इंटरकोर्स के बाद अपने साथी के साथ कुछ पल बिताना आफ्टर प्ले होता है. इसमें कडलिंग, किसिंग , टॉकिंग इत्यादि शामिल है अक्सर देखा गया है कि कपल फोरप्ले को तो अहमियत देते हैं लेकिन आफ्टरप्ले को कोई महत्त्व नहीं देते हैं। जबकि  आफ्टर प्ले से पार्टनर्स के बीच इमोशनल बॉडिंग को और ज्यादा मजबूत करता है। 
अक्सर देखा गया है कि इंटरकोर्स के बाद कपल अपनी दुनिया में खो जाते हैं। एक बेड के इस कोने में सो जाता है तो दूसरा बेड के दूसरे कोने में चला जाता है जबकि ऐसा करना गलत है। क्योंकि सेक्स का भरपूर मज़ा तभी उठाया जाता है जब आफ्टरप्ले को भी समय दिया जाए।  अगर आप अपने साथी के साथ सेक्स के रूमानी पलों का पूरा मज़ा उठाना चाहते हैं तो  फोरप्ले और आफ्टरप्ले दोनों को अहमियत दें। आफ्टरप्ले के लिए आजमाएं ये टिप्स –

एक दूसरे के करीब आकर सोएं 

कपल्स  ऐक्ट खत्म होते ही एक दूसरे की तरफ पीठ करके सो जाते हैं या फिर तुरंत कपड़े पहनने लग जाते हैं अगर आप भी ऐसा ही करते हैं तो इस आदत को आज ही बदल दें क्योंकि ये आदत आपके और पार्टनर के बीच बढ़ती दूरियों की वजह बन सकती है। बेहद जरूरी है कि सेक्स के बाद कुछ देर आप दोनों एक दूसरे के साथ रहें और एक दूसरे को टाइट हग करके सोएं। 

कडलिंग करें 

सेक्स के बाद कुछ देर फिजिकल कॉन्टैक्ट बनाए रखना आपके रिश्ते को और ज्यादा बेहतर बना सकता है । जहां तक संभव हो पार्टनर को हल्का-फुल्का नॉन सेक्शुअल किस करें, सीने से लगाकर रखें,  उनका हाथ पकड़कर रखें। आप यकीन नहीं करेंगे लेकिन आपके ये छोटे-छोटे एक्ट्स  पार्टनर को ये बताने के लिए काफी हैं  कि आप उनके बारे में क्या और कैसा फील करते हैं। 

मसाज करें 

सेक्स एक ऐसा जरिया माना जाता है जो स्ट्रेस को कम कर देता है। अगर ऐक्ट के बाद आपको अपने पार्टनर से एक रिलैक्सिंग मसाज मिल जाए तो इससे अच्छा भला क्या हो सकता है । पार्टनर को एक रिलैक्सिंग मसाज दें या उनसे कहें कि वह भी ऐसा ही करे । खासतौर पर  फुट मसाज और बैक मसाज, पूरे माहौल को और ज्यादा हसीन  बना देता है।

ये भी पढ़ें –

जानिए सेक्स की टाइमिंग

जानें प्रपोज करने के लिए घुटने के बल क्यों बैठते हैं?

जानें लड़कियों के सोने की पोजीशन क्या बताती है

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकते हैं