googlenews
मिडवाइफ

दरअसल सेलफोन के दुष्प्रभाव के तौर पर दिखाई देने वाले लक्षण सेहत संबंधी अनेक समस्याओं को जन्म दे सकती हैं। इलेक्ट्रो मेग्नेटिक विकिरणों के कारण मोबाइल फोन गर्भवती महिला के लिए बेहद हानिकारक है।

‘‘मैं प्रतिदिन सेलफोन पर घंटों बात करती हूं। क्या इससे मेरा शिशु प्रभावित होगा”

देखिए, आजकल तो हर कोई सेलफोन का इस्तेमाल करता है। अब आप दो लोग एक साथ फोन इस्तेमाल कर रहे हैं, तो उससे कोई फर्क नहीं पड़ता। अब तक ऐसे कोई प्रभाव नहीं मिले कि सेलफोन के इस्तेमाल से गर्भावस्था में कोई नुकसान होता हो। यह तो आपके लिए फायदेमंद ही है क्योंकि इस तरह आप अपने डॉक्टर या मिडवाइफ से किसी भी समस्या के बारे में बात कर सकती हैं। इस तरह आप काम के मामले में भी थोड़ी सोच अपना सकती हैं, जिससे आराम के लिए अधिक समय मिल पाएगा।

वैसे सेलफोन को पूरी तरह खतरे से खाली नहीं माना जा सकता। गाड़ी चलाते समय फोन पर बात करना खतरनाक हो सकता है। चाहे आपके हाथ में मोबाइल न हो, कान से यंत्र लगा होने के बावजूद,बातचीत से ध्यान तो भटकता ही है। जब भी फोन पर बात करें तो किसी सुरक्षित स्थान पर ही बैठें। सैल फोन को हर वक्त अपने बिस्तर या जेब में न रखें।

ये भी पढ़ें –

अगर कोई समस्या हो तो डॉक्टर की सलाह लें

कॉफी की अधिक मात्रा से हो सकता है गर्भपात

गर्भावस्था में शराब का सेवन भ्रूण के लिए ख़तरनाक

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकती हैं।