माताओं को पता है कि बच्चे की त्वचा का ख्याल रखना इतना आसान नहीं है।जीवन के प्रारंभिक वर्षों में, आपके बच्चे को त्वचा की कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है, जैसे कि सूखी त्वचा, रैशेज , बेबी मुँहासे या बेबी एक्जिमा। इन समस्याओं के लिए कई कारण हो सकते है। लेकिन एक चीज जो बच्चे में त्वचा की समस्याओं का बड़ा कारण है, वह है पीएच असंतुलन। इससे पहले कि हम इस पर चर्चा करें , आपका यह जानना जरूरी है कि पीएच है क्या ? 

क्या होता है पीएच?

पीएच  लेवल का मतलब है पोटेंशियल हाइड्रोजन , जिसके आधार पर यह तय किया जाता है कि साबुन एसिडिक या अल्कलाइन है या नहीं । त्वचा के साथ-साथ शरीर का हर अंग पीएच लेवल से प्रभावित होता है और पीएच लेवल के आधार पर ही स्किन की हेल्थ अच्छी या कमज़ोर बनती है । लोअर पी एच लेवल का मतलब है पदार्थ एसिडिक है , और हाई पी एच लेवल का मतलब है की पदार्थ एल्कलाइन है । pH स्केल 0-14 होता है, जिसमें एसिड कम होता है और बेसिस हाई होता है। बच्चे की त्वचा का पीएच संतुलन लगभग 5.5 होता है। 

पीएच लेवल और त्वचा का क्या है संबंध ? 

किसी भी “केमिकल” पदार्थ की तरह, हमारे शरीर का भी पीएच स्तर  होता है। पानी का पीएच 7 है, यह न्यूट्रल है। क्योंकि हमारे इंटरनल फ्लूड्स ज्यादातर पानी से बने होते हैं, इसलिए इन सभी में पीएच 7 या इसके आस पास ही होता है। इसी तरह हमारी त्वचा का पीएच स्तर भी होता है। तकनीकी रूप से, यह त्वचा नहीं है जिसमें पीएच है, बल्कि त्वचा पर पसीने और ऑयल ग्लैंडस हैं जो इसे एक एसिडिक नेचर देते हैं। त्वचा के पीएच स्तर को बनाए रखना महत्वपूर्ण है ताकि त्वचा की विभिन्न समस्याओं से बचा जा सके।

बेबी स्किन के कुछ स्पेशल लक्षण 

एक बच्चे की त्वचा एक एडल्ट की त्वचा से अलग होती है। बच्चे की त्वचा को किसी भी समस्या से बचने के लिए विशेष देखभाल करनी पड़ती है। बच्चे की त्वचा पतली होती है, सूखापन का खतरा अधिक होता है और बहुत संवेदनशील भी होती है। 

बच्चे की त्वचा की कुछ खास विशेषताएं हैं जिनके बारे में आपका जानना जरूरी है : 

* वजन की तुलना में , एक बच्चे की त्वचा का सर्फेस एरिया, एडल्ट्स की तुलना में बड़ा होता है । 

* एडल्ट्स की तुलना में बच्चे में डर्मिस तीन गुना पतला होता है । 

* हाइड्रॉलिपिडिक फिल्म में मुख्य रूप से पसीना, सीबम और पानी, एडल्ट्स की तुलना में बच्चों में ज्यादा पतला होता है। इसकी भूमिका बैक्टीरिया के खिलाफ त्वचा की रक्षा करना है,यह एक बैरियर के रूप में काम करता है। थिनर हाइड्रॉलिपिडिक लेयर बच्चे की त्वचा को अधिक संवेदनशील बनाती है । 

* शिशु के जन्म के बाद ही पीएच बनाना शुरू हो जाता है और जैसे जैसे बच्चा बड़ा होता है यह स्तर नीचे चला जाता है जो बच्चे की त्वचा को अधिक एसिडिक बनाता है। जिससे यह पता चलता है कि बच्चे की त्वचा में इन्फेक्शन और इरीटेशन होने की संभावना अधिक होती है । 

शिशु की त्वचा का पीएच स्तर क्या है

एक बच्चे की त्वचा (या यहां तक कि हमारी त्वचा) का आइडियल पीएच स्तर 5.5 होता है। जैसा कि यह पानी के पीएच (7) से कम है, तो यह मानना सही है कि  हमारी त्वचा प्रकृति में एसिडिक होती है। यह इसलिए है क्योंकि एक एसिडिक त्वचा बैक्टीरिया या फंगस  से लड़ने में अधिक सक्षम है। पीएच के इस 5.5 स्तर को बनाए रखना बिल्कुल महत्वपूर्ण है। 5.5 से थोड़ी भी हलचल त्वचा की बहुत सारी समस्याओं को जन्म दे सकती हैं , खासकर उन शिशुओं में जिनकी अधिक संवेदनशील त्वचा होती  हैं।

उदाहरण के लिए, एक एंजाइम होता है जो एक बच्चे की त्वचा पर रहता है जो पुरानी त्वचा को पतला करता है ताकि नई त्वचा का जन्म हो सके। हालांकि, यह एंजाइम पीएच संवेदनशील है। इसका मतलब है कि अगर पीएच 5.5 से अधिक है, तो यह त्वचा को आवश्यकता से अधिक पतला कर देता है और एक पतली त्वचा  में इरिटेशन , रैशेज और एक्जिमा होने की  संभावना अधिक बढ़ जाती है।

