अगर आप तकिया के साथ सोना पसंद करते हैं तो इससे आपकी गर्दन और कमर को काफी आराम मिलता है और आपको सोने में भी काफी कंफर्ट महसूस होता है लेकिन क्या आप जानते हैं कि ऐसे सोने से आपकी गर्दन और आपके सिर पर कितना असर पड़ता है? इससे आपको लाभ से अधिक बहुत ज्यादा हानियां मिल सकती हैं। इसलिए आपको इस बारे में जागरूक होना चाहिए कि अगर आप तकिया के बिना सोते हैं तो उससे आपको क्या क्या लाभ मिल सकते है। आइए जानते हैं ऐसे ही कुछ लाभ।

आपकी कमर दर्द से बचाता है: हम में से काफी लोग ऐसे तकिया का प्रयोग करते हैं जो हमारी रीढ़ की हड्डी को उसकी प्राकृतिक शेप में रहने में सपोर्ट नहीं करते है। आप अगर एक से अधिक या ज्यादा उठे हुए तकिया का प्रयोग करते हैं तो इससे आपकी गर्दन आपके बाकी शरीर से ऊपर उठ जाती है जोकि आपके पोस्चर को खराब करते हैं। यह आपकी एक अप्राकृतिक सोने की अवस्था हो जाती है। तकिया के बिना सोने से आपकी कमर दर्द करने से बचने लग जाती है।

गर्दन दर्द से बचाता है: अधिकतर तकिया हमारी गर्दन को भी आवश्यक सपोर्ट प्रदान नहीं करते हैं और इससे हमारा सोने का पोस्चर बहुत बेकार हो जाता है जिस कारण हमारी गर्दन में दर्द हो सकता है। अगर आप तकिया का प्रयोग नहीं करते हैं तो इससे आपका सिर आपके बाकी शरीर के साथ प्राकृतिक अवस्था में ही सोता है जिससे आपकी गर्दन की नर्व डेमेज होने से बच जाती है और आपकी मसल्स भी स्ट्रेन होने से बच जाती हैं। इसलिए बिना तकिया के सोने से आपकी गर्दन दर्द होने से बच सकती है।

सिर दर्द से बचाव: अगर आप तकिया के साथ सोते हैं तो अक्सर आपने देखा होगा कि आप सुबह एक हल्के हल्के सिर दर्द के साथ उठते है। इसका कारण आपका तकिया ही होता है। अगले दिन आपको बिना तकिया के सो कर देखना चाहिए और इससे आपको सिर दर्द नहीं होगा। सॉफ्ट तकिया के साथ सोने से आपके सिर तक ब्लड फ्लो आसानी से नहीं पहुंचता है जिस कारण ऑक्सीजन की सप्लाई भी कम हो जाती है। इस कारण आपको सिर दर्द महसूस करना पड़ सकता है।

स्ट्रेस कम करता है: अगर आप तकिया की वजह से एक गलत अवस्था में लेट जाते हैं तो आपको पूरी रात बेचैनी लगी रहती है और आप सही से सो नहीं पाते हैं बल्कि इधर उधर करवट लेते रहते है। इससे आपको स्ट्रेस भी महसूस होती है और हो सकता है मानसिक समस्या का भी आपको इस कारण सामना करना पड़े। अगर आप बिना तकिया के सोते हैं तो आपके स्ट्रेस हार्मोन कम हो जाते हैं जिस कारण आप चैन से एक ही अवस्था में सो पाते हैं।

मुंह के एक्ने से बचाता है: अगर आप तकिया के साथ सोते हैं तो इससे आप अपना मुंह तकिया पर रख कर सोते हैं। तकिया को बहुत कम धोया जाता है और कई गतिविधियों के कारण तकिया में भी धूल मिट्टी और काफी ज्यादा बैक्टीरिया जमा हो सकते हैं जिसके कारण आपके मुंह पर एक्ने और पिंपल हो सकते हैं। अगर आप तकिया के बिना सोते हैं तो यह रिस्क काफी कम हो सकता है।

आपके बालों के लिए भी होता है बेहतर : अगर आप तकिया का प्रयोग करके सोते हैं तो हो सकता है तकिया कॉटन का हो। इस कारण तकिया का कवर आपके बालों से सारा तेल और सारे आवश्यक पोषण निकाल लेता है जिस के कारण आप के बाल झड़ सकते हैं और अधिक कमजोर हो सकते हैं। लेकिन अगर आप बिना तकिया के सोते हैं तो आपके बाल हेल्दी रहते हैं और काफी मजबूत भी रहते हैं।

अगर आपकी तकिया के साथ सोने की आदत है तो इसे छोड़ने में थोड़ी दिक्कत आपको महसूस हो सकती है लेकिन अगर आप इसका अभ्यास रोज करेंगे तो एक समय आप बिना तकिया के सोने लग जायेंगे। थोड़े थोड़े समय के लिए आप बिना तकिया के सोने से शुरुआत कर सकते हैं ताकि यह आपकी पूरी आदत बन सके।

यह भी पढ़ें- आयुर्वेद के मुताबिक रात को इन चीजों को खाने से बढ़ती है आपकी सेहत

स्वास्थ्य संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें- editor@grehlakshmi.com