ओरेगेनो एक गुणकारी पौधा है, जिसका इस्तेमाल विभिन्न प्रकार के व्यंजनों के साथण्साथ आयुर्वेदिक उपचार में भी किया जाता है। इसके पौधे के विभिन्न हिस्सों का उपयोग कई शारीरिक विकारों से राहत पाने के लिए किया जा सकता है। ओरेगेनो ऑयल को इसकी पत्तियों और शूट्स से बनाया जाता है। इन्हें पहले सूखाया जाता और फिर स्टीम डिस्टीलेशन की मदद से इससे तेल एक्सट्रैक्ट किया जाता है। ओरेगेनो ऑयल में कई शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट्स और एंटीमाइक्रोबायल कंपाउंड्स पाए जाते हैं। इसके कई लाभ हैं, तो चलिए जानें इसके उपयोग के बारे में।

 

एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल प्रोपर्टीज

ओरेगेनो  एक नेचुरल एंटीबायोटिक की तरह काम करता है। यह बैक्टीरिया से लड़ने में मदद कर सकता है जो त्वचा और मूत्र और श्वसन पथ के संक्रमण का कारण बनता है। इसमें मौजूद थाइमाल और करवाकोल बैक्टीरिया के विकास को रोकते हैं। किसी तरह की एलर्जी में इसके एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल गुण काफी कारगार हैं। संक्रमण के प्रभाव को कम करने के लिए इसका इस्तेमाल कर सकती हैं।

सूजन में आराम

एंटीबैक्टीरियल गुणों के साथण्साथ इसमें एंटीइंफ्लेमेटरी गुण भी होते हैंए जिसके कारण त्वचा में किसी भी तरह की सूजन में इससे आराम मिल सकता है। घावों को भरने के लिए भी ओरेगेनो ऑयल का उपयोग किया जा सकता है। इसे और उपयोगी बनाने के लिए आप इसे थाइम ऑयल के साथ मिलाकर प्रभावित एरिया पर लगा सकती हैं।

 

बेहतरीन पेन रीलिवर

क्या आप जानती हैं कि ओरेगेनो कितने पोषक तत्वों से भरपूर है। इसमें मौजूद पोटेशियम, जिंक, फॉस्फोरस, कैल्शियम, विटामिन सी, विटामान के आदि मजबूत हड्डियों के लिए लाभदायक है। यह एक नेचुरल एनलजेसिक भी है, जो दर्द में राहत देता है। आपके शरीर के किसी भी हिस्से में अगर दर्द हो, तो भी आप इस तेल का इस्तेमाल कर सकती हैं।

 

दूर होगा तनाव

रिसर्च के अनुसार ऑरिगेनो ऑयल में पाए जाने वाले कंपाउंड जैसे कारवक्रोलए थायमॉल और टर्पिनीन आदि नर्वस सिस्टम और माइंड के लिए बेहतर होते हैं। इस वजह से अरोमा थेरेपी में इस ऑयल का उपयोग करने से हेल्दी मूड को बूस्ट करने के साथ ही तनाव दूर होता है। इसके अलावा मानसिक समस्याओं को भी रोकता है। इस तरह ब्रेन हेल्थ के लिए अच्छा है ऑरिगेनो ऑयल।

 

हार्ट हेल्थ के लिए

ऑरिगेनो ऑयल में पाई जाने वाली एंटी ऑक्सीडेंट प्रॉपर्टीज हार्ट को प्रोटेक्ट करने के साथ ही ब्लड वैसल्स को फ्री रेडिकल्स से क्षतिग्रस्त होने से बचाती है। इस तरह हार्ट हेल्थ के लिए ऑरिगेनो ऑयल बहुत फायदेमंद होता है। इसके अलावा कई तरह के कैंसर का रिस्क भी कम हो जाता है। इस तरह कार्डियोवैस्कुलर हेल्थ के लिए भी ये तेल काफी फायदेमंद है।

 

डायबिटीज में

रोजमेरी और ऑरिगेनो असेंसियल ऑयल टाइप २ डायबिटीज को कंट्रोल करने में असरदार होते हैं। इसमें पाए जाने वाले फाइटोकैमिकल्स इंसुलिन के प्रोडक्शन को बढ़ाने का काम करते हैं। यदि मोटापा और क्रॉनिक इंफ्लेमेशन की वजह से डायबिटीज की समस्या हैए तो इस ऑयल के सेवन से मोटापा और इंफ्लेमेशन को भी दूर किया जा सकता है।

