googlenews
domestic violence

Maid’s Crucial Message: हर उस महिला की मदद करनी चाहिए जो मजबूर हो और घरेलू हिंसा का शिकार हो, लेकिन कोई ठोस कदम नहीं उठा पा रही हो, दरअसल, एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर चैताली ने दिल की बात अपनी सहेली को बताई तो जवाब में हां सुनने को मिला, चैताली वाली स्थिति आपकी भी हो सकती है और आपकी बाई भी, अगर ऐसा है तो अपनी बाई के लिए आवाज बुलंद करनी होगी। उसे बताना होगा कि उसे किसी के आगे झुकने की जरूरत नहीं है, वो भी सिर्फ इसलिए कि वो औरत है। बाई को घरेलू हिंसा के चक्रव्यूह से निकालने के लिए आप क्या कर सकती हैं आइए जानते है…

क्या बाई मानती है घरेलू हिंसा गलत है

Maid's Crucial Message
If she wants to come out on her own, only then can you help her

बाई घरेलू हिंसा की शिकार है लेकिन आप उसकी मदद तब कर पाएंगी, जब वो भी मानें कि उसके साथ गलत हो रहा है। इसलिए सबसे पहले उससे पूछें कि वो क्या सोचती है। वो खुद को अबला नारी मानकर घरेलू हिंसा को मामूली मान लेती है या फिर वो भी इससे बाहर आना चाहती है। अगर वो खुद बाहर आना चाहती है, तब ही आप उसकी सहायता कर सकतीं हैं।

क्या बाई की किस्मत नहीं बदल सकती

आपकी बाई इस सोच में भी आ सकती है कि यही उसकी किस्मत है। अब कुछ भी नहीं बदलेगा। अगर वो ऐसा सोचती है तो आपको अपना काम करना है। सबसे पहले उसे बताएं कि वो गलत सोच रही है। जीवन में बदलाव लाने के लिए उसको सबसे पहले अपनी सोच बदलनी होगी। ये सोच बदलना क्यों जरूरी है, इस बात को उन्हें जरूर समझा दें।

Maid's Crucial Message
First tell her that she is thinking wrong

बच्चे के भविष्य की चिंता

ज्यादातर महिलाओं की जान उनके बच्चों में बसती है। बाई के साथ भी ऐसा जरूर होगा। वो बच्चों पर जान छिड़कती होगी। आप उसके बच्चों के भविष्य के बारे में बताएं। उसे बताएं कि बच्चे अगर ऐसे माहौल में रहेंगे तो उन पर इसका गलत असर पड़ेगा। बच्चे भी ऐसी सोच के हो जाएंगे, जो आपके घर में घट रहा है। इस वक्त अपने लिए न भी सोचें तो बच्चों के लिए सोचें और घरेलू हिंसा का विरोध करने की कोशिश करें।

Leave a comment