googlenews
curd benefits
benefits and uses of curd

Curd Benefits: दही करता है वजन कम करने में मदद, जानें फायदेयदि आप वजन कम करना चाहते हैं तो सही डाइट लेना बहुत जरूरी है। यदि आप अपनी डाइट पर कंट्रोल नहीं करेंगे और सही डाइट नहीं चुनेंगे तो आप कभी भी एक्सट्रा फैट कम नहीं कर पाएंगे। कुछ डाइट ऐसी होती हैं जो वजन कम करने में मदद करती हैं। 

कैसे करता है मदद वजन कम करने में –

दही में कैल्शियम की प्रचुर मात्रा पायी जाती है, यह कैल्शियम फैट सेल्स को ज्यादा कार्टिसोल पैदा करने से रोकता है। कार्टिसोल एक प्रकार का हार्मोन है जिसकी मात्रा में बैलेन्स नहीं होने से हाइपरटेंशन, कोलेस्ट्रॉल, मोटापा जैसी समस्याओं के लिए जिम्मेदार हो सकता है। कई रिसर्चज में देखा गया है जो लोग अपने खाने से पहले या बाद में दही लेते हैं, वे अपना वजन दही न लेने वालों की अपेक्षा जल्दी कम करते हैं। अमेरिकन जर्नल ऑफ क्लीनिकल न्यूट्रीशन में प्रकाशित एक रिसर्च से पता चलता है कि दही वजन घटाने और वजन को नियंत्रित करने में काफी मददगार होता है।

दही शरीर में फैट को जमने से रोकता है, खासतौर पर पेट के आसपास। यह पाचन क्रिया में मदद करने के साथ- साथ जरूरी पोषक तत्वों के अवशोषण में भी सहायता करता है। कैल्शियम के साथ- साथ इसमें प्रोटीन की भी अच्छी मात्रा पायी जाती है। जो कि मसल्स को बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

दही वजन को घटाता है लेकिन यदि इसे गलत तरीके से खाया जाए तो यह वजन बढ़ा भी सकता है। आइये जानते हैं कि दही को कैसे और कितना खाएं कि आप उसका पूरा फाइदा उठा सकें –

उचित मात्रा में ही खाएं :

दही को उचित मात्रा में ही खाना चाहिए। कई बार ज्यादा दही खाना मोटापे का कारण भी बन सकता है। दिन में खाने से पहले या बाद में एक छोटी कटोरी दही खाना ही हमारे शरीर को पोषण देने के लिए पर्याप्त होता है।

प्रोटीन की मात्रा पर दें ध्यान :

आजकल मार्केट में दही पैकेट में आसानी से उपलब्ध हो जाता है। लेकिन पैकेट खरीदने से पहले एक बात जो हमें खास ध्यान देनी चाहिए वह यह कि जब भी आप मार्केट से दही खरीदें उसमें यह जरूर देखें कि उसमें प्रोटीन और कैल्शियम की मात्रा कितनी है। कई बार वजन कम करने के लिए लोग कम कैलोरी के चक्कर में लो फैट वाले दही को लेना पसंद करते हैं बिना यह जाने कि वाकई यह हमें फायदा देगा या नहीं। लो फैट वाले दही में प्रोटीन की मात्रा बहुत कम होती है, जबकि हमें प्रोटीन की ज्यादा जरूरत होती है। इसलिए जरूरी है कि केवल कैलोरी पर ध्यान न देकर प्रोटीन की मात्रा पर ध्यान दिया जाए। बेहतर यही है कि घर में जमाया हुआ दही खाएं, बस ध्यान इतना देना है कि मलाई निकले दूध का ही दही जमाएँ।

दही में कुछ मिला कर खाना :

हर किसी का अपना स्वाद होता है किसी को नमकीन पसंद होता है, तो किसी को मीठा, कुछ लोग फल और मेवे डालकर भी इसे खाते हैं। यदि आप दही और फल एक साथ खा रहे हैं तो यह वजन घटाने की जगह वजन बढ़ा सकता है और एसिडिटी पैदा कर सकता है। बेहतर होगा यदि आप दही में कुछ मेवे मिलकर खाएं, तो यह भूख भी शांत करेगा और शरीर को पोषण भी मिलेगा।

ये भी पढ़ें –

एमनियोसेंटेसिस टेस्ट से भ्रूण की असमानता का पता चलता है

क्वैड स्क्रीनिंग से जानें गर्भावस्था की जटिलताओं को

सी.वी.एस.टेस्ट कराएं और क्रोमोसोमल समस्याओं का पता लगाएं

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकती हैं।