googlenews
fusion image

Fusion Makeup: आज हर कोई खूबसूरत दिखना चाहता है। इसके लिए घरेलू नुस्खे व मेकअप के द्वारा अपनी खूबसूरती को और निखारते हैं। लेकिन इसके लिए आपको कुछ बातों का ध्यान रखना बहुत जरूरी है क्योंकि अगर आखों का मेकअप न किया जाए, तो मेकअप अधूरा होता है। आज फ्यूजन ड्रैस की बहुत ज्यादा डिमांड हैं। फ्यूजन फैशन की वजह से आज फ्यूजन मेकअप भी बहुत ट्रैंड में है। पहले के कुछ समय में मात्र काजल और लिपस्टिक से मेकअप कर लिया जाता था लेकिन अब कई सारी वैरायटी मेकअप में उपलब्ध है। लेकिन अब फ्यूजन मेकअप की डिमांड और भी ज्यादा बढ़ गई है। ब्यूटीशियन इसे इंडोवैस्टर्न मेकअप कहते हैं। कई बार मेकअप करते समय ऐसी गलतियां हो जाती हैं, जिससे कि फ्यूजन मेकअप नहीं हो पाता है क्योंकि इसके साथ कंसीलर, बेस , कौंपैक्ट पाउडर, कंटूरिंग का बहुत ध्यान रखना बेहद जरूरी होता है। इन सबके बिना मेकअप अधूरा होता हैं। फ्यूजन मेकअप में बहुत सी बातों का ध्यान रखना बहुत ही जरूरी है। अगर आप फ्यूजन मेकअप कर रहे हैं तो आपको इन बातों का ध्यान रखना चाहिए। जिससे कि आपका फ्यूजन मेकअप अच्छा और प्रोपर दिखे। मेकअप ऐसा होना चाहिए कि कोई पहचान नहीं पाए कि आपने मेकअप किया है। इसलिए आज के इस आर्टिकल में हम आपको फ्यूजन मेकअप की बारीकी के बारे में बताने वाले हैं।

कंसीलर का करें उपयोग

इंडोवैस्टर्न मेकअप में कंसीलर लगाना जरूरी इसलिए हो जाता है क्योंकि कंसीलर हमारे चेहरे के दाग धब्बे को 90% तक कवर कर देता है। यही इसकी सबसे बड़ी खासियत है क्योंकि कंसीलर   चेहरे पर मौजूद दाग, धब्बे और गड्ढों को छिपाने में बहुत ही मदद करता है। अगर आंखों के आसपास कहीं काले घेरे भी नजर आते हैं तो कंसीलर के द्वारा उसे छुपा सकते हैं। कंसीलर लगाने के बाद चेहरा और भी खूबसूरत लगता है। आंखों के आसपास के एरिया को कंसीलर से कवर करना बहुत ही जरूरी है, हालांकि इसके पहले क्लीनिंग, टोनिंग और मॉइश्चराइजिंग करना चाहिए। मॉइश्चराइजिंग के बाद कंसीलिंग करना चाहिए। आंखों के आसपास के एरिया पर कंसीलर लगाना चाहिए, जिससे कि डार्कसरकल नहीं दिखें व मुंहासे के दाग भी आसानी से छुप जाए।

बेस का सही होना है जरूरी

मेकअप के दौरान इस बात की ध्यान रखना चाहिए कि बेस स्किन टोन को देखकर ही लगाए।  क्योंकि कई बार कंसीलर के ऊपर कॉम्पैक्ट पाउडर लगा लेते हैं जो कि बिल्कुल गलत होता है क्योंकि ऐसा करने से मेकअप ज्यादा देर तक नहीं टिक पाता है। इसीलिए अगर आप मेकअप को  ज्यादा देर तक टिकाना चाहते हैं तो बेस का परफैक्ट होना जरूरी है। लेकिन कई बार स्किन टोन से ज्यादा गोरा दिखने के लिए बेस लगा लेते हैं पर वह नेचुरल नहीं दिखता है। इसीलिए फ्यूजन मेकअप में पहले इसी बात पर ध्यान दिया जाता है कि मेकअप किया हो लेकिन दिखे नहीं। इसीलिए कलर के हिसाब से बेस का चुनाव करना चाहिए। कम बेस लगाकर कंसीलर के साथ उसे चेहरे पर सेट करना चाहिए।