बेबी सोप कर सकती है शिशु के पीएच लेवल को  प्रभावित

साबुन और बॉडी लोशन को बच्चे की त्वचा के पीएच स्तर से मेल खाना चाहिए।  साबुन जो हम एडल्ट्स उपयोग करते हैं उनका पीएच फैक्टर 9 होता है। यहां तक कि अधिकांश “माइल्ड” क्लींजर का पीएच फैक्टर भी 7 के करीब होता है। इनमें से कोई भी बच्चे की त्वचा को सूट नहीं करता । शिशु की त्वचा के लिए, हमें ऐसी साबुन की आवश्यकता होती है जिसमें पीएच फैक्टर 5.5 हो ।  इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि आप ऐसी बेबी सोप चुनें, जो शिशु की त्वचा के पीएच लेवल को बनाए रख सके , जिससे त्वचा संबंधी समस्याएं होने का खतरा न हो । 

 कौन से बेबी सोप का करें चयन

 यह एक बड़ी समस्या है कि कौन सा बेबी सोप हमारे बच्चे के किए सही होगा । आज कल इतनी बेबी प्रोडक्ट कंपनी  है जो दावा करती हैं कि , यह बेबी सोप आपके बच्चे के लिए बेस्ट है , यह एंटीबैक्टीरियल , एंटीबायोटिक , और नेचुरल है । जो आपके लिए चिंता का विषय बन जाता है की कौन सी सोप चुने जो बच्चे की त्वचा के लिए बेस्ट हो । लेकिन नीचे लिखी गई कुछ टिप्स से आपको जरूर मदद मिलेगी : 

* लेबल को स्पष्ट रूप से पढ़ें ।चेक करें कि साबुन की पीएच आइडियल वैल्यू 5.5 हो , जिसकी आपको तलाश है । 

* अच्छी से देखें की साबुन में कोई हार्श केमिकल न हो । अगर है तो उसे बिलकुल न खरीदें । 

* आप चाहें तो साबुन के बजाय बॉडी वॉश जैल का  इस्तेमाल कर सकते हैं , क्योंकि साबुन में आमतौर पर उच्च पीएच लेवल होता है । 

* ऐसे सभी लोशन या क्रीम से बचें जो पेट्रोलियम बेस्ड होते है , क्योंकि उनका पीएच 7 के बराबर या उससे अधिक होता है , जो  बेबी स्किन के लिए हानिकारक है ।

* बॉडी लोशन हो , मॉइस्चराइज़र हो और या कोई भी क्रीम जो आप अपने बच्चे के लिए इस्तेमाल करते हैं उसकी अच्छे से जांच करें , उसके बाद ही उसे इस्तेमाल में लाएं।

* अगर किसी साबुन से बहुत अच्छी खुशबू आती है, तो उसे बिलकुल न खरीदें। ऐसी खुशबूदार साबुन में अधिक मात्रा में केमिकल का उपयोग किया जाता है , जिससे वे अच्छी खुशबू दें । ऐसा साबुन आपके बच्चे की त्वचा के लिए सही नहीं  है । अधिक खुशबू वाले साबुन से बचें ।

* सुनिश्चित करें कि आप अपने बच्चे को अच्छी तरह से साफ करने के प्रयास में उन्हें “अधिक स्नान” न कराएं । इससे आप अपने बच्चे की त्वचा को ड्राई कर रहे हैं , जिससे फिर से त्वचा की समस्याएं हो सकती हैं । 

* साबुन में जितने अधिक प्राकृतिक तत्व होंगे , उतना ही अच्छा है। साबुन में नेचुरल ऑयल (जैसे जैतून का तेल या बादाम का तेल) और विटामिन का भी ध्यान रखें । 

* बच्चे के स्नान के तुरंत बाद ही उसकी त्वचा को मॉइश्चराइज करने से बच्चे की त्वचा अच्छी होती है । ऐसे मॉइश्चराइजर क्रीम का इस्तेमाल करें जो आपके बच्चे की त्वचा को सूट करती हो । 

अगर आप इन सभी बातों पर अच्छे से ध्यान देती हैं तो , आप अपने बच्चे की त्वचा को मुलायम और किसी भी नुकसान से आसानी से बचा सकते हैं । बस आप जिस भी बेबी सोप या क्रीम का इस्तेमाल करें इन सभी को ध्यान में रखें और बेबी फ्रेंडली प्रोडक्ट्स का की प्रयोग करें । 

Conclusion

एक बच्चे की त्वचा बहुत संवेदनशील होती है, इसलिए एक उचित पीएच संतुलन बनाए रखने से त्वचा की बड़ी समस्याओं के इलाज और रोकथाम में मदद मिलती है । अगर आप इन सभी बातों को ध्यान में रखती हैं तो आप अपने बच्चे को कई स्किन प्रॉब्लम्स से बचा रही हैं ।

यह भी पढ़ें-

ब्रेस्टफीडिंग के बाद अपनी ब्रेस्ट को री शेप कैसे करें

कोविड से रिकवर होने के लिए बुकलेट