googlenews
homwork-10-tips-grahlkshmi
 
 

Homework Tips: होमवर्क शिक्षकों द्वारा बच्चों को दिया गया कार्य है जो बच्चों को घर पर करना होता है। जिनके अभिभावक होमवर्क में रुचि लेते हैं, ऐसे बच्चे स्कूल में सफल रहते हैं। होमवर्क के कुछ उद्देश्य होते हैं, जैसे अभ्यास, सहभागिता, व्यक्तित्व विकास, बच्चे व अभिभावक का रिश्ता और पारस्परिक क्रिया और अभिभावक व शिक्षकों के बीच संवाद। यहां हम दे रहे हैं अभिभावकों के लिए जरूरी 10 टिप्स –

1- बच्चे को अपना होमवर्क स्वयं करने दें

अक्सर अभिभावक जल्दबाजी में बच्चे का होमवर्क स्वयं कर देते हैं, यह गलत है। इससे वे इस कार्य को याद नही कर पाएंगे, आत्मविश्वास भी नहीं होगा। बच्चे गलतियां करते हैं तो करने दें।

2-होमवर्क क्यों है जरूरी?

यदि बच्चे नियमित रूप से होमवर्क नही करते तो उन्हें स्कूल में दिक्कत आ सकती है। कई बार समस्या वास्तविक होती है, तो कई बार बच्चे बहानों की आड़ में स्कूल जाने से बचते हैं। होमवर्क करवाने के लिए बच्चे को अनुशासित करें।

3-प्रशिक्षण देना शुरू करें –

स्कूल शुरू होने से पहले ही बच्चों को तैयार करें ताकि बच्चा स्वयं को स्कूल गतिविधियों में ढाल सकें। स्कूल के लिए तैयार होना, समय पर नाश्ता खाना, खेलना, होमवर्क, छोटे-मोटे काम खुद निपटाना सिखाएं। होमवर्क को लेकर बच्चे में तनाव न होने दें।

4-पढ़ाई को रोचक बनाएं-

शिक्षकों- अभिभावकों की जिम्मेदारी है कि वे पढ़ाई को रोचक बनाएं। खेल-खेल में पढऩा, प्रश्न- उत्तर लिखना, चित्र बनाना, प्रयोग जरूरी है।

5-शिक्षकों को जानें-

स्कूल के कार्यक्रमों में उपस्थित रहें, जैसे- अभिभावक-शिक्षक मीटिंग। बच्चे के शिक्षकों से मिलें, होमवर्क नीतियां जानेें और चर्चा करें।

6-समय तालिका बनाएं

पढऩे और होमवर्क के समय का उचित विभाजन करें। कुछ बच्चे दोपहर में कार्य अच्छे करते हैं, शाम के बाद हल्का नाश्ता करके खेलते हैं। अन्य बच्चे डिनर का इंतजार करते हैं।

7-योजना बनाने में मदद करें

कभी अधिक होमवर्क मिलने पर या काफी लंबा कार्य होने पर बच्चे को सकारात्मकता से करने को कहें। कार्य को छोटे-छोटे हिस्सों में विभाजित करें।

8-व्यवधान कम करें

अक्सर बच्चे जहां होमवर्क करते हैं वहां बातें होने लगती हैं, टीवी पर माता-पिता सीरियल, समाचार देखने लगते हैं। इससे बच्चे का ध्यान हटता हैें।

9-लगातार समस्या आए तो मदद करें

अपने बच्चों के शिक्षक से बात करें। कुछ बच्चों को शुरू में पढा़ई में और होमवर्क करने में कठिनाई होती है। बच्चों की स्मरण शक्ति कमजोर व एकाग्रता की कमी होती है, जिसका मूल्यांकन जरूरी है।

10-सही सलाह दें

कभी-कभी बच्चे भार से तंग आकर होमवर्क नही करते हैं। ऐसे में सही सलाह की जरूरत होती है। उसकी समस्या को सुनें, मार्गदर्शन दें। होमवर्क कोई डर नही, बल्कि सतत् मूल्यांकन है। 

ये भी पढ़ें-

बच्चों को सिखाएं अपनी भावनाएं व्यक्त करना

पिता के प्यार में भी छुपी होती है मां जैसी ममता

‘ध्यान रखें आपका व्यवहार बच्चे देख रहे है ”

(लेखिका पर्पल टर्टल प्रीस्कूल की सीईओ हैं)