Sweet Potato

बच्चा क्या खाता है और क्या नहीं, इसका उसकी डाइट की आदतों पर गहरा असर पड़ता है। इसलिए यह उसके पेरेंट्स की जिम्मेदारी है कि वे सुनिश्चित करें कि उन्हें उनके विकास के लिए जरूरी पोषक तत्व मिल रहे हैं। लेकिन कई बार बच्चों को खिलाना बहुत मुश्किल भरा हो जाता है, क्योंकि अमूमन वे खाना नहीं चाहते हैं। अगर आप भी ऐसी स्थिति से गुजर रही हैं, तो यह जरूरी है कि आप सोच- समझ कर इनग्रेडिएंट्स चुनें और उन्हें इस तरह से पकाएं कि बच्चों को खाना टेस्टी लगे। ऐसे में शकरकंद आपके बच्चे के लिए एक बढ़िया विकल्प है।

कौन हैं रायन फर्नांडो

कुछ दिनों पहले ही आमिर खान के न्यूट्रिशनिस्ट रायन फर्नांडो ने भी अपने सोशल मीडिया पोस्ट में शकरकंद के कई लाभों के बारे में बताया है। रायन फर्नांडो न सिर्फ आमिर खान बल्कि अभिषेक बच्चन के भी न्यूट्रिशनिस्ट हैं और उनकी डाइट का ध्यान रखते हैं।

रायन फर्नांडो के अनुसार शकरकंद के फायदे और ऐसे खिलाएं बच्चों को शकरकंद

रायन ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट शेयर किया है और बताया है कि शकरकंद में फाइबर और एंटी- ऑक्सीडेंट होते हैं। ये अच्छे गट बैक्टीरिया के विकास को बढ़ावा देते हैं और हेल्दी गट बनाए रखते हैं। इनमें बीटा- कैरोटीन और एनथोसियानिन जैसे एंटी- ऑक्सीडेंट को प्रचुर मात्रा में होते हैं, जो आंखों की रोशनी जाने से बचाते हैं और उनकी सेहट को दुरुस्त रखते हैं।

रायन कहते हैं कि शकरकंद को छिलके के साथ या छिलके के बिना भी खाया जा सकता है। इसे बेक करके, उबाल कर, रोस्ट करके, फ्राई करके, स्टीम करके या फिर पैन में पका कर खाया जा सकता है। इनमें प्राकृतिक तौर पर मीठापन होता है, जिसे अलग- अलग सीजनिंग के साथ पेयर किया जा सकता है। आप अपने बच्चे को उसकी पसंद के अनुसार न सिर्फ नमकीन बल्कि मीठे डिशेज भी बनाकर खिला सकती हैं।

कब खिलाना शुरू करें अपने लाडले को शकरकंद

आप अपने बच्चे को शकरकंद खिलाना तब शुरू कर सकती हैं, जब वह छह महीने का हो जाए। यह उसके लिए पहला भोजन हो सकता है। शुरुआत में प्यूरी के तौर पर उसे खिलाने से उसके लिए आसान होगा शकरकंद को पचाना। जब आपका बच्चा आठ महीने का हो जाए, तो आप उसे मैश करके खिला सकती हैं। आप चाहें तो शकरकंद को राइस या ओट्स के साथ मिक्स करके भी खिला सकती हैं, इससे शकरकंद के पौष्टिक गुण और बढ़ जाएंगे।

कैसे फायदेमंद है शकरकंद बच्चों के लिए

शकरकंद में इतने पौष्टिक गुण होते हैं कि यह बच्चों के लिए एक हेल्दी फूड है। इसमें पानी की मात्रा 77% होती है और इसमें फैट की मात्रा कम होती है। इस तरह से शकरकंद आपके बच्चे के लिए परफेक्ट है। अगर आप शकरकंद को अपने बच्चे की डाइट में शामिल करेंगी, तो यह उसके लिए कई तरह से फायदेमंद हो सकता है –

कब्ज से बचाता है शकरकंद

शकरकंद में फाइबर की मात्रा बहुत ज्यादा होती है। इसके 100 ग्राम में लगभग 3 ग्राम फाइबर होता है, जो कब्ज से बचाता है और पाचन तंत्र को हेल्दी रखता है।

