ईमान और ईमानदारी का कोई निर्धारित पैमाना नहीं होता. कोई भी व्यक्ति चाहे वह अमीर हो या गरीब ईमानदार हो सकता है. हमें सड़कों पर अक्सर ही भिखारी देखने को मिल जाते हैं जो हाथ फैला कर पैसों की मांग करते हैं. लेकिन, पुणे की सड़कों पर एक ऐसी महिला हैं जिन्हें हाथ फैलाना मंजूर नहीं. इन महिला का नाम रतन है. ये भीख नहीं मांगती बल्कि पेन बेचती हैं और उससे जो पैसे मिलते हैं उनसे अपना गुजारा करती हैं.

इस viral फोटो में रतन हाथ में रंग-बिरंगे पेन वाली टोकरी लेकर खड़ी दिख रही हैं जिसपर एक बोर्ड में लिखा है, “मैं भीख मांगना नहीं चाहती, कृपया खरीदें 10 रुपये में, नीले रंग के पेन. थैंक यू, ब्लेस यू.” इस पोस्ट को इंस्टाग्राम पर एक यूजर शिखा राठी ने रतन की तस्वीर शेयर कर लिखा, “आज मैं एक असल जिन्दगी की हीरो और चैम्पियन से मिली-रतन! मैं अपनी एक दोस्त के साथ बाहर गई थी जब हम रतन से मिले. जब हमने उनका ये नोट पड़ा तो मेरी दोस्त ने तुरंत उनसे खरीदारी की. रतन बहुत खुश हुईं और हम उनकी आंखों में कृतज्ञता और दया देख सकते थे. रतन ने हमें शुक्रिया कहा और और पेन खरीदने के लिए मजबूर नहीं किया. उनकी प्यारी मुस्कान, दयालु हृदय, हर्षित व्यवहार और ईमानदारी ने मुझे उनसे और पेन खरीदने के लिए प्रेरित किया. उनकी मुस्कराहट और कृतज्ञता देख मेरा दिल भर आया. और वे जश्न मनाने और साझा करने की हकदार हैं, इसलिए ये पोस्ट.” शिखा ने लोगों से गुजारिश भी की कि अगर वे पुणे के एमजी रोड जाएं तो रतन से पेन जरूर खरीदें.

रतन की ईमानदारी सचमुच लोगों के दिल को छू रही है, इसलिए लोग उनकी खूब सराहना भी कर रहे हैं.

Leave a comment