Posted inकथा-कहानी

आइना- गृहलक्ष्मी की कहानियां

बेटा सुनील, मैंने पूरे जीवन की कमाई नेहा की पढ़ाई में लगा दी, मेरे पास दहेज में देने के लिए कुछ भी नहीं है।” शिवनारायण जी ने कहा।“अरे नहीं अंकल! मुझे दहेज में कुछ नहीं चाहिए। बस पढ़ी-लिखी, संस्कारी लड़की चाहिए, जो जीवन के हर हालात में साथ निभा सकें।” शिवनारायण जी को टोकते हुए […]