googlenews
marriage life
tips for easy marriage life

Marriage Life Tips: ‘ये तुम्हारी गलती है’,एक दूसरे को सिर्फ ये ही बताने वाले कपल अक्सर झगड़ते रहते हैं। आपने भी ऐसे जोड़े देखे होंगे जो एक दूसरे में कमियां निकालने को ही अपना काम मानते हैं। आपने अक्सर इनके झगड़े होते भी देखे होंगे,या फिर मुंह फुलाए भी आपने ऐसे जोड़ों को देखा होगा। अगर आपके साथ भी तो ऐसा ही नहीं है। अगर है तो आपको समय रहते पीछे हटने और सुधरने की जरूरत है। सिर्फ आपको ही नहीं बल्कि आपके पार्टनर को भी इस एक आदत को छोड़ देना चाहिए। क्योंकि कमियां निकालना ताकि सुधार हो सके और सिर्फ कमियां ही निकालते रहने में अंतर होता है। सिर्फ कमियां खोजते रहना रिश्ते को टॉक्सिक बना देता है। इतना टॉक्सिक कि कई बार रास्ते भी अलग हो जाते हैं। इसलिए तेरी कमियां-मेरी कमियां वाली सोच से बाहर आने के लिए कुछ खास टिप्स आपको आजमाने चाहिए। इन टिप्स के सहारे आप अपने पार्टनर के अंदर कमियां निकालने वाले मोड से बाहर आ सकेंगी। खास बात ये कि खुश रह सकेंगी। चलिए इन टिप्स को पहचान लें-

कमियां बताना जरूरी है-

ये तो आप समझती ही होंगी कि जब भी किसी में सुधार करना हो तो उसे कमियां बतानी चाहिए। इसलिए इस बात को हमेशा से जरूरी माना गया है कि कम से कम अपनों की कमियां बताई जाती रहें। कमियां बताई जाएं ताकि सुधार सकें।इसलिएकमियां निकालने की अपनी आदत को सुधारने की कोशिश में ये ना भूलिएगा कि बेहतरी के लिए ये एक जरूरी काम भी है। कोई इंसान पर्फेक्ट नहीं होता है और बेहतरी के लिए इन कमियों को बाहर ना ही होगा। इसलिए इस आदत को पूरी तरह छोड़ना भी नहीं है।

आदत जो डबल होती जाएगी-

किसी में कमी देखते रहने की आदत दूसरी आदतों की तरह ही होती है। इस आदत के भी बढ़ते जाने की संभावना बनी ही रहती है। इसलिए अगर आज आपको1कमी दिख रही है तो कल4और दिखेंगी और परसों10आदतों पर आपकी नजर रोज पड़ेगी। इस एक आदत से रिश्ता खराब ही होता जाएगा फिर चाहे आप अपने पार्टनर के लिए कितना भी अच्छा काम क्यों न कर लेती हों।इसलिए अपनी इस आदत को कुछ भी करके कंट्रोल करने की कोशिश करें ताकि आपका रिश्ता अच्छा से चलता रहे।

आप कंट्रोल कर रहे-

जिस इंसान की कमियां निकाली जा रही होती हैं,उसे हमेशा लगता है कि कमियां बताने वाला उसे कंट्रोल कर रहा है। इसलिए कमियां बताते वक्त सबसे पहले तो अपनी ये छवि बिलकुल न बनने दें। खुद को ऐसे दिखाएं कि आपका मकसद सिर्फ सुधार करना ही है। आप ऐसे शब्दों का इस्तेमाल करें जिससे सामने वाले को आपके अच्छे भाव का एहसास होता रहे। वो आपको अपना दुश्मन नहीं बल्कि दोस्त मानें। आप इस दौरान अपनी भाषा और लहजा सॉफ्ट ही रखें।

सामने वाला जब करे बुराई-

वो भी वक्त आएगा जब आप नहीं बल्कि आपका पार्टनर बुराई कम करने वाले हों। अब इस वक्त आपको अपने व्यवहार के बारे में थोड़ी प्लानिंग करनी होगी। जब पार्टनर कमियां निकालने की कोशिश करें और इसको अपनी आदत बना लें तो कभी भी उनके जैसा व्यवहार न करें। बल्कि आप खुद के शब्दों और व्यवहार का ध्यान रखें। क्योंकि आपने अगर उनकी तरह व्यवहार किया तो समझ लीजिए कि झगड़ा बढ़ेगा ही। और ये ऐसा झगड़ा होगा जिसकी बातें सालों साल आप दोनों भूल नहीं पाएंगे। इस दौरान अगर आप लोगों ने कोई बुरी बात एक दूसरे से कह दी होगी तो फिर तो दिल भी दुखेंगे। इसलिए सामने वाले के व्यवहार के सामने अपने व्यवहार को कंट्रोल में ही रखें।

ईमानदारी बरतें-

जैसा कि पहले भी कहा गया है कि कई बार लोग सुधारने के मकसद से कमियां नहीं बताते हैं बल्कि उनका मकसद सिर्फ सामने वाले को नीचे दिखाना होता है। अब ऐसे में आप अपने ऊपर तो कंट्रोल कर ही सकती हैं। आपको खुद से ईमानदारी बरतनी होगी। ताकि आप सही निर्णय लेकर सही बात कर पाएं। इस तरह से जिंदगी में सुधार की प्रक्रिया आसानी से चलती रहेगी। आप क्योंकि सही होंगी तो आपको अपनी कही बात का कोई अफसोस भी नहीं होगा।

खुद में झांके-

दूसरे शख्स में हमेशा कमियां ढूंढने की आदत कई बार खुदफ्रस्ट्रेशन की वजह से भी होती है। जो शख्स खुद से संतुष्ट नहीं होता है वो दूसरों में कमी निकालकर खुद के लिए संतुष्टि ढूंढता है। आप भी कहीं ऐसे ही लोगों में तो शुमार नहीं हैं। खुद को इस मामले में जरूर जज कीजिए। अगर ऐसा सच है तो खुद को सुधारने का काम आप सबसे पहले करें। क्योंकि ऐसा न हो कि आप पार्टनर को गलत समझ उनका आत्मविश्वास गिरा रही हों और कमी तो आप में ही हो। इसलिए सामने वाले के बारे में सोचने से पहले अपनी कमियों को जरूर माप लीजिए।

 

रिलेशनशिप संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा?अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही रिलेशनशिप से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें-editor@grehlakshmi.com

ये भी पढ़ें- सुहागन नारी को जानना ज़रूरी हैं चूड़ियो से जुड़े कुछ नियम