बीटा- कैरोटीन और विटामिन ए

शकरकंद में बीटा- कैरोटीन होता है, जो विटामिन ए में बदल कर हमारे सिस्टम में प्रवेश करता है। विटामिन ए आंखों की रोशनी को बढ़ाता है और इसलिए अपने बच्चे की आंखों की रोशनी को सुधारने या मेन्टेन करने के लिए शकरकंद को अपने बच्चे की डाइट में जरूर शामिल करना चाहिए।

इम्यूनिटी बूस्टर

शकरकंद में विटामिन सई और विटामिन ई भी अच्छी मात्रा में होता है, जो इम्यूनिटी को मजबूती प्रदान करता है। ये विटामिन आपके बच्चे को आम सर्दी- जुकाम और इन्फेक्शन से बचाते हैं, जो अक्सर उन्हें अपना शिकार बना लेते हैं। यह हेल्दी और ग्लोइंग स्किन के लिए भी बढ़िया फूड है।

अच्छे कैलोरी

100 ग्राम शकरकंद में 86 कैलोरी और 0.1 ग्राम फाइट कॉन्टेन्ट होता है। ये अच्छे कैलोरीज होते हैं, जिसकी वजह से ये बच्चों के लिए हेल्दी फूड ऑप्शन हैं। विशेष तौर पर तब, जब बच्चों का वजन कम रहता है। शकरकंद में व्याप्त हाई कैलोरी से वजन बढ़ने और फिजिकल डेवलपमेंट में मदद मिलती है।

अनीमिया से बचाव और हड्डियों को मजबूती

शकरकंद में कैल्शियम और आयरन दोनों होता है, जो बच्चों एक विकास के लिए जरूरी है। आयरन अनीमिया से बचाता है और कैल्शियम हड्डियों को मजबूती प्रदान करता है।

शकरकंद की रेसिपी

बच्चों को शकरकंद खिलाने के लिए आप कई तरह से खिला सकती हैं। इससे पराठा, प्यूरी, चोखा, सूप, सब्जी, खीर आदि बनाए जा सकते हैं। यहां हम आपको कुछ रेसिपी बता रहे हैं –

शकरकंद का पराठा

शकरकंद को उबाल कर मैश कर लेन। इसमें नमक, भुना जीरा पाउडर, और हरी धनिया डाल दें। इस सबको अच्छी तरह से मिक्स कर लें। अब गेंहू का आटा गूंथ लें और लोई बनाकर शकरकंद मिक्स को भर लें। इसे बंद करें और बेल लें। अब पराठा को जैसे तवे पर घी लगाकर सेंकते हैं, वैसे ही सेंक लें।

शकरकंद और गाजर की प्यूरी

गाजर को बारीक क्स लें और शकरकंद को छोटे पीसेज में काट लें। इन्हें पानी में तब तक पकाएं, जब तक कि ये सॉफ्ट न हो जाएं। ठंड होने दें और फिर मिक्सर या ब्लेन्डर में ब्लेन्ड करके प्यूरी बना लें। इसका टेस्ट बढ़ाने के लिए हल्का नमक और काली मिर्च डालें।

शकरकंद का चोखा

यह रेसिपी उन बच्चों के लिए परफेक्ट है, जिन्हें सॉलिड फूड तुरंत शुरू करवाया जाता है। शकरकंद को बेक कर लें या भाप में पका लें। अब इसे मैश कर लें। इसमें आधा कप पानी या उबली सब्जियों वाला पानी डालें और अच्छी तरह से मिक्स कर लें। स्वाद बढ़ाने के लिए इसमें नमक डालें।

शकरकंद की खीर

कटे हुए शकरकंद और चावल को थोड़े पानी के साथ उबाल लें। जब ये आधे पक जाएं, तो इसमें दूध मिलाकर चला लें। 10 से 15 मिनट के लिए धीमी आंच पर चढ़े रहने दें। एक बार जब यह पक जाए, तो गैस से उतार लें। ठंडा होने दें। इसमें चीनी डाल लें। शकरकंद की खीर तैयार है।

ये भी पढ़ें –

कहीं आपका बच्चा एंजायटी का शिकार तो नहीं, ऐसे पहचानें और करें मद

वे 10 बातें, जो अपने बच्चे का नए स्कूल में एडमिशन कराने से पहले जानना है जरूरी

Leave a comment