कॉम्पैक्ट पाउडर का करें उपयोग

कॉम्पैक्ट पाउडर हमेशा बेस के ऊपर लगाने से चेहरा और भी खूबसूरत लगता है। इसीलिए बेस के बाद ही कॉम्पैक्ट लगाना चाहिए। चेहरे पर कॉम्पैक्ट पाउडर लगाने के लिए कई बार ब्रश की बजाय हाथ का उपयोग किया जाता है। जिससे कि कहीं जगह पर कॉम्पैक्ट पाउडर ज्यादा तो कहीं जगह पर कम लग जाता है, जिससे कि मेकअप बिगड़ सकता है। इसीलिए कॉम्पैक्ट पाउडर को हमेशा ब्रश की सहायता से ही लगाना चाहिए, ताकि कॉम्पैक्ट पाउडर बेस के साथ अच्छी तरह से सेट हो जाए।

आई मेकअप में रखें इस बात का ध्यान

इंडोवैस्टर्न आई मेकअप में काजल का काम नहीं रहता है क्योंकि इसमें आईलाइनर का सही से लगाना और आइब्रोज डिफाइन करने के बाद ही आई मेकअप पूरा होता है। फ्यूजन मेकअप में आंखों के मेकअप पर बहुत ही ज्यादा ध्यान दिया जाता है और इसी पर ज्यादा काम करते हैं। महिलाएं अपनी आंखों के जरिए अपने मेकअप और चेहरे को और भी खूबसूरत लुक दे सकती हैं। इसीलिए आंखों का सही मेकअप होना जरूरी होता है क्योंकि आंखें ही आपके फेस को आकर्षक दिखाती हैं। इसके लिए आंखों का भी मेकअप इसी तरह से होना चाहिए कि मेकअप करने के बाद आंखों का मेकअप भी नहीं दिखे और मेकअप बिल्कुल नेचुरल लगे।

लिप मेकअप में रखें इस बात का ख्याल

फ्यूजन मेकअप में लिप मेकअप पर भी बहुत ध्यान दिया जाता हैं। क्योंकि कई बार अपने पसंद की लिपस्टिक लगा लेने से मेकअप बिगड़ जाता है। लेकिन इंडोवैस्टर्न मेकअप में ना हल्के रंग की और ना ही बहुत डार्क कलर के शेड की लिपस्टिक लगानी चाहिए, बल्कि अपनी ड्रेस के अनुसार ही लिपस्टिक का चयन करना चाहिए। इस बात का भी विशेष ध्यान रखें कि लिपस्टिक हमेशा कार्नर से ही लगाएं। लेकिन लिपस्टिक का चयन ड्रैस को देखते हुए ही करना चाहिए।

कंटूरिंग के बिना मेकअप होता है अधूरा

इंडियन ट्रेडिशनल मेकअप में कंटूरिंग पर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं, लेकिन इंडोवैस्टर्न मेकअप में कंटूरिंग पर बहुत ज्यादा ध्यान दिया जाता है क्योंकि इसके बिना मेकअप अधूरा लगता है। मेकअप में कंटूरिंग बोनस्ट्रक्चर को और निखारने के साथ उसे उभारने का काम करता है। इसीलिए मेकअप के बाद कंटूरिंग करना चाहिए क्योंकि इसके बिना मेकअप अधूरा लगता है। अगर आप फोटोजेनिक दिखना चाहते है तो कंटूरिंग जरूर करें।

Leave a comment