड़ते होंगे लेकिन आपने कभी मुझे ठोकर  लगने ही नहीं दी हर बार ठोकर लगने से पहले ही आपने मुझे थामा है; मेरे हर आंसू और हर हंसी में आप शामिल रही हैं माँ, फिर आज अचानक ही आप मुझसे नाराज हो मुझे अकेला छोड़ गईं,मुझे पता है माँ कि आप भी मुझसे दूर रहकर खुश नहीं होंगी! माँ अब से मैं आपकी हर बात मानूंगा अब आप वापस आ जाइए “माँ”। और हां,आपको पता ही होगा कि अब मैं अपने काम पर भी जाने लगा हूं मुझे आपसे बहुत सारी बातें करनी हैं।बस अब आप अपनी सारी नाराजगी छोड़ कर अपने अंश के पास “लौट आओ माँ”।

Leave a comment