googlenews
house-decoration-with-laughing-buddha


House Decoration with Laughing :
आपने अकसर लोगों के घरों में लाफिंग बुद्धा की छोटी-बड़ी मूर्तियों या तस्वीरों को देखा होगा। लोग इसे सुख-समृद्धि का प्रतीक मानते हैं और गुडलक लाने के लिए अपने घरों में रखते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि लाफिंग बुद्धा थे कौन? कहां के रहने वाले थे और इनकी हंसी का राज क्या है?

लाफिंग बुद्धा की हंसी की कहानी बहुत दिलचस्प है। माना जाता है कि महात्मा बुद्ध के कई शिष्य थे जो दूर-दूर से दीक्षा लेने आते थे। एक शिष्य होतई थे जो जापान के रहने वाले थे। जब होतई को आत्म-ज्ञान की प्राप्ति हुई, तो वो जोर-जोर से हंसने लगे। तभी से उन्होंने दूसरों को हंसाना और खुश देखना अपने जीवन का लक्ष्य बना लिया। वो जहां भी जाते, लोगों को अपना बड़ा पेट दिखाकर हंसाते रहते। लोग उनके साथ खुश रहते थे। इसी वजह से जापान और चीन में लोग उन्हें हंसता हुआ बुद्धा यानी लाफिंग बुद्धा बुलाने लगे।

होतई के अनुयायियों का उद्देश्य भी यही था। उन्हें मौज-मस्ती करना, घूमना-फिरना बहुत पसंद था। उनके आते ही लोगों की मानसिक परेशानी दूर हो जाती थी और वो प्रसन्न हो जाते थे। चीन में उन्होंने लाफिंग बुद्धा के लक्ष्य का इतना प्रचार किया कि लोग लाफिंग बुद्धा को भगवान मानने लगे। जिस तरह भारत में मां लक्ष्मी और कुबेर को धन का देवता माना जाता है, घर में इनकी मूर्तियां या तस्वीरें रखना शुभ माना जाता है। उसी तरह चीन में भी गुड लक के लिए लाफिंग बुद्धा रखे जाने लगे। चीन में फेंगशुई  यानी वास्तु शास्त्र (आर्किटेक्ट) के हिसाब से इनका बड़ा सा पेट समृद्धि का प्रतीक माना जाता है, तो हंसता हुआ चेहरा खुशहाली और सम्पन्नता का।  लाफिंग बुद्धा की मूर्ति रखने से घर में सम्पन्नता आती है, घर में सकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है, नकारात्मकता दूर होती है। इसे देखते हुए वर्तमान में दुनिया भर में लाफिंग बुद्धा की मूर्ति रखने का चलन हो गया है।    

अनूठी मूर्तियां– देवता के रूप में माने जाने में कारण चीन के मंदिरों में लाफिंग बुद्धा की बहुत बड़ी मूर्तियां भी मिलती हैं। हैंगचो में लिंगिन मंदिर में 60 फीट से अधिक ऊंची मूर्ति है जो सोने के पत्तों और सौ से अधिक सोने कपूर की लकड़ी से बनाई गई है। बीजिंग, जापान के लामा मंदिर में लकड़ी के एक टुकडे़ को तराश कर लाफिंग बुद्धा की बहुत बड़ी मूर्ति है। ताइवान के ट्रेजर काॅग्निशन मंदिर में देश के सबसे बड़े लाफिंग बुद्धा की मूर्ति है जिसका गंजा सिर मंदिर की छत को छूता है।

आइये जानें किस तरह के बुद्धा को अपने घर में रखें :

