विभिन्न तरह की बीमारियों से लड़ने के लिए शरीर में आयरन बेहद जरूरी है । आयरन की कमी होने से बच्चों  में एनीमिया जैसी बीमारी हो सकती हैं । शरीर में आयरन की कमी होने से हीमोग्लोबिन लेवल घटता है , जिसके चलते थकान और कमजोरी महसूस होती है। तो आज हम आपको बता रहे हैं कुछ ऐसी चीजों के बारे में जिनमें आयन भरपूर मात्रा में होता है और इसका सेवन करने से आपका हीमोग्लोबिन लेवल बढ़ेगा । 

माना जाता है की 1 से 3 साल की उम्र तक के बच्चों में 6.6 प्रतिशत से 15.2 प्रतिशत तक टॉडलर्स में आयरन की कमी   होती है , जो की अपेक्षा से बहुत अधिक है । कहा जाता है कि शिशुओं , विशेष रूप से स्तनपान करने वाले शिशुओं में आयरन की कमी से होने वाली समस्याओं का जोखिम अधिक होता है । 

लेकिन चिंता की कोई बात नहीं बस आपको इतना जानना है कि आपके बच्चों को कितनी मात्रा में आयरन की जरूरत है। 

बच्चों को कितनी मात्रा में आयरन की है आवश्यकता  ? :

1 से 3 साल की उम्र के बच्चों को 7 मिलीग्राम प्रतिदिन आयरन की जरूरत होती है। 4 -8 वर्ष की आयु के बच्चों को 10 मिलीग्राम प्रतिदिन आयरन की आवश्यकता होती है 

* 4 औंस हैमबर्गर : 6 mg 

* 1/2 कप सूखे आड़ू : 3.2 mg

* पालक क्साडिला :2.1 mg

* 1/2 कप सुखे अप्रिकोट : 1.7 mg 

* 1/2 कप ओटमील :1.7 mg 

* 1/2 कप दलिया :1.7mg

* 1 अंडा :1.4 mg 

* 2 बड़े चम्मच पीनट बटर : 0.6 mg 

ऐसे बहुत से खाद्य पदार्थ हैं जिनमें आपको भरपूर मात्रा में आयरन मिल सकता है ।  यह भी संभव है कि आपके बच्चे को सामान्य आहार से भी आयरन की सही मात्रा मिल रही हो।

क्या लेने पड़ सकतें है बच्चों को आयरन सप्लीमेंट्स , कैसे करें पता ? 

यह प्रश्न सभी बच्चों के लिए भिन्न होगा , तो बेहतर यह है कि आप अपने बच्चों को एक अच्छे डॉक्टर को दिखाएं । जब बच्चे छोटे होते हैं तो उन्हे आयरन की कमी के लिए नियमित रूप से जांच किया जाता है , तो आप उसी डॉक्टर से दुबारा जांच करा सकतें हैं । यदि आपका बच्चा बड़ा है , तो आयरन के साथ मल्टीविटामिन खोजना मुश्किल हो सकता है , इसलिए कोई भी प्रोडक्ट खरीदने से पहले उसके लेबल की जांच करें , या अपने डॉक्टर के परामर्श से एक अलग आयरन सप्लीमेंट खरीद सकते हैं । 

बच्चों के लिए आयरन का सबसे अच्छा स्रोत क्या हैं ? 

शरीर को आयरन सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण आयरन युक्त खाद्य पदार्थों से मिलता है । मीट , फिश , और पोल्ट्री , से मिलने वाला आयरन हमारे शरीर में आसानी से अब्जॉर्ब हो जाता है । लेकिन इनके अलावा भी आयरन कई खाद्य पदार्थों में पाया जाता है ।

चलिए जानते हैं की आयरन की अच्छी खुराक के लिए कौन  से खाद्य पदार्थ है जरूरी : 

