जर्नल एक्सपेरिमेंटल मेडिसिन में प्रकाशित होने वाली एक नई स्टडी कहती है कि येल यूनिवर्सिटी ने पाया है कि कॉमन रेस्पिरेटरी वायरस, स्टिमुलेटेड जीन्स की गतिविधियों में हलचल करना शुरू कर देता है। यह इम्यून सिस्टम के वह मॉलिक्यूल्स होते हैं जिन की जल्दी होने वाली प्रतिक्रिया सारस कॉव 2 वायरस से हमें बचा सकती है अगर हम कोल्ड होने वाले वायरस से संक्रमित हो जाते हैं तो।

इस स्टडी के सीनियर ऑथर एलेन फॉक्समैन का कहना है कि इन ट्रिगर्स से बचाव को शुरू करने से संक्रमण को रोकने या इलाज करने का प्रयास संभव हो सकता है। इस का एक तरीका यह है कि मरीजों को इंटरफेरंस द्वारा ट्रीट किया जाए जोकि एक इम्यून सिस्टम का प्रोटीन है लेकिन इसे आप एक ड्रग के रूप में भी पा सकते हैं। लेकिन इस पर भी फॉक्समेन ने यह कहा है कि यह सब समय पर भी निर्भर करता है।

कॉमन कोल्ड वायरस हमें कोविड 19 होने से बचा सकता है

उनकी टीम लैब में मानव द्वारा विकसित सारस कोव 2 से संक्रमित हुई और पहले 6 घंटों में ही यह देखने को मिला कि पहले तीन दिनों वायरस के टिश्यू का लोड हर 6 घंटे में डबल हो रहा था।

हालांकि जिन टिश्यू में राइनो वायरस की मौजूदगी थी उनमें सारस कॉव 2 के डबल होने की क्षमता बिल्कुल खत्म हो चुकी थी। अगर एंटी वायरल डिफेंस ब्लॉक हो जाता है तो यह वायरस ( सारस कोव 2 ) उन एयर वे टिश्यू में भी डबल हो सकता है जिनमें पहले राइनो वायरस की मौजूदगी थी। इस लिए इस रिसर्च को ध्यान में रख कर स्टडीज इस नतीजे पर पहुंची कि अगर आपके बॉडी टिश्यू के अंदर राइनो वायरस की मौजूदगी है तो आप कोविड से सुरक्षित रह सकते हैं अर्थात् कॉमन कोल्ड हमें कोरोना वायरस से बचा पाने में सक्षम है। 

लेकिन इस स्टडी को पढ़ कर अगर आप भी यह सोच रहे हैं कि अगर आपको कॉमन कोल्ड है तो इस का मतलब यह बिल्कुल भी नहीं है कि अब आप लापरवाही बरतेंगे, आप को सरकार द्वारा जारी की गई सभी गाइडलाइंस का पालन जरूर करना चाहिए। बाहर कम से कम निकलना चाहिए और अगर आपको बाहर किसी कारण वश निकलना भी पड़ता है तो आपको अपने मुंह पर डबल मास्क या सिंगल मास्क का प्रयोग जरूर करना चाहिए। हाथों को बाहर की चीज छूने के बाद सेनिटाइज करना चाहिए और घर आने के बाद किसी अच्छे हैंड वाश द्वारा हाथों को कई देर तक धोना चाहिए। याद रखें अभी तक खतरा टला नहीं है।

यह भी पढ़ें-

ई संजीवनी ओपीडी एप को किस प्रकार प्रयोग करें

मास्क से जुड़ी बातें जो आपको जानना बहुत जरूरी है