Anushka Kumari

Anushka Kumari: बिहार की अनुष्का के बारे में कम लोगों ने ही सुना है, तो बता दें कि इन्होंने बिहार के साथ देश की राजनीति को परिपक्व करने के साथ ही महिला सशक्तिकरण की राह में एक ईंट जोड़ी है। अनुष्का ने हाल ही में बिहार में पंचायत चुनाव जीत कर सबसे कम उम्र में मुखिया बनने का इतिहास रचा है। 21 वर्षीय अनुष्का 2625 वोटों से जीतकर मुखिया बनी हैं।

कौन है अनुष्का

अनुष्का बिहार के शिवहर जिले की रहने वाली हैं। शिवहर प्रखंड के कुशहर पंचायत से उन्होंने चुनाव जीतकर सबसे कम उम्र में मुखिया बनने का गौरव हासिल किया है।

Anushka Kumari

बैंगलोर से की पढ़ाई

अनुष्का कुमारी को कुल 2625 मत प्राप्त हुए थे और उनकी प्रतिद्वंदी को 2338 मत प्राप्त हुए थे। अपने प्रतिद्वंदी को अनुष्का ने 287 वोटों से हराया। चुनाव जीतने के बाद अनुष्का कुमारी ने अपने जीत का श्रेय जनता को दिया। आपको जानकर हैरानी होगी कि उन्होंने अपनी पढ़ाई बैंगलोर से की है। उन्हें कई जॉब्स के ऑफर भी आए थे, लेकिन उन्हें अपने गांव में विकास का काम करना था।

विकास का मॉडल लाएगी गांव में

चुनाव में जीतने पर अनुष्का से जब लोगों ने सवाल किए तो उनका साफ कहना था कि मेरे गांव में कुछ बुनियादी चीजों की कमी है जिसका हर्जाना हम बच्चों को उठाना पड़ता है। उन जरूरतों को पूरा करना मेरी सबसे पहली जिम्मेदारी है जिससे की बच्चों का भविष्य अच्छा हो। वह भ्रष्टाचार को खत्म करना चाहती हैं और जनता ने जो भरोसा करके उन्हें जिताया है उसे कभी टूटने नहीं देना चाहती हैं।

गौरतलब है कि देश में लोकसभा और विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए न्यूनतम उम्र 25 वर्ष होनी चाहिए। देश के संविधान के अनुच्छेद 84 (ख) में यह प्रावधान है कि लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए न्यूनतम उम्र 25 वर्ष होनी चाहिए। वहीं राज्यसभा और विधान परिषद का चुनाव लड़ने के लिए न्यूनतम उम्र 30 वर्ष होनी चाहिए। जबकि पंचायत का चुनाव लड़ने के लिए 21 साल की उम्र होनी चाहिए।

दादा भी रह चुके हैं मुखिया

  21 साल की मुखिया अनुष्का राजनीति में अपना आदर्श अपने दादा को मानती हैं। Anushka Kumari पूर्व जिला परिषद सदस्य सुनील सिंह की पुत्री हैं। इनके दादा भी मुखिया रह चुके हैं। अगर हर युवा ऐसा सोचने लगे तो देश को आगे बढ़ने से कोई नहीं रोक सकेगा।   

Leave a comment

Cancel reply