कुछ साल पहले, मुंबई की एक फोटोग्राफर ने एक महिला कंडोम – जो उसे किसी ऐसे दोस्त द्वारा उपहार में दिया गया था, जो इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहती थी। उसने कहा, “मैंने इसे एक और दोस्त को उपहार में दे दिया था, यह सोच कर कि इसका इस्तेमाल होगा। असल में वह नहीं जानती थी कि यह कैसे काम करता है। शायद कहीं ना कहीं एक वजह यह भी थी कि उन्होंने सुना था कि इसको प्रयोग करना बहुत ही अनकंफरटेबल है। ऐसे ही कुछ अनुभव और महिलाओं के साथ भी है। असल में जब उनसे पूछा गया क्या आप महिला कंडोम का उपयोग करना चाहेंगी, उन्होंने जवाब दिया, “निश्चित नहीं”। क्योंकि उनको नहीं मालूम था कि इसको कैसे प्रयोग किया जाता है और क्या यह सहज है। दरअसल अभी तक महिलाएं अन्य गर्भनिरोधक को तो जानती हैं और उनको फायदेमंद भी बताती हैं। क्योंकि वे न केवल अवांछित गर्भधारण को रोकने में मदद करते हैं बल्कि सुरक्षित यौन प्रथाओं को बढ़ावा देने के लिए समान रूप से महत्वपूर्ण हैं। वैसे भी अगर सही तरीके से उपयोग किया जाये, तो वे 95 प्रतिशत प्रभावी होते हैं। वे अनियोजित गर्भावस्था और यौन संचारित संक्रमण STI से बचाते हैं। 

विशेषज्ञों के अनुसार, पुरुष कंडोम और आपातकालीन गर्भनिरोधक गोलियां (ईसीपी) आदि गर्भ निरोधकों की तुलना में, महिला कंडोम कम के विषय में महिलाओं को कम जानकारी हैं और यहां तक ​​कि कम उपयोग किए जाते हैं। तो आज हम लेकर आए हैं आपको महिला कंडोम से जुड़ी सभी जानकारी लेकर। ताकि आप इन्हें प्रयोग करने में हिचकिचायें नहीं और बेफिक्र होकर इनका प्रयोग करें।

 केवल पुरुष ही नहीं बल्कि महिलाओं के लिए भी कंडोम आते हैं और अगर आप गर्भ निरोध के लिए कंडोम का तरीका अपनाते हैं खास कर महिला कंडोम का तो आपके इसके बारे में कुछ खास और आवश्यक बातों का पता होना चाहिए जैसे यह कितने प्रभावी होते हैं, इन पर कितना विश्वास किया जा सकता है? आदि। ये ओरल सेक्स को बढ़ावा देने के लिए बाजार में उतारे गये हैं। शायद ही आपको इस बात का अंदाजा हो कि ओरल सेक्स से यौन संक्रमण के चांसेस बढ़ जाते हैं। इस लिए बाजार इस तरह के कंडोम की वैरायटी उतारी गयी। लेकिन इसका इस्तेमाल करने से पहले कई महिलाओं के मन में कई तरह से सवाल उठने लाज़मी हैं। और वो ये हैं कि क्या ये पूरी तरह सुरक्षित है? अगर ये पूरी तरह से सुरक्षित है तो इसका इस्तेमाल सही तरीके से कैसे किया जाए। अगर आपके मन में भी ये सारे सवाल उठ रहे हैं तो आज का हमारा ये लेख आपकी मदद करेगा। तो आइए जानते हैं महिलाओं के कंडोम आपको क्यों प्रयोग करने चाहिए और इनसे आपको क्या अतिरिक्त लाभ मिल सकते हैं।

महिला कंडोम क्या है?

एक महिला कंडोम सिंथेटिक रबर (नाइट्राइल) और पॉलीयुरेथेन से बना एक पतला पाउच होता है जिसे गर्भधारण को रोकने के लिए सेक्स से पहले योनि में डाला जाता है। इसके प्रत्येक सिरे पर एक नरम, लचीली रिंग होती है जो इसे अपनी जगह पर रखती है। बंद सिरे वाली  रिंग की तरफ से कंडोम योनि के अंदर जाता है, जबकि खुले सिरे की तरफ से कंडोम बाहर रहता है।महिला कंडोम, पुरुष कंडोम की तरह, गर्भधारण को रोकने का कारगर उपाय है। दोनों ही वीर्य को योनि में प्रवेश करने से रोकते हैं।

गर्भ निरोध के लिए महिला कंडोम कितने भरोसेमंद है?

अगर आप सही तरह से प्रयोग करते हैं तो यह कंडोम 95% तक प्रभावी होते हैं। इसका अर्थ है अगर सही ढंग से प्रयोग किया जाए, तो 100 में से केवल 5 महिलाओं के ही गर्भवती होने के चांस रहते हैं। एक स्टडी के अनुसार 21% महिलाएं जो कंडोम का प्रयोग पहली बार करती हैं वह गर्भवती हो जाती हैं क्योंकि उन्हें इसके प्रयोग करने के ढंग का सही से नहीं पता होता है।महिला कंडोम तब फेल होता है जब वह सेक्स के दौरान फट जाता है या फिसल जाता है या पुरुष का पेनिस कंडोम को मिस करके वेजिनल वॉल के अंदर चला जाता है। कुछ महिलाएं कंडोम के साथ साथ गर्भ निरोधक दवाइया भी लेती हैं लेकिन अगर पुरुष कंडोम का प्रयोग कर रहा है तो आपको नहीं करना चाहिए।

महिलाओं के कंडोम सेक्सुअली ट्रांसमिटेड बीमारियों से कितने अच्छे से सुरक्षित कर सकते हैं?

