एकदम साफ-सुदंर और स्मूथ स्किन किसी नहीं चाहिए होती है। तभी तो महिलाएं अपने स्किन केयर के लिए कोई कसर नहीं छोड़ती है। स्किन केयर में एक ज़रूरी स्टेप है एक्सफ़ोलिएशन। एक्सफोलिएशन या डेड स्किन सेल्स से छुटकारा पाना स्किन केयर का ज़रूरी हिस्सा है। इस प्रक्रिया को अगर सही तरीके से किया जाए तो अच्छे रिजल्ट मिलते हैं और यह निश्चित रूप से आपकी स्किन के लिए चमत्कार कर सकता है। लेकिन एक महंगा हाई एंड ब्रांड एक्सफ़ोलीएटर या स्क्रब आपके लिए सही नहीं होगा, यदि आप इसे सही तरीके से इस्तेमाल करने में असफल रहते हैं। स्क्रबिंग वह प्रक्रिया है जो डेड स्किन से छुटकारा दिलाती है। यह छिद्रों को अनलॉग करती है और यह एक क्लीयर कॉम्प्लेक्शन देती है।

यदि कोई लंबे समय तक चेहरे पर स्क्रब नहीं करता है तो त्वचा डल दिख सकती है और इससे पिगमेंटेशन,  ब्लैकहेड्स और व्हाइटहेड्स हो सकते हैं। फेस स्क्रब का इस्तेमाल जरूरी है लेकिन इसका सही तरीके से इस्तेमाल होना चाहिए। लेकिन एक्सफ़ोलिएटिंग करते समय कुछ सामान्य गलतियां होती हैं, जिससे त्वचा बहुत संवेदनशील हो सकती है, कट और घर्षण हो सकता है। एक्सफ़ोलिएशन के दौरान कुछ गलतियों से बचना बहुत ज़रूरी है।

त्वचा के साथ बहुत हार्श होना
इसमें कोई संदेह नहीं कि एक्सफ़ोलीएटिंग गंदगी, जमी हुई और मृत त्वचा कोशिकाओं से छुटकारा पाने का शानदार तरीका है।  आपको यह सुनिश्चित करने की ज़रूरत है कि ऐसा करते समय आप अपनी त्वचा के लिए बहुत हार्श न हों। अगर आप अपनी त्वचा को एक्सफोलिएटर से बहुत कठोरता से स्क्रब करते हैं,  तो आप जाने-अनजाने में त्वचा को बहुत नुकसान पहुंचा रहे हैं। आपकी त्वचा को बहुत अधिक कठोर रूप से एक्सफ़ोलिएट करना रक्त वाहिकाओं को तोड़ सकता है और सूजन पैदा कर सकता है। याद रखें कि स्क्रब का इस्तेमाल बहुत आराम से और हल्के दबाव के साथ करें।

गलत प्रोडक्ट चुनना
जब फेशियल स्किन को एक्सफोलिएट करने की बात आती है तो इसका गोल्डन रूल है माइल्ड स्क्रब। वह स्क्रब जो कि चेहरे पर रगड़ने से जेंटल फील देता है, वह फेशियल स्किन के लिए अच्छा विकल्प है। आप आपके शरीर के लिए स्ट्रॉन्ग स्क्रब का इस्तेमाल कर सकते हैं जिसमें हार्ड पार्टिकल्स हों लेकिन फेशियल स्किन के लिए लाइट पार्टिकल वाला स्क्रब ही यूज़ करें।

बिना पानी एक्सफ़ोलिएट करना
एक्सफोलिएशन प्रक्रिया शुरू करने के पहले यह सुनिश्चित करें कि आपकी त्वचा थोड़ी नम है।  कभी भी स्क्रब का इस्तेमाल डायरेक्ट ट्यूब से निकालकर सूखी त्वचा पर न करें। पानी त्वचा को चिकनाई देने में मदद करता है और स्क्रबिंग को आसान बनाता है। साथ ही, ड्राई स्क्रबिंग से काफी घर्षण पैदा हो सकता है और जिससे त्वचा को नुकसान पहुंच सकता है। इसलिए पहले कि आप एक्सफोलिएट करना शुरू करें, पानी से चेहरा धो लें या पानी के छींटे मार लें।

गंदी स्किन पर स्क्रबिंग
यह आपकी त्वचा को तभी एक्सफोलिएट करने के लिए महत्वपूर्ण है जब यह साफ हो और किसी भी प्रकार की गंदगी, जमा हुआ मैल या मेकअप से मुक्त हो। अनक्लीन स्किन को एक्सफोलिएट करने से आपके रोमछिद्रों को साफ करने की बजाय उन्हें अवरुद्ध कर सकती है। इसके अलावा, त्वचा पर जमी गंदगी स्क्रब को पूरी तरह से अपना काम करने से रोक सकती है।