  • दोनों हाथ ऊपर उठाए लाफिंग बुद्धा को घर में रखने से तरक्की मिलती है और पैसों की कमी नहीं होती।
  • ध्यान मुद्रा में बैठे बुद्धा की प्रतिमा रखने से तनाव कम होता है और मन को अपार शांति मिलती है। मन में उथल-पुथल नहीं मचती और काम में कंसंट्रेशन बढ़ती है।
  • तनाव या चिंता ज्यादा हो, तो ध्यान मुद्रा वाले लाफिंग बुद्धा की मूर्ति रखनी चाहिए।
  • घर में खुशहाली और सुख-समृद्धि को बनाए रखने के लिए हंसते हुए बुद्धा की प्रतिमा रखनी चाहिए।
  • घर में धन की वृद्धि के लिए भरा हुआ और फूला हुआ थैला उठाए लाफिंग बुद्धा की प्रतिमा होनी चाहिए
  • अगर आप कठोर परिश्रम करते हैं, लेकिन कामयाब नहीं हो पाते। तो आपको दोनों हाथों में कमंडल उठाए हुए लाफिंग बुद्धा की प्रतिमा रखनी चाहिए ।
  • जिन व्यक्तियों की निर्णय लेने की क्षमता कम होती है, उन्हें मैटल से बने लाफिंग बुद्धा की मूर्ति रखनी चाहिए। इससे आपकी कार्यक्षमता और कार्यकुशलता बढ़ती है।
  • कंधे पर पोटली टांगी हुई हो और उसकी गोद में कई सारे बच्चों के साथ बैठे हुए लाफिंग बुद्धा की मूर्ति रखने से संतान  की प्राप्ति होती है।
  • लेटे हुए बुद्धा की मूर्ति घर में रखना दुर्भाग्य से पीछा छु़ड़ाने में सहायक मानी जाती है।
  • बोट में बैठे लाफिंग बुद्धा की मूर्ति  घर में रखने से काम और धन की कमी नहीं होगी। व्यक्ति का मान-सम्मान दूर तक फैलता है।
  • एक हाथ में सोने का सिक्का और दूसरे में पंखा लिए बुद्धा की मूर्ति घर में खुशहाली, संपन्नता और शांति का प्रतीक है।
  • ड्रेगन पर बैठे लाफिंग बुद्धा की मूर्ति घर में रखने से नेगेटिव एनर्जी दूर होती है।
  • अगर घर में कोई बीमार हो और बीमारी का पता न चल रहा हो। तो उस व्यक्ति के सिरहाने के पास ऐसे लाफिंग बुद्धा की प्रतिमा को रखना उचित है जिसके हाथ में पीले रंग का चीनी फल वुलू पकड़ा हो। कुछ ही दिन में उसकी बीमारी का पता लग जाएगा और ट्रीटमेंट करवा सकते हैं।

सावधानियां-

  • फेंगशुई के हिसाब से लाफिंग बुद्धा की मूर्ति पूर्व दिशा में रखने पर घर में खुशियां आती हैं, परिवार के बीच प्यार बढता है।
  • उनकी मूर्ति को घर के मुख्य द्वार के पास और प्रवेश द्वार की तरफ मुंह करके रखना चाहिए ताकि घर में प्रवेश करने वाले व्यक्तियों को वो अवश्य दिखाई दे।  
  • लाफिंग बुद्धा को जमीन पर नहीं रखना चाहिए। 3-4 फुट की ऊंचाई पर या अलमारी पर रखें।
  • मूर्ति टूटी हुई या उस पर धूल-मिट्टी जमी हुई नहीं होनी चाहिए।
  • बैडरूम, बाथरूम, डाइनिंग टेबल या रसोई में लाफिंग बुद्धा को नहीं रखना चाहिए।
  • माना जाता है कि आप किसी को उपहार में लाफिंग बुद्धा देते हैं या आपको उपहार में मिलता है, तो उसका प्रभाव ज्यादा होता है।
  • अगर आपको किसी को उपहार में देना है, तो लेटे हुए लाफिंग बुद्धा की मूर्ति देनी चाहिए। यह उपहार देने और लेने वाले दोनो व्यक्तियों के लिए लाभकारी माना गया है। यह समृद्धि की ओर ले जाता है।

House Decoration with Laughing Buddha

Leave a comment