कुछ छोटी स्टडीज ने यह साबित किया है कि फीमेल कंडोम भी सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन जैसे एचआईवी या अन्य बीमारियों से बचाने में लाभदायक होता है। कंडोम की बाहरी रिंग वेजाइना की ओपनिंग वाले भाग को कवर कर लेता है जो आपको जेनिटल स्किन इंफेक्शन से बचाता है। लेकिन अधिक रिसर्च मेल कंडोम के बारे में ही की गई है इसलिए एक्सपर्ट्स अभी भी मेल कंडोम को ही बीमारियों से बचने का बेस्ट तरीका बताते हैं। और महिला कंडोम ओरल सेक्स के दौरान किसी प्रकार की सुरक्षा प्रदान नहीं करते हैं।

फीमेल कंडोम का प्रयोग किस प्रकार करना चाहिए?

आप सेक्स के 8 घंटे पहले से फीमेल कंडोम इंसर्ट कर सकती हैं। इसके लिए आपको प्रैक्टिस की जरूरत होती है इसलिए सेक्स से पहले भी आप कुछ बार ट्राई करके प्रैक्टिस कर लें। पैकेट पर लिखी जानकारी आपको प्रयोग करते समय थोड़ी मदद कर सकती है। यह कंडोम सिलिकॉन आधारित लुब्रिकेंट के द्वारा बना होता है। लेकिन आप फिर भी एक बंद किनारे पर अन्य लुब्रिकेंट का प्रयोग कर सकती हैं।

कंडोम इंसर्ट करना

सबसे पहले अपने हाथों को अच्छे से धो लें। इंसर्ट करने की प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए आप लेट सकती हैं, या स्क्वाट की स्थिति में हो सकती हैं या एक पैर कुर्सी पर रख सकती हैं। इनर रिंग को खोलें और उसे पिंच करें ताकि वह लंबी और पतली हो सके। अब अपनी वेजाइना के लिप्स को अलग करें और रिंग को इंसर्ट कर लें। अब अपनी इंडेक्स फिंगर को कंडोम के बीच में डाल कर उसे अंदर तक ले जाएं। यह सुनिश्चित कर लें कि कंडोम कहीं से मुड़ा हुआ न हो।

इंटरकोर्स के दौरान

जब आप इंटरकोर्स के लिए तैयार होंगे तो यह सुनिश्चित करें कि आपके पार्टनर का पेनिस कंडोम के बिल्कुल अंदर हो और जैसे ही वह अंदर जायेगा तो कंडोम कम हिले या डुलेगा क्योंकि आपकी वेजाइना एक्सपैंड हो जायेगी।

कंडोम को रिमूव करना 

आपको अपने पार्टनर के एजाकुलेट होने के तुरंत बाद कंडोम रिमूव नहीं करना है बल्कि जब आप खड़ी हो तो उससे पहले उसे निकाल दें ताकि सीमेन इधर उधर न गिर जाए। इसे निकालने के लिए आउटर रिंग को थोड़ा मोड़ें और आराम से बाहर निकाल कर कूड़ेदान में फेंक दें।

अगर कंडोम जगह से हट जाता है तो क्या करना चाहिए?

अगर आपको लगता है कि कंडोम अपनी जगह से हट गया है तो आपको एक बार अपने पार्टनर को रोक देना चाहिए और उसके बाद इनर रिंग को फिर से पुश करें ताकि वह अच्छे से सेट हो जाए। आप और अधिक लुब्रिकेंट का प्रयोग भी कर सकती हैं। आप चाहें तो नए कंडोम का प्रयोग भी कर सकती हैं लेकिन अगर पार्टनर के एजाकुलेट होने के बाद आपको यह पता चलता है कि कंडोम फट गया है या जगह से हट गया है तो आपको एसटीडी या गर्भवती होने की संभावना होती है। अगर इंफेक्शन होता आपकी चिंता का विषय है तो दोनों को अपने जेनिटल साबुन और पानी की मदद से अच्छे से धो लेने चाहिए और अगर आपके पास फोम है तो उसका भी अंदर प्रयोग कर सकते हैं। लेकिन अगर आपकी चिंता का विषय गर्भ धारण होना है तो आप कोई भी इमरजेंसी कंट्रेसेप्शन का प्रयोग जैसे गर्भनिरोधक दवाइयों का प्रयोग कर सकती हैं।

ऐसे जाने फ्लेवर्ड कंडोम के बारे में- आज हम आपको फ्लेवर्ड कंडोम के बारे में काफी कुछ जानकारी बताने वाले हैं जो आपके काफी काम आएगी। अगर आप एक खुशबूदार फ्लेवर्ड कंडोम का पैकेट खरीद रही हैं तो आपको कुछ बातें जान लेनी चाहिए।

कंडोम खरीदने से पहले उसकी एक्सपायरी डेट जरुर चेक कर लें।

हर बार सेक्स के बाद नये कंडोम का इस्तेमाल करें।

कंडोम का इस्तेमाल अनचाहे गर्भ से बचाता है।

बहुत सी महिलाएं इस वजह से फीमेल कंडोम प्रयोग नही करती क्योंकि वह डरती हैं कि कहीं इसका कोई साइड इफेक्ट तो नहीं है। ज्यादातर महिला कंडोम के कोई साइड इफेक्ट नहीं होते हैं लेकिन 3% से भी कम महिलाओं को इसके प्रयोग से असहज महसूस होता है, थोड़ी जलन भी होती है और रैश और खुजली की समस्या देखने को मिलती है। इसलिए अगर आपको यह सब समस्याएं हैं तो आप नाइट्रायल कंडोम का प्रयोग कर सकती है।

योनि की मसाज

मोनोपॉज के दौरानयोनि में सूखापन का इलाज कैसे करें