स्मार्टफोन ने दुनिया में क्रांति ला दी है। आज की दुनिया में जब लगभग सभी के पास स्मार्टफोन होता है। स्मार्टफोन पर लोगों को टेक्सटिंग, कॉलिंग या गेम खेलते देखना काफी आम है। लेकिन स्मार्टफोन से ज्यादा निकटता के कुछ खतरे भी होते हैं, यदि व्यक्ति इसके आदी हो जाते हैं। शादी पर मोबाइल फोन की लत व्यक्तिगत संबंधों पर विभिन्न नकारात्मक प्रभावों को जन्म दे सकती है। कई विवाहित महिलाओं ने स्वीकार किया है कि ‘मेरे पति अपने फोन के आदी हैं’। यदि आप इन महिलाओं की तरह हैं तो आप जानेंगे कि पति के मोबाइल एडिक्शन से कैसे निपटें।

क्या है स्मार्टफोन एडिक्शन

एडिक्शन एक सामान्य शब्द है जिसका मतलब है दिमागी स्थिति जो किसी चीज के अनिवार्य उपयोग का परिणाम है, हालांकि इसके हानिकारक प्रभाव हो सकते हैं। ऐसी चीजों की गैरमौजूदगी गंभीर मनोवैज्ञानिक प्रभाव पैदा कर सकते हैं। मोबाइल फोन का एडिक्शन भी एक प्रकार की लत है जहां व्यक्ति को लगातार अपने हाथ में स्मार्टफोन की जरूरत होती है। मोबाइल फोन पास न होने पर वे चिंता महसूस करते हैं। मोबाइल फोन एडिक्शन एक डिपेंडेंस सिंड्रोम है, जिसे मादक द्रव्यों के सेवन के रूप में वर्गीकृत किया गया है। इसके कई कारण हो सकते हैं कि क्यों ‘मेरे पति अपने फोन के आदी हैं’। सोशल मीडिया और गेमिंग कुछ सबसे बड़े कंट्रीब्यूटर्स हैं। मोबाइल फोन एडिक्शन से कपल्स के बीच तनाव पैदा हो सकता है और रिश्ते पर गंभीर प्रभाव पड़ सकता है।

इसलिए यहां जानेंगे कि कैसे पता करें कि आपके पति को उनके फोन की लत है या नहीं। साथ ही आखिर मोबाइल एडिक्ट पति को कैसे हैंडल किया जाए और कैसे इस लत से छुटकारा दिलाने में मदद करें।

संकेतों से जानिए पति को है मोबाइल की लत

आपके पति को सेल फोन का एडिक्शन हो  सकता है, लेकिन आपको इसका एहसास भी नहीं होगा। इसलिए, यह जानने के लिए कुछ संकेतों पर ध्यान दे सकत हैं कि कहीं आपके पति को मोबाइल एडिक्शन है या नहीं।

  • आपकी तरफ ज्यादा ध्यान देने की बजाए वह ज्यादा समय टेक्स्टिंग, या सोशल मीडिया पर बिता रहे हैं।
  • सुबह उठते ही सबसे पहले स्मार्टफोन चेक करने की आदत।
  • जब भी खाली समय मिले तो स्मार्टफोन यूज़ करना।
  • गाड़ी चलाते समय भी स्मार्टफोन का इस्तेमाल करना।
  • मोबाइल फोन नजर के सामने न होने पर तनाव या उत्तेजित महसूस करना।
  • घर से थोड़ी दूर जाने पर भी मोबाइल हमेशा साथ ले जाना।
  • कोई कॉल या मैसेज न होने पर भी वाइब्रेशन महसूस करना।
  • अपना अधिकांश समय मोबाइल का इस्तेमाल करते रहना है, भले ही कोई ऑफिस का काम न हो।
  • भोजन के दौरान फोन पर मैसेज करना या फिर वीडियो देखते रहना।
  • अपने काम पर ध्यान न लगना।
  • बार-बार कोशिश करने पर भी मोबाइल
  • इनसोमनिया और स्लीप डिसऑर्डर से पीड़ित हो।

ये है समाधान

अब आपको पता चल गया कि मोबाइल एडिक्शन के क्या लक्षण हैं और अगर आपके पति में यही लक्षण दिख रहे हैं तो इसके इलाज के लिए कुछ कदम उठाने होंगे। अपने पति के मोबाइल एडिक्शन को दूर करने के लिए यहां कुछ टिप्स दिए हैं।

