आमतौर पर बाज़ार में हरे और पीले दो तरह के केले मिलते हैं । पर क्या आपने कभी नीले रंग के केले का नाम सुना है। जी हां ये खास रंग के केले सेहत में ही नहीं बल्कि स्वाद में भी गजब होते हैं। इनका स्वाद वैनिला आइसक्रीम की तरह होता है, जिसकी वजह से इन्हें आइसक्रीम केला भी कहा जाता है। इस किस्म का केला मुख्य रूप से दक्षिण पूर्व एशिया में उगाया जाता है और वहां खूब लोकप्रिय लोकप्रिय भी है। ब्लू जावा बनाना 15 से 20 फीट की ऊंचाई तक बढ़ सकते हैं और इसके पेड़ के पत्ते सिल्वर ग्रीन रंग के होते हैं। आइए जानते हैं आखिर क्या है इस ब्लू जावा बनाना खाने के फायदे। 

 

तनाव से राहत

कई रिसर्च में कहा गया है कि केले का सेवन करने से तनाव से भी मुक्ति मिलती है। केले में मौजूद प्रोटीन शरीर को रिलेक्स करके टेंशन फ्री फील करवाता है। यही कारण है कि डिप्रेशन के मरीज जब भी केले का सेवन करते हैं तो उन्हें अच्छा फील होता है। इसके अलावा केले में पाया जाने वाला विटामिन बी 6 शरीर में ब्लड ग्लूकोज को भी नियंत्रित रखने में मदद करता है। 

 

एनर्जी

केले का सेवन शरीर में खून की मात्रा ही नहीं एनर्जी लेवल भी बढ़ाने में मदद करता है। नियमित रूप से केले और दूध का सेवन करने से व्यक्ति की सेहत बनी रहती है। 

 

एनीमिया

अगर आप भी खून की कमी यानी एनीमिया से जूझ रहे हैं तो नीले रंग का ये केला आपकी परेशानी दूर कर सकता है। हीमोग्लोबिन की कमी दूर करने में ब्लू जावा केला मदद कर सकता है। इस केले का सेवन करने से शरीर में आयरन की कमी धीरे.धीरे कम होकर एनीमिया की समस्या में भी सुधार होता है।

 

कब्ज 

कब्ज से परेशान लोगों के लिए भी इस केले का सेवन फायदेमंद माना जाता है। कब्ज की परेशानी दूर करने के लिए आप दूध के साथ इस केले का रोजाना रात को सोने से पहले सेवन कर सकते हैं। ऐसा करने पर कब्ज और गैस की समस्या से राहत मिलती है।

 

आयरन से भरपूर होता है नीला केला

ब्लू जावा केला हीमोग्लोबिन की कमी को दूर करने में मदद करता है। इसके सेवन करने से शरीर में आयरन की कमी धीरे.धीरे दूर होने लगती है।

 

पाचन क्रिया होती है बेहतर

केले में मौजूद फाइबर पाचन क्रिया को अच्छा बनाकर व्यक्ति को कई रोगों से दूर रखता है।

 

स्वास्थ्य संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें- editor@grehlakshmi.com

 

यह भी पढ़ें-

जानिए क्यों जरूरी है महिलाओं को जल्द से जल्द डायबिटीज की जांच कराना