googlenews
Kaccha Soot Upay, जीवन में आगे बढ़ने और सुख समृद्धि के

Kaccha Soot Upay : जीवन में आगे बढ़ने और सुख समृद्धि के लिए हर इंसान पुरजोर कोशिश करता है, मगर साढ़ेसाती के कारण जहां कुछ लोग अपने व्यापार या नौकरी को लेकर चिंतित रहते हैं, तो कुछ संतान के जन्म से लेकर विवाह तक की कई परेशानियों से घिरे रहते हैं वहीं कई लोग घर में होने वाले मन मुटावों से क्षुब्ध हो जाते हैं। हर इंसान किसी न किसी दुविधा में रहता है। ऐसे में ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जीवन में होने वाले उतार चढ़ावों को लेकर कई प्रकार के उपाय बताए गए हैं, जो दैनिक जीवन में इस्तेमाल होने वाली वस्तुओं से संभव है, जिसमें कच्चा सूत भी सम्मिलित है। दरअसल, कच्चे सूत को हिंदू शास्त्रों में पवित्रता का प्रतीक माना गया है। आइए जानते हैं, कच्चे सूत के कुछ ऐसे ही उपायों के बारे में जो न केवल आपके जीवन से परेशानियों को दूर करता है बल्कि मन मुताबिक फल भी प्रदान करता है। 

कच्चा सूत दिलाता है व्यापार में तरक्की

व्यापार में मुनाफे के लिए व्यापारी हर वक्त चिंतित रहते हैं। अगर आप भी व्यापार में आने वाले कष्टों से परेशान है और मंदी के दौर से गुज़र रहे व्यापार को किसी तरीके से आगे बढ़ाने का उपाय सोच रहे हैं, तो कच्चे सूत को केसरी रंग में रंगवाकर अपने व्यापार स्थल पर अवश्य रखें। ऐसा करने से व्यापार में तेज़ी से मुनाफा और तरक्की होने लगती हैं। साथ ही सुख-समृद्धि भी बढ़ती है और व्यक्तित्व को मज़बूती मिलती है।

काम में बार बार अड़चन आना

अधिकतर लोगों के साथ ये समस्या हर वक्त बनी रहती है कि काम करते वक्त उन्हें बार बार किसी न किसी कारण अड़चन का सामना करना पड़ता है। अगर आप भी ऐसी ही समस्या से दो चार हो रहे हैं, तो बुधवार के दिन भगवान गणेश की पूजा करें और उनके मंत्रों को जाप अवश्य करें। साथ ही कुछ मात्रा में कच्चा सूत लेकर उसमें सात गांठों को लगा दें और फिर उसे भगवान गणेश के चरणों में अर्पित कर दें। इसके बाद गणपति के सम्मुख अपने मनोकामना या प्रार्थना कहें। पूजा के एक दिन बाद आप उस पवित्र कच्चे सूत को गणपति जी के चरणों से उठाकर अपने पास या फिर अपने पर्स में रख लें। ऐसा करने से आपकी मन की इच्छा भी पूरी होती है और भगवान गणेश की कृपा से कार्य सफल होते हैं। ऐसा करने से गणपति जी की कृपा से बिगड़े हुए काम भी जल्द बनते हुए नज़र आएंगे। 

रिश्तों में घोले मिठास

हिंदू मान्यताओं के हिसाब से कच्चे सूत को बेहद महत्वपूर्ण दर्शाया गया है। इसी के चलते घरेलू आवश्यकताओं की पूर्ति के अलावा धार्मिक कार्यों में भी कच्चे सूत का विशेष महत्व है। कहा जाता है कि अगर आप रिश्तों में मिठास चाहते हैं, तो पूजा सामग्री की दुकान से कच्चा सूत खरीदें और रूई से इसकी 108 बाती बनाएं और हनुमान जी के मंदिर में लगा दें और प्रभु को अपनी इच्छा बताएं। आप देखेंगे कि इससे रिश्तों में मधुरता खुद ब खुद बढ़ने लगेगी।

अगर आप हैं साढ़ेसाती से ग्रस्त

साढ़ेसाती में कई बार मनुष्य के काम बनते हैं, तो कभी बिगड़ जाते हैं। अगर आप भी साढ़ेसाती के प्रकोप को झेल रहे हैं, तो ऐसे में शनिवार के दिन पीपल के पेड़ के चारों ओर शनि देव का एकाक्षरी जाप करते हुए 7 बार कच्चे सूत को अच्छी तरह से लपेट दें और एकाक्षरी मंत्र ऊँ शं शनैश्चाराय नमः का जाप करते रहें। इस मंत्र का निरंतर जाप आपके जीवन से शनि संबंधी दिक्कतों को दूर करता है।

समाज में अपनी छवि को सुधारने, आगे बढ़ने, संतान को लेकर होने वाली चिंताओं से मुक्ति पाने समेत अनेक परेशानियों को आप कच्चे सूत के इन उपायों के ज़रिए आसानी से हल कर सकते हैं। कच्चे सूत के अलावा ऐसी कई अन्य सामग्रियां भी होती हैं, जो हम दैनिक जीवन में इस्तेमाल करते हैं। जो कई दुखों का नाश करने में सार्थक है। कच्चे सूत का निंरतर इस्तेमाल आपको जीवन में सुखी अनुभव प्रदान करेगा।

Leave a comment