googlenews
मजदूरी से डीआईडी की ट्राफी तक का सफर: DID Super Mom Winner
DID Super Moms 3 Winner

DID Super Mom Winner: कभी उन आंखों में सपने बसते थे। कुछ ऐसा कर पाएं कि अपने बच्‍चे को बेहतर जिंदगी दे सकें। अपनी जिंदगी के उन सपनों को हर दिन मजदूरी कर बुनने वाली हरियाणा की वर्षा बुमराह ने हकीकत में बदलने के लिए हर कदम पर मेहनत की। ‘डीआईडी सुपर मॉम्‍स’ सीजन 3 में उन्‍हें अपने सपनों को सच करने का मौका मिला। यूं तो ‘डीआईडी सुपर मॉम्‍स’ अपने हुनर को एक बार फिर से जीने और पहचान दिलाने के लिए महिलाओं के लिए सुनहरा अवसर है। मगर वर्षा के लिए ये सिर्फ हुनर दिखाने का ही नहीं अपनी जिंदगी को एक नया आयाम देने का भी जरिया था। जिसे पूरा करने के लिए वर्षा ने इस ट्रॉफी को जीतने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी।

दिहाड़ी मजदूरी से लाखों का ईनाम

जब भी वे हर दिन घर से निकलती है तो शाम को दिहाड़ी में मिलने वाले चंद रुपये ले वापस लौटतीं। लेकिन इस बार जो वो हरियाणा की छोटी सी जगह हांसी से डीआईडी सुपर मॉम्‍स के मंच पर पहुंचीं तो घर ले जाने के लिए उनके हाथों में लाखों का चेक है। इस बार उनकी मेहनत के रंग की चमक न सिर्फ उनकी आंखों में है बल्कि उनके शहर की गलियों में भी है। जो लोग वर्षा को कल तक दिहाड़ी मजदूर के रूप में जानते थे। वे आज उन्‍हें एक विनर के रूप में जान रहे हैं। इस शो में वर्षा ने ट्रॉफी के साथ 10 लाख रुपये का ईनाम जीता है। इस सफर के दौरान उनकी कोरियोग्राफर वर्तिका झा ने उनको एक बेहतर डांसर बनाने में पूरी मदद की। दर्शकों ने भी वर्षा के डांस परफॉर्मेंस का पूरे सीजन बेहद पसंद किया और उनके वोट्स की मदद वर्षा ट्रॉफी जीत गईं।

बचपन से ही पसंद था डांस

वर्षा को बचपन से ही डांस का शौक था। उनका बचपन का ये प्‍यार उन्‍हें जिंदगी में इस मुकाम पर पहुंचा देगा शायद ही उन्‍होंने सोचा हो। वर्षा की 2015 में नितिन से शादी हुई। नितिन मजदूरी करते थे और वर्षा ने घर चलाने में उनकी मदद करने के लिए खुद भी मजदूरी करना शुरू कर दिया था। वर्षा का एक 5 वर्ष का बेटा भी है। लेकिन न तो शादी के बाद और न ही बच्‍चे के जन्‍म के बाद वर्षा का उनके पहले प्‍यार यानी डांस के प्रति रूझान कभी कम नहीं हुआ। उन्‍हें कभी डांस सीखने का मौका नहीं मिला। फिर भी वे अपने हुनर को तराशने के लिए वीडियो देखकर डांस सीखने की कोशिश करती रहती थीं। आखिर उन्‍होंने अपने डांस के प्रति इस प्‍यार के साथ चलते-चलते डीआईडी सुपर मॉम्‍स के सीजन 3 के विनर का ताज अपने नाम किया।  

पांच फाइनलिस्‍ट को पीछे छोड़ जीता खिताब

फाइनल की ये रेस वर्षा के लिए आसान नहीं थी। उनके सामने पांच कड़े प्रतिद्वंद्वी थे। अल्‍पना पांडे, रिद्धी तिवारी, अनिला रंजन, सादिका सना शेख, साधना मिश्रा के साथ वर्षा बुमराह फाइनल में पहुंची थीं। ये सभी कांटेंस्‍टेंट बहुत स्‍ट्रांग थे। इनके बीच ट्राफी जीतना वर्षा के लिए आसान नहीं था। लेकिन ये काफी हद तक वर्षा की गुरु वर्तिका झा के साथ की वजह से हो पाया। वर्षा शो में आने से पहले से ही वर्तिका की फैन थीं। वे सोशल मीडिया पर वर्तिका के वीडियोज देखकर डांस सीखा करती थीं। इस मंच पर भी उन्‍हें वर्तिका का संग मिला और गुरु शिष्‍य की इस छोड़ी ने पांचों फाइनलिस्‍ट को पीछे छोड़ ट्रॉफी को अपने नाम कर लिया।  

Leave a comment