googlenews
अपने गुण स्वयं पहचान: Learn Positive Qualities
Learn Positive Qualities

Learn Positive Qualities: कई बार देखा गया है कि कुछ लोग एक या दो प्रतियोगी परीक्षा देकर अथवा नए काम में असफल होकर यह मान लेते हैं कि हम अब कुछ नहीं कर सकते, हमारे लिए सफल होना संभव नहीं है। लेकिन यकीन मानिए आपकी संपूर्ण ऊर्जा अनंत है। बस जरूरत है क्षेत्र विशेष में अपनी प्रतिभा को पहचानने की और उस प्रतिभा को निखारने की।
उदाहरण के तौर पर एक युवती का उल्लेख किया जा सकता है जो पढ़ाई-लिखाई में कुछ खास नहीं रही। घर के काम काज में वह जरूर होशियार है। उसके ससुराल में हालात कुछ ऐसे बने कि उसे नौकरी तलाशनी पड़ी। लेकिन शिक्षा ठीक न होने के कारण उसे नौकरी नहीं मिली।
कई लोगों से सलाह-मशवरा किया कि क्या करें? वह जिस क्षेत्र में रहती थी, वहां कई दफ्तर थे, लेकिन नाश्ता पानी की दुकानें बहुत दूर थीं। उसे उसकी सास ने टिफिन सेंटर चलाने की सलाह दी और साथ में सहयोग देने का वादा भी किया।
उसने एक टिफिन सेंटर खोल लिया। संयोग से वह चल गया। उसके सारे टिफिन पास के दफ्तरों में जाने लगे और उसे तगड़ा मुनाफा भी होने लगा। दोनों सास-बहू मिलकर खाना बनाने लगीं और टिफिन साफ करने के लिए एक बाई को तथा टिफिन पहुंचाने के लिए एक लड़के को रख लिया।
इस तरह गिरिजा नामक युवती मात्र 7वीं तक पढ़ी थी। उसके घर के हालात भी उसे कुछ करने को मजबूर कर रहे थे, कारण था उसका पति काफी परिश्रम करने के बाद भी घर चलाने में असमर्थ था। गिरिजा गांव की रहने वाली थी। उसे मेंहदी लगाने का शौक था। वह बहुत अच्छी मेंहदी, लगाया करती थी, लेकिन शहर में उसका यह शौक छूट गया था। उसकी पड़ोसन ने उसे एक ब्यूटी पार्लर चलाने वाली से मिलवाया। उसने गिरिजा का सधा हुआ हाथ देखा तो दंग रह गई। उसने गिरिजा को कोन से मेंहदी लगाना सिखाया। अब गिरिजा पार्लर वाली के भेजने पर मेंहदी लगाने जाती है। गिरिजा ने पार्लर में बाल धोना, सुखाना आदि भी सीख लिया और घर के खर्च में योगदान करने लगी। ये उदाहरण यह दर्शाते हैं कि कोई भी व्यक्ति जीवन में आगे बढ़ने के लिये अपने गुणों के आधार पर कार्य का चुनाव कर सकता है। हर महान व्यक्ति महानता के परिपूर्ण नहीं होता। हर क्षेत्र में मामूली किसान का बेटा ‘एबÓ विश्व के शक्तिशाली राष्ट्र का राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन बना।
गणित में कमजोर छात्र अलबर्ट विश्व का सबसे महान वैज्ञानिक अलबर्ट आइंस्टीन बना। गांव में पेपर बांटने वाला छात्र महान वैज्ञानिक एवं राष्टï्रपति डॉ.ए.पी.जे अब्दुल कलाम बना। स्कूल से निकाल दिए गए छात्र थॉमस अल्वा एडीसन ने बिजली के बल्ब सहित अनेक अविष्कार किए।
ये मात्र चुनिंदा उदाहरण हैं। ऐसे कई महान व्यक्ति हैं जो प्रारंभिक दिनों में सामान्य छात्र थे और बाद में उन्होंने अपने परिश्रम से अपनी विशेषता को पाया। तो फिर आप क्यों नहीं।

Leave a comment