googlenews
Daulat Aai Maut Lai Hindi Novel | Grehlakshmi
daulat aai maut lai by james hadley chase दौलत आई मौत लाई (The World is in My Pocket)

एक तो गर्मी की आग और उस पर व्हिस्की का तेज नशा – टोनी का बदन दोनों के मिलेजुले प्रभाव से थरथरा रहा था।

फ्रैडा डैक पर उसके स्वागत के लिए उपस्थित थी। उसने टोनी के आगमन का तालियां बजाकर स्वागत किया। वह खुश होते हुए बोली-‘मुझे पता था कि तुम जरूर आओगे।’

फ्रैडा ने आगे बढ़कर उसकी बोट को रस्सी द्वारा हाउस बोट से बांधने में सहायता की। टोनी बोट से उतरकर डैक पर पहुंच गया।

उसने सतर्कतापूर्वक चारों ओर दृष्टि दौड़ाई। उसकी पिस्तौल किसी भी क्षण प्रयोग करने के लिए उसके कोट के नीचे छुपी तैयार थी।

‘अंदर आ जाओ।’ लिविंग रूम की ओर बढ़ते हुए फ्रैडा ने कहा।

टोनी-किसी चीते की तरह दबे पांव तथा फ्रैडा के शरीर को ढाल के रूप में प्रयोग करते हुए कमरे में घुस गया। उसकी चौकन्नी निगाहों ने तुरंत भांप लिया कि कमरे में वे दोनों पूरी तरह अकेले थे।

‘मैं नहीं चाहता कि ऐन वक्त पर कोई बाधा उपस्थित हो।’ टोनी बोला -‘अतः जरा आसपास घूमकर क्यों न देख लें कि हम दोनों पूर्ण एकांत में हैं या नहीं।’

फ्रैडा ने कमरों की तलाशी देते हुए बड़ी-सी अलमारी भी खोलकर दिखा दी -ताकि उसका शक बाकी न रहे। टोनी कुछ आश्वस्त नजर आने लगा।

‘संतुष्ट हो न?’ उसने अपनी नीली आंखों से उसकी ओर देखते हुए पूछा।

उत्तर में टोनी खुलकर हंस पड़ा – ‘अवश्य, आओ थोड़ा-थोड़ा ड्रिंक लें। ‘अब वह पूर्णतया निश्चिंत नजर आ रहा था।

फ्रैडा उसे लेकर लिविंग रूम में आ गई।

‘सॉरी – यहां सिर्फ कोक मिल सकता है क्योंकि व्हिस्की का खर्च हम वहन नहीं कर सकते।’

कोका कोला पीते हुए टोनी ने फ्रैडा की ओर कनखियों से देखा।

‘सचमुच लाजवाब औरत हो।’ उसने फ्रैडा की प्रशंसा की।

‘जौनी भी यही कहा करता था।’

‘तुम्हारा सौतेला भाई?’

फ्रैडा हंसते हुए उससे कुछ दूर हटकर बैठ गई। वह रहस्यमय ढंग से बोली – ‘सगा या सौतेला – मेरा कोई नहीं – तुम किसी से कहना भी नहीं। मैं नहीं चाहती कि यहां कोई भी शख्स मुझे निरादर की दृष्टि से देखे। दरअसल जौनी तो एक मुसाफिर था जो न जान कैसे मेरे पति से टकरा गया था और मेरा पति उसे यहां ले आया था।

टोनी सतर्क हो गया।

‘फिर क्या हो गया उसे?’

फ्रैडा ने अनिच्छा से कंधे सिकोड़े-फिर बोली-‘तीन रात यहां रुकने के बाद वह आज सुबह यहां से चला गया। दरअसल वह एक अंधविश्वासी व्यक्ति था। क्या तुम भी ऐसे ही हो?’

‘मैं? नहीं तो, मैं क्यों होने लगा।’

‘लेकिन वह तो हमेशा सैंट क्रिस्टोफर के एक लॉकेट के ही बारे में बात करता रहता था, जो शायद कहीं खो गया था।’

‘अच्छा।’ टोनी ने आगे झुककर पूछा -‘जौनी ने बताया नहीं कि वह कहां जाने वाला था?’

‘बताया था।’ फ्रैडा बोली -‘वह कह रहा था कि यहां से मियामी जाएगा। उसके पास काफी धन था। उसका प्रोग्राम किराए पर नाव हासिल करके हवाना (क्यूबा) जाने का था।’

‘उसके पास कुछ सामान भी था?’ टोनी ने पूछा।

‘हां।’ फ्रैडा ने उत्तर दिया – ‘उसके पास एक बहुत बड़ा तथा भारी सूटकेस था, जिसे वह मुश्किल से ही उठा पा रहा था।’

सूचना काफी महत्त्वपूर्ण थी। टोनी शांत बैठकर सोचने लगा। उसे तुरंत जाकर ल्यूगी को सूचित कर देना चाहिए। शायद किराये पर नाव लेने से पहले ही उसे दबोचा जा सके।

वह खड़ा हो गया और फ्रैडा से बोला -‘आओ, जरा जौनी जैसी कलाबाजियां मेरे साथ भी करके दिखाओ। मैं भी तो देखूं, तुम कितनी गर्म हो।’

फ्रैडा हंस पड़ी-बोली-‘अच्छा तो तुम इसी काम के लिए यहां आए थे, है न यही बात?’

अपने बूट की ठोकर से उसने दरवाजा बंद कर दिया।

फिर उसने फ्रैडा को अपनी बांहों में उठाया और बिस्तर की ओर बढ़ गया।

दौलत आई मौत लाई भाग-30 दिनांक 17 Mar.2022 समय 08:00 बजे रात प्रकाशित होगा

Leave a comment