 

त्वचा के लिए ओरेगेनो के लाभ

त्वचा से जुड़े संक्रमण से बचने या अगर संक्रमण हैए तो उसके प्रभाव को कम करने के लिए ओरेगेनो के एसेंशियल ऑयल का उपयोग किया जा सकता है। इसमें एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं, जो संक्रमण फैलाने वाले बैक्टीरिया को खत्म करते हैं। साथ ही इसमें एंटी इंफ्लेमेटरी और इम्यूनोमॉड्यूलेटरी गुण पाए जाते हैं,, जो त्वचा में आई सूजन को कम कर सकते हैं। इसमें एंटी कैंसर गुण भी होते हैंए जो त्वचा के कैंसर के खतरे से बचाने में मदद कर सकते हैं।

बालों के लिए ओरेगेनो के फायदे

बालों के झड़ने की समस्या से जूझ रहे लोगों के लिए भी ओरेगेनो का उपयोग लाभकारी साबित हो सकता है। शोध में पाया गया है कि ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस बालों के झड़ने का एक कारण हो सकता है। ओरेगेनो एक प्रभावी एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम कर सकता है इसलिए यह कहा जा सकता है कि इसके एंटीऑक्सीडेंट गुण ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करके और बालों के झड़ने की समस्या को रोकने में मदद कर सकते हैं।

 

पेट की समस्या

ऑरिगेनो ऑयल की एक यां दो बूंदों को रोजाना लेमन टी में सेवन करने से आपको कई तरह की पेट संबंधी समस्याओं से आराम मिल जाएगा। दरअसल ऑरिगेनो में एंटी माइक्रोबियल और एंटी इंफ्लेमेटरी प्रॉपर्टीज होती हैं ।

 

कैंसर रोकने में सफल

ओरेगेनो में मौजूद कारवाक्रोल कंपाउंड प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इसलिए इसके इस्तेमाल से कैंसर सेल्स का विकास रुकता है और फेफड़ोंए लिवर और ब्रेस्ट कैंसर की संभावना समाप्त हो जाती है। साथ ही अगर आप वजन घटाना चाहते हैं तो खाने में ओरेगेनो या उसके तेल का उपयोग करें तो आपको फायदा देखने को मिलेगा।

जुकाम और बुखार से आराम

जुकामए बुखार और कॉमन कोल्ड के लक्षणों को कम करने के लिए ओरेगेनो का उपयोग किया जा सकता है। ओरेगेनो के एसेंशियल ऑयल में एंटी इन्फ्लुएंजा गुण होते हैंए जो कॉमन कोल्ड के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते हैं। इसके साथ ही ओरेगेनो का पौधा एंटीवायरल और एंटीबैक्टीरियल गुणों से भरपूर होता हैए जो संक्रमण फैलाने वाले वायरस व बैक्टीरिया से लड़ता है और कॉमन कोल्ड को कम कर सकता है।

एनीमिया से राहत दिलाए

शरीर में आयरन की कमी एनीमिया का कारण बनती है। आयरन शरीर में हीमोग्लोबिन का निर्माण करता है, जो एक प्रकार आयरन युक्त प्रोटीन होता है। एनीमिया से पीड़ित लोगों के लिए अजवायन की पत्ती के लाभ देखे जा सकते हैं। ओरेगेनो की पत्तियों में समृद्ध मात्रा में आयरन पाया जाता है, जो आयरन की कमी को पूरा करने में मदद कर सकता है। इसके लिए ओरेगेनो की सूखी पत्तियों को पानी में उबाल करए उस पानी का सेवन किया जा सकता है।

 

ओरेगेनो तेल का उपयोग करने में सावधानी

ओरेगेनोए मसालों की दुकानों पर आसानी से उपलब्ध होता है। ऑयल भी मार्केट या ऑनलाइन आसानी से खरीदा जा सकता है। अगर आप किसी बीमारी की दवाएं पहले से ले रहे हैं, तो एक बार डॉक्टर से सलाह अवश्य लें। गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को भी इसका उपयोग ना करने की सलाह दी जाती है।

 

स्वास्थ्य संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें- editor@grehlakshmi.com

यह भी पढ़े

कितना जानते हैं आप पाइन ऑयल के इन हेल्थ बेनिफिट्स के बारे में