कथा-कहानी

तन से दूर थे ही मन से

मन की भी दूरी हैै

बेटों को कमाना जरूरी है

परिवार चलाना जरूरी है

वे भी जानते हैं उनके बेटे

पढ़-लिखकर कुछ बनेंगे

तो उन्हें जाना

होगा वृद्धाश्रम में।

आजकल यही रीत है

माता-पिता की महत्वाकांक्षायें

भी अजीब है

बच्चों को पैकेज बना दिया

अब पैकेज क्या कर सकता है

देखभाल तो बिल्कुल नहीं

हां संसार की रीत निभाने

आना पड़ता है

अंतिम संस्कार के लिए

शेष संस्कर बेकार के ढ़ोंग हैं

सभ्य कहां हैं

कैसा कुसमय है

यही चल रहा है

बुढ़ापा वृद्धाश्रम में जवानी

पैकेज में चल रही है 

यह भी पढ़ें –शिक्षक के लिए महान व्यक्तियों के अनमोल विचार

-आपको यह कविता कैसी लगी? अपनी प्रतिक्रियाएं जरुर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही आप अपनी कहानियां भी हमें ई-मेल कर सकते हैं-Editor@grehlakshmi.com

-डायमंड पॉकेट बुक्स की अन्य रोचक कहानियों और प्रसिद्ध साहित्यकारों की रचनाओं को खरीदने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें-https://bit.ly/39Vn1ji