googlenews
उत्तम आहार रखे मूड को सदाबहार: Mood Food
Good diet keeps the mood evergreen

Mood Food: जिस तरह पेंटिंग, योग, म्यूजिक और गार्डनिंग हमारे मन और मस्तिष्क को सही रखते हैं, वैसे ही हमारा खान-पान भी हमें मानसिक रूप से स्वस्थ रखने में मदद करता है। आइए जानते हैं वे आहार जो हमें पोषण के साथ सकारात्मक रहने में भी मदद करते हैं।

इस दुनिया में हर इंसान खुश रहने के लिए आया है और वो खुश रहना चाहता है। अफसोस की बात है कि जब हम मानसिक रूप से स्वयं को स्वस्थ महसूस नहीं करते हैं तो हमारे भीतर एक किस्म की नकारात्मकता जन्म लेने लगती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार भारत में 20 में से एक व्यक्ति अवसाद का शिकार है, जैसे हर घर में डाइबटीज और थाइरॉइड आम बीमारी बन गई है। ठीक वैसे ही मेंटल इशूज भी अब हर घर की समस्या बन गई है। हां, लेकिन बीते कुछ सालों में एक
अच्छी बात यह हुई है कि पहले लोग डिप्रेशन को लेकर खुलकर बात नहीं करते थे लेकिन अब बड़े पैमाने पर डॉक्टर्स मेंटल हेल्थ के प्रति जागरूक करते नजर आ रहे हैं। एक शोध के अनुसार थोड़े से प्रयास से ही व्यक्ति तनावरहित जीवन जी सकता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि योग, पेंटिंग, गार्डनिंग के साथ ही खाना भी हमारे मूड को दुरुस्त करने में अहम भूमिका निभाता है।

अपने पूर्वजों से सीखें

नई रिसर्च में पाया कि हमारे पूर्वज स्ट्रेस फ्री रहते थे। वह लोग समय के बड़े पाबंद होते थे। उनके आहार में प्रोसेस्ड और रिफाइंड खाना शामिल नहीं था। वे हरी सब्जियां, फल, सूखे मेवे, साबुत दालें, मछली, सी फूड मांस और डेयरी प्रोडक्ट्स का सेवन करते थे। इसके अलावा वे कुछ फर्मंेटेड आहार भी लेते थे। इस वजह से वे मानसिक रुप से स्वस्थ रहते थे। हमें भी उस आहार का पालन करना चाहिए। यह डिप्रेशन और एंजाइटी को दूर करने में सहायक है। समय पर और पौष्टिक भोजन करने से हमारा मूड ठीक रहता है। इससे हमारे शरीर में सेरोटोनिन नाम का हॉर्मोन रिलीज होता है। यह मूड को कंट्रोल रखने और मन को खुश रखने में मदद करता है। यह मूड को नियंत्रित रखने के साथ-साथ हमारे पाचन तंत्र को भी सही रखता है। इससे नींद भी अच्छी आती है।

धूप से मिलती है मदद

Mood Food Tips
Sunshine Helps

हमें फॉलेट, विटामिन डी, मैग्नेशियम, फर्मंेटेड फूड, ओमेगा-3 फेटी एसिड, एमीनो एसिड लेने चाहिए। इसके अलावा अगर हम धूप का सेवन करेंगे तो भी इस हार्मोन की हमारे शरीर में बढ़ोतरी होती है। यानी कि अगर हम सेरोटोनिन बढ़ाने वाले खाने को अपने दैनिक आहार में शामिल करते हैं तो हमारा इससे मूड अच्छा होता है और हमारी ऊर्जा बनी रहती है। इसके अलावा हम सकारात्मक सोचते हैं। हमारी पाचन शक्ति भी इससे अच्छी बनी रहती है। हमें इनसोमनिया जैसी परेशानी भी नहीं होती।

ध्यान देने योग्य बिंदु

Mood Food Ideas
Dry Fruits, Milk and Vegetables also help for refresh Mood

आप समझ ही गए होंगे कि खाने का और मूड का क्या संबंध है। आइए जानते हैं सेरोटोनिन संबंधित खाने कौन से हैं। जिन्हें ‘फूड मूड’ कनेक्शन कहा जाता है।
सूखे मेवे और बीज : बहुत से लोग सूखे मेवे और बीज को महत्वपूर्ण नहीं समझते। जितने ये देखने में छोटे हैं, उतने ही अधिक पौष्टिक होते हैं। अलसी, चिया सीड्स, अखरोट, बादाम, कद्दू के बीज में फाइबर, विटामिन और एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में होते है, जो शरीर में सेरोटोनिन का का स्तर बढ़ाते हैं। इनको मुठ्ठी भर सुबह सबसे पहले या फिर शाम को स्नैक के तौर पर शमिल करें।
टोफू: इस सोया में ट्राईपोपहैन की मात्रा अधिक होती है। इसके अलावा यह कैल्शियम का भी अच्छा सोर्स है। इसमें वसा कम और प्रोटीन अधिक होता है।
अंडे, दूध, सब्जियां: अंडों में प्रोटीन होता है, जो सेरोटोनिन के स्तर को बढ़ाता है। अंडे की सफेदी और इसकी जर्दी दोनो ही पोषण से भरपूर होती है। इसमें ओमेगा-3 और बायोटिन भी भरपूर होता है। इनको अपनी डाइट में जरूर शामिल करें। इसके अलावा दूध, लस्सी, पनीर, हरी सब्जियों का सेवन करना चाहिए।
फर्मंेटेड फूड : अपको पता है कि सेरोटोनिन गेस्ट्रोइंटसटाइनल में ही विकसित होता है। इसके लिए हमारा गट फ्लोरा हेल्दी होना चाहिए। इसके लिए हंग कर्ड, डोसा, इडली, ढोकला, अचार, कांजी को अपने दैनिक आहार में शामिल करना चाहिए। सेरोटोनिन को बढ़ाने के और भी तरीके हैं। आप इन तरीकों को देख सकते हैं-

नियमित व्यायाम करें

उगते हुए सूरज का स्वागत करें। यानी कि सूरज का आनंद लें। इससे सेरोटोनिन का स्तर बढ़ता है। नींद भी अच्छी आती है।

पानी ज्यादा से ज्यादा पिएं

यह कभी न करें कैफीन और एल्कोहल को जितना हो सके उतना अवॉइड करें। डिहाइड्रेशन से अपना बचाव करें। सुबह का नाश्ता कभी न छोड़ें।

Leave a comment