* रेड मीट जैसे बीफ 

 * डार्क मीट पोल्ट्री 

* आयरन रिच सब्जियां : पत्तेदार सब्जियां , और पके हुए आलू और कद्दू 

* बीन्स और फलियां जैसे किडनी बीन्स , लेंटिल्स ।

* फॉर्टिफाइड सीरियल्स जैसे चीयरियोस और बेबी ओटमील । 

बच्चों के लिए  टॉप 10 आयरन रिच फूड : 

 बच्चा जब मां का दूध छोड़ने वाली आयु में होता है तो उसे ऐसा क्या खिलाएं जिससे उसमे आयरन की कमी न हो । तो  यहां है कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ जो दे सकतें है बच्चों को भरपूर आयरन : 

* बीफ , ग्राउंड 

* बीन्स प्यूरी 

* बीन्स , बहुत नरम और हल्के से मैश्ड 

* बीन्स पास्ता , बहुत नरम पकाया हुआ 

* चिकन , बारीक कटा हुआ या ग्राउंड 

* हरी बीन प्यूरी 

* इन्फैंट सीरियल : बेबी ओटमील 

* दलिया 

* स्ट्रॉबेरी प्यूरी 

* शकरकंद , मैश किया हुआ 

टिप : बच्चों में आयरन स्टोर होना छह साल की उम्र से ही हो जाता है , इसलिए आप कम उम्र से ही इन खाद्य पदार्थों को उनके आहार में शामिल कर दें । 

टॉप 10 आयरन रिच फूड्स जो है टोडलर्स और बड़े बच्चों के लिए बेहतरीन आयरन का स्रोत : 

* ड्राई अप्रिकॉट

* बीन्स , या हरी बीन्स 

* बीन्स पास्ता 

* बीफ बर्गर 

* ब्रोकली

* अंडे 

* ओटमील 

* पीनट बटर 

* किशमिश

* तरबूज 

यह खाद्य पदार्थ एक बेहतर स्रोत है आयरन का आपके बच्चों के लिए । इन खाद्य पदार्थों में से 2 से 3 का सेवन अधिकांश दिनों के लिए करें । 

आयरन के साथ विटामिन सी :

यदि आप आयरन युक्त खाद्य पदार्थों को विटामिन सी से भरपूर जैसे खट्टे फल , स्ट्रॉबेरी , कीवी , टमाटर , हरी सब्जियां , बेल पेपर के साथ खाते हैं तो शरीर में आयरन आसानी से अब्जॉर्ब हो जाता है । 

चलिए जानते हैं किस तरह से आयरन और विटामिन सी का करें अपनें आहार में सेवन : 

* पास्ता के साथ मीटबॉल ( टमाटर से विटामिन सी , बीफ से आयरन ) 

*बीन बुरिटोस के साथ साल्सा ( बीन में आयरन , साल्सा में विटामिन सी ) 

*सिंपल ग्रीन स्मूथी ( साग में आयरन , फलों से विटामिन सी ) 

दूध के अधिक सेवन से हो सकता है नुकसान : 

एक स्ट्डीज के अनुसार कहा गया है कि बच्चों को एक दिन में 24 औंस से अधिक दूध का सेवन नहीं करना चाहिए । जिससे आयरन अब्जॉर्ब करने की क्षमता पर प्रभाव पड़ता है ।अधिक दूध उनकी भूख मिटा देता है जिससे वे अन्य खाद्य पदार्थ नहीं खा पाते और जो आयरन उन्हे अन्य खाद्य पदार्थों से मिलना चाहिए वह नहीं मिल पाता । 

बच्चों में आयरन की कमी को कभी नज़र अंदाज न करें और तुरंत आयरन की कमी को पूरा करने की कोशिश करें ।

यह भी पढ़ें-

किशोर आत्महत्याओं की बढ़ती दर क्या है वजह

बच्चे पर माता-पिता के कौन से 10 लक्षण ज्यादा असर करते हैं

स्वास्थ्य संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें- editor@grehlakshmi.com