बहुत ज्यादा स्क्रबिंग
रोजाना स्क्रब करना अच्छा विचार नहीं है। इसे सप्ताह में एक या दो बार तक ही सीमित करें। अगर आप बहुत बार अपनी त्वचा की स्क्रबिंग कर रहे हैं तो इस आदत को बदल दें।

गलत तकनीक

जब भी स्किन की स्क्रबिंग करें तो हमेशा जेंटल रहें, विशेष रूप से फेशियल स्क्रबिंग के समय। अपनी अंगुलियों पर स्क्रब लें और सर्कुलर मोशन में हल्के से मसाज करें। किसी भी एरिया में 15 से 20 सेकंड से ज्यादा स्क्रब न करें। अगर आप डेड स्किन सेल्स को साफ करने के लिए स्ट्रॉन्ग स्ट्रोक्स का इस्तेमाल करेंगे तो त्वचा कोमल और चमकदार होने की बजाए डैमेज हो सकती है।

खराब स्किन भी अप्लाई करना
किसी भी स्किन जब सही स्थिति में न हो तो एक्सफोलिएट करने से बचें। स्किन का सामान्य स्वस्थ स्थिति में न होने पर स्क्रब करना सही नहीं है। अपनी स्किन को रिस्टोर और रिकवर होने का समय दें। पहले से ही कमजोर त्वचा पर स्क्रब का इस्तेमाल करने से समस्या और ज्यादा बढ़ सकती है।

बॉडी को नज़रअंदाज करना

अगर आप केवल अपने चेहरे को एक्सफोलिए करती हैं और अपनी बॉडी को भूल जाती हैं तो आपको आज से ही शरीर के बाकी हिस्सों की स्क्रबिंग शुरू कर लेनी चाहिए। चेहरे की रह शरीर के अन्य हिस्सों को भी मृत त्वचा से छुटकारा दिलाने की ज़रूरत होती है, वरना डल और ड्राय स्किन हो जाती है। एक्सफोलिएटिंग किसी विशेष क्षेत्र तक सीमित नहीं है। बॉडी को एक्सफोलिएट करने के लिए बॉडी स्क्रब या बॉडी ब्रश का इस्तेमाल करें।

मॉइस्चराइज़र भूल जाना
एक बार जब आप अपनी स्क्रबिंग प्रक्रिया पूरी कर लें तो मॉइस्चराइज़र का इस्तेमाल बेहद ज़रूरी है। यह स्टेप आपके ताजे साफ किए गए छिद्रों की देखभाल करता है। ऐसा न करने पर, कभी-कभी कोई स्क्रब आपकी त्वचा को ड्राय कर सकता है। इसलिए हबमेशा एक्सफोलिएशन के बाद स्किन टाइप के हिसाब से मॉइस्चराइज़र लगाएं।

एक ही तरह का स्क्रब यूज़ करना
मौसम और उम्र के साथ हमारी स्किन भी बदलती है और हमारा रूटीन उसके हिसाब से बदलता है। हर किसी की त्वचा अलग होती है, इसलिए हर किसी को वह एक्सफोलिएटर ढूंढना चाहिए जो उनके लिए बेस्ट हो। जो प्रोडक्ट सर्दियों में काम आया करता था वह ज़रूरी नहीं कि गर्मी के मौसम में भी वैसा ही रिजल्ट दें। इसलिए चीजों को स्विच करने से डरे नहीं।

स्क्रब की क्वॉटिटी
आप कितना स्क्रब यूज़ कर रही है वह बहुत महत्वपूर्ण है। हमको लगता है कि ज्यादा क्वॉटिटी लेने से प्रोडक्ट ज्यादा असरदार होगा, तो यह सोच गलत है। चेहरे के लिए स्क्रब को एक सिक्के जितना लेना चाहिए और अपने शरीर के लिए टीस्पून साइज की मात्रा बहुत है। चेहरे के लिए थोड़ी सी मात्रा बहुत है।

गैप लेते रहना
यह बात बिलकुल सही है कि स्क्रब रोजाना इस्तेमाल न करें लेकिन अगर आप इसके लिए बहुत ज्यादा गैप भी कर रहे हैं तो यह अच्छा नहीं है। नियमित रूप से एक्सफोलिएट न करना आपको परिणाम नहीं देने वाला है। स्क्रबिंग में भी आपको नियमित होना होगा। सप्ताह में एक बार जरूर करें और ऑयली स्किन वाले लोग सप्ताह में दो बार कर सकते हैं।

आपको हमारे ब्यूटी टिप्स कैसे लगे? अपनी प्रतिक्रियाएं हमें जरूर भेजें। ब्यूटी-मेकअप से जुड़े टिप्स भी आप हमें ई-मेल कर सकते हैं- editor@grehlakshmi.com

गुस्सैल पति को ऐसे करें हैंडल, काम आएंगे ये 8 टिप्स: Husband Control Tips

आपकी त्वचा के लिए खतरनाक है ये 10 ब्यूटी हैक्स