googlenews
एरोमाथेरेपी

अक्सर बालों के लिए हम तरह-तरह के काॅस्मेटिक का प्रयोग करते हैं। जो केमिकल युक्त होने के कारण बालों को नुकसान पहुंचाते हैं जबकि सेहतमंद बालों को उनकी चमक और टेक्सचर के जरिए आसानी से पहचान सकते हैं, जो केवल प्राकृतिक चिकित्सा पद्धतियों के जरिए ही हम पा सकते हैं। 

योग

  • बालों के विकास के लिए योग अत्यंत आवश्यक है क्योंकि यह रक्त संचार तथा स्वेदन क्रिया को बढा़ता है, जिससे पसीने के द्वारा शरीर से विषाक्त पदार्थ बाहर निकल जाते हैं। 
  • बालों के लिए शीर्षासन, हलासन, जैसे योगासन बालों के लिए उपयुक्त माने जाते हैं।

मसाज थेरेपी

  • हफ्ते में कम से कम दोबार बालों में मालिश करनेसे लाभ पहुचता है।
  • बालों के लिए विटामिन ई युक्त तेल का ही प्रयोग करना बेहतर रहता है।
  • आंवला, मेंहदी बादाम, जैतून, नीम या नारियल के तेल की कुछ बूंदें लेकर दस मिनट तक बालों की जड़ों में मालिश करें। इसके लिए उंगलियों से सिर की त्वचा पर गोलाई में दबाव डालते हुए मसाज करें। और नीचे की तरफ झुककर बालों में कंघी करने से रक्त संचार बढ़ता है।

मेडीटेशन

  • बालों का सफेद होने का सबसे बड़ा कारण तनाव होता है, जिससे बाल बड़ी तेजी से झड़ने लगते है। इसके लिए रोजाना मेडीटेशन करना चाहिए। आंख बंद करके शांतचित्त के साथ बैठ जाएं।
  • अब ओम का जाप करें। मांसपेशियों को हल्का छोड़ देंऔर धीरे-धीरे सांस लें।
  • सांस छोड़ते समय ‘ओम’ दोहराएं। यह प्रक्रिया प्रतिदिन करने से बालों को फायदा होता है।
एरोमाथेरेपी
बालों की उम्र बढ़ाएं हेयर थेरेपी के जरिए 3

एरोमाथेरेपी

  • एरोमाथेरेपी बालों का झड़ने से रोकती हैं, साथ ही उनकी उम्र भी बढ़ाती हैं। देवदार की लकड़ी, अंगूर, जैतून लेवेंडर, लेमन, रोजमेरी, जोजोवा और कैमोमाल से किसी भी तेल की दो बूंदें आॅलिव आॅयल या नारियल के तेल में मिलाकर पानी में डालकर बालों में भाप लें, या इससे मालिश करके गर्म तौलिया बालों पर 2-3 घंटे तक लपेटकर रखें। इससे बाल मुलायम और चमकदार हो जाते हैं।

नाखून घिसना

  • दोनों हाथों के नाखूनों को रोजाना आपस में पांच मिनट तक रगड़ने से बालों को बहुत फायदा होता है। यह एक तरह की थेरेपी है, जिसे हेयर विशेषज्ञ करने की हमेशा सलाह देतेहैं। 
  • बालों को नियंत्रित और सुतुलित करने के लिए प्राकृतिक उत्पादों का प्रयाग करें। इनमें ‘मैटिक्स ‘ का बायोलाज थेरेपी वाला कंडीशनर शैंपू और सीरम बालों के लिए बेहतर है। 
  • बालों में माइक्रोआॅग्रेनिज्म की मौजूदगी के कारण कोशिकाओं का अत्यधिक निर्माण होता है जिससे बालों में रूसी हो जाती है।
  • बायोलाज एंटी डैंड्फ ट्रीटमेंट सिर की त्वचा को स्वच्छ और शुद्ध करता है, जिससे रूसी का सफाया करने में मदद मिलती है।
  • मैटिक्स के प्रोडेक्ट अत्यंत सुरक्षित और पूरी तरह प्राकृतिक है, जो सिर की त्वचा स्वस्थ रखते हैं। इनका बायोलाज बैलेंस थेरेपी, शैंपू बैलेंसथेरेपी, एंटी डैंड्रफ स्मूदिंग सीरम उपलब्ध है।