प्रेगनेंसी के दिन अच्छी तरह से बीत जाएं तो इससे अच्छा और कुछ नहीं है। ऐसा इसलिए क्योंकि प्रेगनेंसी में एक महिला की बॉडी कई तरह के बदलावों से गुजरती है। जाहिर सी बात है कि एक जान को अपनी बॉडी के अंदर नौ महीने तक रखना कोई आसान काम नहीं है। कई तरह की परेशानी के साथ बॉडी में अक्सर थकान हो जाती है, जो आपको प्रेगनेंट महिला को चैन से रहने नहीं देती है।

जिन लोगों ने प्रेगनेंसी के दौरान थकान का अनुभव किया है, वे इस बात को समझ सकती हैं यह कितना मुश्किल भरा होता है। बॉडी में हो रहे हारमोन के बदलाव और बढ़ते हुए बच्चे के लिए जगह बनाने की कोशिश के बीच यह रोज का स्ट्रगल हो जाता है। ऐसे में कई आसान और प्राकृतिक तरीके हैं, जिनकी मदद से आप अपनी प्रेगनेंसी में होने वाली थकान और परेशानी को बिना किसी दावा की मदद लिए ठीक कर सकती हैं। प्रेगनेंसी में होने वाली थकान से बचने के लिए यहां कुछ आसान उपाय दिए गए हैं।

हिलना- डुलना भी है जरूरी

 

यह बिल्कुल सही बात है कि प्रेगनेंसी में थकान और ऐसा महसूस करना कि शरीर में जान ही नहीं है, होता रहता है। इस एग्जॉशन से बचने का सबसे बढ़िया तरीका यह है कि आप फिजिकल एक्टिविटी करती रहें। अपनी बॉडी का ध्यान रखने के लिए प्री- नैटल एक्सरसाइज एक जरूरी पक्ष है। यह आपकी बॉडी में एंडोर्फिन को रिलीज करता है, जो आपको एनर्जी देता है, आपके स्ट्रेस लेवल को कम करता है और आम तौर पर होने वाले दर्द को भी ठीक करता है। कहने का मतलब यह है कि आपको एक्टिव रहना है।

आपकी प्लेट में एंटी- इन्फ्लेमेट्री फूड्स 

यह जरूरी है कि आप अपनी मॉर्निंग सिकनेस को ठीक करने के लिए बैलेंस्ड और पौष्टिक डाइट लें क्योंकि मॉर्निंग सिकनेस भी आपको कमजोर महसूस कराता है। तीसरी तिमाही में खास तौर पर ब्लड प्रेशर और ब्लड शुगर लेवल कम हो जात अहै, जिससे आपकी थकान भी बढ़ती जाती है। ऐसे में अच्छी डाइट असंतुलन को ठीक करती है। ऐसे भोजन खाएं, जिनसे प्रोटीन और एनर्जी ज्यादा मिले। अनाज, नट्स, सीड्स का नियमित सेवन करती रहें। अपने पास ही स्नैक्स रखें, ताकि भूख लगने की स्थिति में तुरंत खा सकें।

मदद के लिए आगे बढ़ाएं हाथ

जिस तरह से बच्चे को पालना एक टीम वर्क है, वैसे ही प्रेगनेंसी भी। खुद को ज्यादा काम आकरके थकाने की बजाय अपने काम को परिवार के अन्य लोगों के साथ शेयर करना सीखिए। याद रखिए कि प्रेगनेंसी के समय धीमा होना सही रहता है, इसलिए अपनी वोद्य को बेवजह थकाने की बजाय अपने बेबी के लिए एनर्जी बचा कर रखें।

सेल्फ केयर हो आपकी प्राथमिकता

 

आपने प्रेगनेंसी पैम्परिंग का नाम सुना है? नौ महीने सेल्फ- केयर और पैम्परिंग के लिए होते हैं। योग कीजिए, मसाज कराइए, सूदिंग बाथ लीजिए, किताबें पढ़िए, मेडिटेट कीजिए। कुछ भी ऐसा कीजिए, जो आपके मासिक सवास्थ्य के लिए जरूरी हैं। म्यूजिक सुनिए क्योंकि स्टडीज भी कहते हैं कि अच्छा म्यूजिक मां और बच्चे दोनों के स्वास्थ्य पर थेरेप्यूटिक इफेक्ट डालता है।

भरपूर नींद लें

 

अगर आपको जरूरत से ज्यादा थकान लग रही है तो बेहतर होगा कि आप नींद लें। थकान और कमजोरी को दूर करने के लिए नींद सबसे बढ़िया रेमेडी है। अपने बेड को कम्फर्टेबल बनाएं, कमरे में कुछ एयर प्यूरिफाइंग प्लांट्स रखें और सो जाएं। इस तरह से आप रिचार्ज महसूस करेंगी।

 

ये भी पढ़ें – 

इन तरीकों से प्रेगनेंसी में भी आपकी स्किन रहेगी परफेक्ट 

प्रेगनेंसी में इस तरह से करें देसी घी का सेवन, इसके हैं कई फ़ायदे 

 

प्रेगनेंसी सम्बन्धी यह आलेख आपको कैसा लगा ?  अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही प्रेगनेंसी से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें- editor@grehlakshmi.com