इसे पर्सनली न लें

पहले तो पति के मोबाइल एडिक्शन का कारण खुद को न समझें। पति के फोन के अत्यधिक फोन का इस्तेमाल आपको उबाऊ या आपमें कोई कमी होने नहीं हैं। तो सबसे पहले उनकी इस लत को पर्सनली न लें। सभी एडिक्शन्स की तरह, अत्यधिक फोन का इस्तेमाल आपकी गलती नहीं है और आपको खुद को इसका दोष नहीं देना चाहिए।

खुलकर बात करें

शादी या किसी भी रिश्ते में संवाद की कमी चीजों को गड़बड़ कर देत है। यदि आप अपने पति के मोबाइल की लत का इलाज करना चाहते हैं, तो पहले उनसे बात करने की कोशिश करें। अपने प्रियजनों के मोबाइल की लत का इलाज करने की बारी आती है, तो फेस-टू-फेस कम्यूनिकेशन बहुत जरूरी है। इसलिए अगर आप चाहती हैं कि आपका पति जानें कि उन्हें मोबाइल की लत लग गई है तो उन्हें आपको चीजों को पॉइंट आउट करना होगा।

इस्तेमाल का समय तय करें

अपने घर में किसी को भी भोजन, पारिवारिक चर्चा या सोते समय मोबाइल फोन का इस्तेमाल करने से रोकने के लिए, इसके इस्तेमाल का समय निर्धारित करें। किसी को भी अपने फोन को खाना खाते समय इस्तेमाल करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। आपको भी नियम का पालन करना चाहिए ताकि आपके पति को यह महसूस न हो कि उनके साथ भेदभाव किया जा रहा है, जो उन्हें इसे अनदेखा करने के लिए प्रेरित कर सकता है।

दोष न दें

किसी के मोबाइल फोन की लत का इलाज करते समय, आपको हमेशा उनके प्रति सकारात्मक रवैया रखना चाहिए। उनकी लत के लिए उन्हें दोष न दें। इससे एडिक्शन की समस्या और बिगड़ सकती है।

अपने बच्चों को भी एक्शन में लाएं

आप अपने बच्चों को अपने पति के मोबाइ फोन की लत के इलाज में भी शामिल कर सकते हैं। उन्हें भी गैजेट्स का इस्तेमाल न करने का नियम का पालन करना चाहिए। वहीं अगर आपके पति निषिद्ध समय के दौरान फोन का इस्तेमाल करते हैं, तो उन्हें प्रोत्साहित करें कि वे उन्हें नियम के बारे में याद दिलाएं।

मेडिटेशन करवाएं

आमतौर पर मोबाइल फोन एडिक्ट लोग चिंता और तनाव महसूस करते हैं जब वे अपना फोन इस्तेमाल नहीं करते हैं या यदि कुछ समय के लिए फोन उनके पास नहीं होता है। इस मामले में, मेडिटेशन रिलेक्सेशन के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है और तनाव के लिए उपयोगी साबित हो सकता है।

वास्तविक बनें

आपको सही परिणाम या पूरे या तुरंत बदलाव की उम्मीद नहीं करनी चाहिए। किसी भी एडिक्शन को दूर करने या छुटकारा पाने के लिए आपको धैर्य रखना होगा। लेकिन इस बात का ख्याल रखना जरूरी है कि आपके द्वारा उठाई गई चिंता को लेकर वह कैसी प्रतिक्रिया देते हैं। यहां आपके रिश्ते की स्थिति और साफ होती है। पति को इस एडिक्शन से छुटकारा दिलाने के साथ आपके रिश्ते मजबूत होने चाहिए। अगर आपने मोबाइल एडिक्शन की चिंता जाहिर की है लेकिन वह इस बात पर जरा भी ध्यान नहीं दे रहे हैं, तो हो सकता है कि इसका साथ आपको कपल काउंसलिंग की भी जरूरत हो क्योंकि यहां आप दोनों के बीच की अंडरस्टेंडिंग और फीलिंग्स के कनेक्शन में समस्या है।

Husband Control Tips: ममाज़ बॉय है हसबैंड, तो इन 6 तरीकों से उन्हें करें हैंडल

Weight Loss Tips: पेट की चर्बी कम करना है, तो खाना खाने के पहले, खाने के दौरान और बाद में ये आदतें डालें