googlenews
health-tips-in-7-masalon-se-paye-swad-or-sehat

Health Tips : मसाले हमारे खाने को सिर्फ स्वाद, खुशबू और रंग ही नहीं देते, बल्कि ये हमें स्वस्थ भी रखते हैं। हम यहां 7 ऐसे ही मसालों की चर्चा कर रहे हैं, जिन्हें प्राय: हर रोज हम अपने खाने में शामिल करते हैं। इन छोटे-छोटे मसालों की खासियत बता रही हैं न्यूट्रीशनिस्ट कविता देवगन।

स्वस्थ रहने के लिए इन 7 मसालों को अपनी डाइट में जरूर शामिल करें।

जो मसाले आप अपनी डाइट में शामिल करते हैं, उनका आपके स्वास्थ्य पर गहरा प्रभाव पड़ता है। दिखने में यह छोटे से मसाले आपके लिए बहुत फायदेमंद हैं। मैंने तो इन्हें अपने हर भोजन का हिस्सा बना रखा है। और मेरी तो यही सलाह है कि आप भी इन्हें अपने रोज के खाने में जरूर शामिल करें-

01. राई लिगनेन नामक तत्त्व द्वारा भरपूर होती है। जो आपके लीवर के एंजाइम को अच्छे से काम करने में मदद करती है और फैट ब्रेक डाउन करने में भी लाभदायक होती है। इसमें मौजूद कुछ फैटी एसिड और प्रोटीन आपके मेटाबॉलिक रेट को भी बढ़ाते हैं। इसलिए इसे हर तड़के में जरूर प्रयोग करें।

02. सौंफ – यह पाचन तंत्र को दुरुस्त रखने में लाभदायक है। यह आपकी आंतों से गैस रिलीज करने में मदद करती है। यह प्राकृतिक डायरेटिक्स का काम करती है और आपके शरीर से अधिक यूरिक एसिड को बाहर निकाल देती है। बाईल को ब्रेक करने में और लीवर की सेहत को अच्छा रखने में भी सौंफ काफी ज्यादा लाभदायक होती है। सुबह-सुबह चाय पीते समय इसका सेवन जरूर करें।

03. हल्दी – एक टॉनिक का काम करती है। अगर आपको खांसी या जुखाम जैसी बीमारी होती है तो हल्दी आपके श्वसन प्रणाली (रेस्पिरेटरी सिस्टम) को राहत पहुंचाती है। हल्दी में मौजूद करक्यूमिन आपकी फैट सेल्स, पैंक्रीटिक सेल्स, किडनी सेल्स और मसल्स सेल्स को इंफ्लेमेशन से बचाती है। हल्दी आपके लीवर को डिटॉक्स करने में भी मदद करती है।

यह कुछ तत्त्वों को आपके लीवर के लिए हानिकारक तत्त्व में बदलने से बचाने में मदद करती है। इसलिए आपको सभी सब्जी में तड़का लगाते समय हल्दी का प्रयोग करना ही चाहिए, साथ में सोते समय हल्दी वाला दूध भी पीना चाहिए।

04. कलौंजी – में एक बहुत मुख्य इंग्रीडिएंट थायमोकिनीन मौजूद होता है, जो सूजन से लड़ता है और आपको सूजन से तो बचाता ही है, साथ में आपके फेफड़ों को भी बाहर के प्रदूषण और संक्रमण से बचाने में मदद करता है। इसलिए आपको दाल या सब्जियों में कलौंजी का प्रयोग जरूर करना चाहिए।

05. दालचीनी – अगर आप सुबह-सुबह कॉफी पीते हैं तो उसमें थोड़ी-सी मात्रा में दालचीनी छिड़क लेनी चाहिए क्योंकि इसका प्रयोग करने से आपके शरीर के बहुत आवश्यक एंजाइम एक्टिव हो जाते हैं और इनके कारण आपका इंसुलिन स्तर नियंत्रित होता है।

यह आपको डायबिटीज से बचने में मदद करता है। इससे आपको जुखाम, खांसी और पाचन तंत्र से जुड़ी समस्याओं से भी बचाव मिलता है। इस मसाले का नियमित सेवन करने से आपकी याददाश्त भी तेज होती है। इससे दिमाग तक आपका ब्लड फ्लो अच्छे से प्रवाहित होता है, जिससे आपका मस्तिष्क अच्छे से काम करता है।

06. मेथी दाना – यह आपके शरीर में इंसुलिन रिस्पॉन्स को कम करता है, इसलिए डायबिटीज के मरीजों के लिए यह मसाला काफी लाभदायक हो सकता है। पाचन तंत्र को अच्छा रखने के लिए और ग्लूकोज लेवल को संतुलित रखने के लिए भी इसमें पाया जाने वाला फाइबर बहुत आवश्यक भूमिका निभाता है।

यह हाइपो लिपिडेमिक होता है। इसका अर्थ है कि यह बुरे कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम रखता है। वॉटर रिटेंशन कम रखने में भी मेथी का दाना लाभदायक होता है।

07. जीरा – अगर आप आयरन का एक अच्छा स्रोत ढूंढ़ रहे हैं तो जीरा एक अच्छा विकल्प हो सकता है। आपके इम्यून सिस्टम को स्वस्थ रखने में आप को ऊर्जावान बनाने में और मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने में जीरा एक अहम भूमिका निभाता है। प्रॉपर पाचन के लिए भी जीरा अच्छा होता है और इससे इनसोम्निया की दिक्कत भी हल होने में मदद मिलती है। हर तड़के में इसका प्रयोग आपको जरूर करना चाहिए।
आशा है कि आप इस लेख को पढ़ने के बाद अपनी रसोई और अपनी डाइट में इन मसालों को जगह देंगी।

Leave a comment